बड़ी खबर! अब रेलवे की इस सरकारी कंपनी में हिस्सा बेचेगी सरकार, जानिए क्या है प्लान

इरकॉन इंटरनेशनल लिमिटेड में अपनी 15 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का प्लान बना रही है.
इरकॉन इंटरनेशनल लिमिटेड में अपनी 15 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का प्लान बना रही है.

केंद्र सरकार रेलवे इंजीनियरिंग कंपनी इरकॉन इंटरनेशनल लिमिटेड में अपनी 15 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का प्लान बना रही है. ये स्टेक ऑफर फॉर सेल (OFS) के जरिए बेचे जाएंगे. सरकार के पास फिलहाल इरकॉन इंटरनेशनल लिमिटेड की 89.18 फीसदी हिस्सेदारी है.

  • Share this:
नई दिल्ली: केंद्र सरकार रेलवे इंजीनियरिंग कंपनी इरकॉन इंटरनेशनल लिमिटेड में अपनी 15 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का प्लान बना रही है. ये स्टेक ऑफर फॉर सेल (OFS) के जरिए बेचे जाएंगे. सरकार के पास फिलहाल इरकॉन इंटरनेशनल लिमिटेड की 89.18 फीसदी हिस्सेदारी है, जिसमें से सरकार 15 फीसदी हिस्सा बेचने का प्लान बना रही है. कंपनी के एक अधिकारी ने इस बारे में जानकारी दी है. बता दें इरकॉन इंटरनेशनल सरकारी इंजीनियरिंग एंड कंस्ट्रक्शन कंपनी है.

दिसंबर तक आएगा OFS
एक अधिकारी ने बताया कि हम बाजार परिस्थितियों को देखते हुए दिसंबर तक इरकॉन का ओएफएस (OFS) लाने की योजना बना रहे हैं. इसके जरिए कंपनी की 10 से 15 प्रतिशत हिस्सेदारी बेची जाएगी. रेलवे इंजीनियरिंग कंपनी इरकॉन 2018 में शेयर बाजारों में लिस्ट हुई थी. कंपनी ने उस समय IPO के जरिS 467 करोड़ रुपए जुटाए थे.

यह भी पढ़ें: रेलवे ने कैंसिल की ये ट्रेनें सफर से पहले चेक करे अपना गाड़ी नंबर, कई ट्रेनें डायवर्ट, देखें लिस्ट
2.10 लाख करोड़ रुपए जुटाएगी सरकार


बीएसई में शुक्रवार को इरकॉन का शेयर 77.95 रुपए पर बंद हुआ. मौजूदा बाजार मूल्य के हिसाब से सरकार इरकॉन में 15 फीसदी हिस्सेदारी बेचकर 540 करोड़ रुपए जुटा सकती है. सरकार ने चालू वित्त वर्ष में विनिवेश से 2.10 लाख करोड़ रुपए जुटाने का लक्ष्य रखा है.

CPSE से 1.20 करोड़ रुपए जुटाएगी सरकार
सरकार का इरादा केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रमों (CPSE) में हिस्सेदारी बिक्री से 1.20 लाख करोड़ रुपए और वित्तीय संस्थानों में हिस्सेदारी बिक्री से 90,000 करोड़ रुपए जुटाने का लक्ष्य है.

महामारी की वजह से BPCL हिस्सेदारी बेचने में हुई देर
आपको बता दें अब तक इस वित्तीय वर्ष में, सीपीएसई में 6,138 करोड़ रुपए की हिस्सेदारी बेची गई है क्योंकि COVID-19 महामारी ने भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL) जैसे बड़े टिकट विनिवेश में भी देरी की है.

सरकार बना रही ये प्लान भी
इसके अलावा सरकार शेयरों की बिक्री के लिए इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्प लिमिटेड (IRCTC) और रेल विकास निगम लिमिटेड (RVNL) में हिस्सेदारी बेचने की प्रक्रिया में भी है.

यह भी पढ़ें: इस महीने 1633 रुपये महंगा हुआ सोना, जानिए धनतेरस तक कितना रहेगा भाव

जानिए कंपनी के बारे में
इरकॉन इंटरनेशनल सरकारी इंजीनियरिंग एंड कंस्ट्रक्शन कंपनी है. कंपनी इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट, रोड, हाईवे, फ्लाईओवर, टनेल, एयरक्रॉफ्ट मेंटिनेंस, कमर्शियल और रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी के निर्माण, रनवे, इलेक्ट्रिकल, मकैनिकल और औद्योगिक क्षेत्रों के विकास के काम में है. कंपनी की प्रेजेंस विदेशों में भी है, जहां कंपनी लगातार अपना मार्केट बढ़ाने पर जोर दे रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज