• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • बढ़ते रहेंगे LPG सिलेंडर के दाम, सब्सिडी खत्म करने के लिए सरकार ने लिया ये फैसला!

बढ़ते रहेंगे LPG सिलेंडर के दाम, सब्सिडी खत्म करने के लिए सरकार ने लिया ये फैसला!

5 किलो वाला छोटा गैस सिलेंडर का कनेक्शन बिना किसी एड्रेस प्रूफ के ले सकेंगे.

5 किलो वाला छोटा गैस सिलेंडर का कनेक्शन बिना किसी एड्रेस प्रूफ के ले सकेंगे.

केंद्र सरकार ने वित्त वर्ष 2022 के लिए पेट्रोलियम सब्सिडी के बजट को घटा दिया है. दूसरी ओर उज्जवला स्कीम के तहत लाभार्थियों की संख्या बढ़ाने का भी ऐलान किया है. दरअसल, सरकार एलपीजी पर सब्सिडी को पूरी तरह से खत्म करने की दिशा में बढ़ रही है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. वित्त मंत्रालय (Ministry of Finance) ने वित्त वर्ष 2022 के लिए पेट्रोलियम सब्सिडी को घटाकर 12,995 करोड़ रुपये कर दिया है. सब्सिडी बजट में यह कटौती तब की गई है, जब सरकार ने उज्ज्वला योजना के तहत एक करोड़ लाभार्थियों को जोड़ने की भी बात कही है. दरअसल, सरकार को उम्मीद है कि एलपीजी सिलेंडर (LPG Cylinder) की कीमतों में इजाफा करने से उस पर ​सब्सिडी का बोझ कम होगा. मिंट की एक रिपोर्ट में सरकारी अधिकारी के हवाले से कहा गया है कि सरकार सब्सि​डी को खत्म करने की दिशा में बढ़ रही है. यही कारण है केरोसिन तेल और एलपीजी के दाम में लगातार इजाफा देखने को मिल रहा है. यह अगले वित्त वर्ष में भी जारी रहेगा.

    अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल (Crude Oil) के दाम बढ़ने के साथ-साथ पेट्रोलियम उत्पादों के दाम भी बढ़ रहे हैं. हालांकि, कुकिंग गैस का सीधा संबंध कच्चे तेल के दाम में बढ़ोतरी से नहीं है. पिछले साल भी कुकिंग गैस के दाम में लगातार इजाफा देखने को मिला था. पेट्रोल के दाम में इजाफे की तुलना में देखें तो यह कम है. अगले साल भी कुछ ऐसी ही स्थिति देखने को मिल सकती है.

    खुदरा ईंधन विक्रेता ही एलपीजी सिलेंडर्स के दाम को रिवाइज करते हैं. प्रमुख तौर पर यह एलपीजी के अंतरराष्ट्रीय बेंचमार्क और डॉलर के मुकाबले रुपये के एक्सचेंज रेट पर निर्भर करता है.

    यह भी पढ़ें:  PM-Kisan: करीब 33 लाख अयोग्य किसानों को मिला पीएम-किसान का पैसा, जानिए कब से जारी होगी 8वीं किस्त

    पेट्रोल-डीज़ल के दाम हर रोज रिवाइज करने से कम हुआ वित्तीय बोझ
    बता दें कि 1 जनवरी 2015 से पेट्रोल-डीज़ल के भाव को प्रतिदिन के हिसाब से रिवाइज किया जाता है. इससे सरकार पर पेट्रोलियम सब्सिडी को लेकर वित्तीय बोझ कम करने में मदद मिली है. अब यह केरोसिन और एलपीजी को लेकर ही है. सरकार ने एलपीजी के लिए डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के तहत सीधे लाभार्थियों के खाते में सब्सिडी की रकम भेजती है, ज​बकि केरोसिन को पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम के जरिए रियायती दर पर बेचा जाता है.

    सरकार को कितना फायदा हुआ?
    15वें वित्त आयोग की रिपोर्ट में कहा गया है, ‘इन उपायों के बाद देखें तो पेट्रोलियम सब्सिडी के जरिए राजस्व प्राप्ति 2011-12 के 9.1 फीसदी की तुलना में घटकर वित्त वर्ष 2018-19 में यह 1.6 फीसदी पर आ गई है. इस दौरान जीडीपी के हिसाब से यह 0.8 फीसदी से घटकर 0.1 फीसदी पर आ गया है. 2011-12 में केरोसिन सब्सिडी 28,215 करोड़ रुपये थी जोकि वित्त वर्ष 2020-21 के बजट अनुमान में घटकर 3,659 करोड़ रुपये पर आ चुकी है.’

    यह भी पढ़ें: LPG Gas कनेक्शन लेने पर सरकार देगी 1600 रुपए, जानें कैसे आप भी ले सकते हैं ये बड़ा फायदा

    उज्ज्वला स्कीम के बाद कम किया जा सकता है सब्सिडी का बोझ
    वित्त आयोग ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि उज्ज्वला स्कीम से एलपीजी सब्सिडी का बोझ बढ़ सकता है. लेकिन, सब्सिडी स्कीम को गरीब वर्ग तक ही सीमित रखा जाता है या सब्सिडी वाले सिलेंडरों की संख्या का कैप कर इस बोझ को कम किया जा सकता है. बता दें कि उज्ज्वला स्कीम को 1 मई 2016 को लॉन्च किया गया था ताकि ​महिलाओं और बच्चों के स्वास्थ्य को सुरक्षित किया जा सके. वर्तमान में इस स्कीम के तहत गरीब रेखा से नीचे जीवनयापन करने वाले परिवारों को एलपीजी गैस कनेक्शन के लिए 1,600 रुपये दिए जाते हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज