लाइव टीवी
Elec-widget

चीन को झटका दे सकती है सरकार! आसान नहीं होगा भारत में इस चीज का निर्यात

भाषा
Updated: November 25, 2019, 4:49 PM IST
चीन को झटका दे सकती है सरकार! आसान नहीं होगा भारत में इस चीज का निर्यात
चीन से आयात होने वाले नाइलोन टायर कोर्ड फेब्रिक पर एंटी डंपिंग ड्यूटी जारी रख सकती है.

केन्द्रीय वाणिज्य मंत्रालय (Ministry of Commerce) ने चीन से आयात किए जाने वाले नाइलोन टार कोर्ड फेब्रिक पर एंटी-डंपिंग ड्यूटी (Anit-Dumping Duty) जारी रख सकती है.

  • Share this:
नई दिल्ली. वाणिज्य मंत्रालय (Minsitry of Commerce) ने चीन से आयात (Import from China) होने वाले नाइलोन टायर कोर्ड फेब्रिक (Nylon Tyre Cord Fabric) पर मौजूदा डंपिंग रोधी शुल्क (Anti-Dumping Duty) जारी रखने की आवश्यकता की समीक्षा को लेकर जांच शुरू की है. मंत्रालय ने घरेलू उद्योग से मिली शिकायतों के बाद यह कदम उठाया है.

एंटी डंपिंग शुल्क जारी रखने की सिफारिश
एसोसएिशन ऑफ सिंथेटिक फाइबर इंडस्ट्री (Association of Synthetic Fibre Industry) ने अपने सदस्यों ने चीन से नाइलोन टायर कोर्ड फैब्रिक के आयात पर डंपिंग रोधी शुल्क जारी रखने की सिफारिश की है. इस इंडस्ट्री के सदस्यों में एसआरएफ लिमिटेड (SRF Limited) और सेंचुरी एंका लिमिटेड (Century Enka Limited) शामिल हैं.

ये भी पढ़ें: 100 रुपये बचाकर ऐसे करें मोटी कमाई, बढ़ते मंहगाई की भी नहीं होगी चिंता


चीनी कंपनियों द्वारा भारत में डंपिंग की संभावना
मंत्रालय की जांच इकाई व्यापार उपचार महानिदेशालय (DGTR) की एक अधिसूचना के अनुसार आवेदनकर्ताओं ने साक्ष्य पेश किया है कि चीनी कंपनियां (Chinese Companies) भारत में डंपिंग कर सकती हैं.
Loading...

पहली बार 2015 में नाइलोन टायर कोर्ड फेब्रिक पर लगा था एंटी डंपिंग ड्यूटी
अधिसूचना के अनुसार, ‘‘प्राधिकरण ने शुल्क जारी रखने की जरूरत की समीक्षा को लेकर जांच शुरू की है.’’ जांच की अवधि जुलाई 2018 से जून 2019 होगी. इसके तहत 2016-19 की अवधि के आंकड़ों का विश्लेषण किया जाएगा. इस उत्पाद पर शुल्क पहली बार अप्रैल 2015 में लगाया गया. बाद में जून 2015 में इसे फिर से पांच साल के लिये लगाया गया.

ये भी पढ़ें: रोजाना बढ़ रही है इस प्रोडक्ट की डिमांड, कम पैसों में शुरू करें ये खास बिजनेस होगी अच्छी कमाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 25, 2019, 4:49 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com