होम /न्यूज /व्यवसाय /

रुपये में अस्थिरता दूर करने और राजकोषीय घाटा कम करने के लिए सरकार हुई सक्रिय

रुपये में अस्थिरता दूर करने और राजकोषीय घाटा कम करने के लिए सरकार हुई सक्रिय

रूस-यूक्रेन जंग के बाद से ही कच्‍चे तेल सहित सभी कमोडिटी की कीमतों में भारी उछाल आया है.

रूस-यूक्रेन जंग के बाद से ही कच्‍चे तेल सहित सभी कमोडिटी की कीमतों में भारी उछाल आया है.

भारतीय करंसी (Indian Rupee) में हो रहे उतार-चढ़ाव से सरकार भी चिंतित है. रुपये के गिरने की वजह से देश का आयात बिल बढ़ता जा रह है. अब सरकार ने रुपये में जारी अस्थिरता दूर करने और राजकोषीय घाटे (Fiscal Deficit) को कम करने के लिए कमर कस ली है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. रुपये में लगातार गिरावट आने और बढ़ते राजको‍षीय घाटे से सरकार चिंतित है. अब सरकार रुपये आई अस्थि‍रता को दूर करने और बढ़ते राजकोषीय घाटे पर लगाम लगाने के लिए सक्रिय हो गई है. मिंट की एक रिपोर्ट के मुताबिक, रॉयटर्स को उच्‍च पदस्‍थ सरकारी अधिकारी ने बताया है कि सरकार हर हाल में राजकोषीय घाटे को वित्त वर्ष 2022-23 में कुल जीडीपी का 6.4 फीसदी रखने पर प्रतिबद्ध है.

वैश्विक चुनौतियों से निपटने के लिए भारत के मैक्रोइकॉनॉमिक फंडामेंटल मजबूत हैं. इसी को देखते हुए सरकार को विश्‍वास है कि वह राजकोषीय घाटे में बढ़ोतरी पर लगाम लगा लेगी. अधिकारी ने बताया कि सरकार अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में कच्‍चे तेल कीमतों में हुई वृद्धि से निपटने के लिए भी कदम उठा रही है. भारत अपनी कच्‍चे तेल की कुल खपत का 85 फीसदी आयात ही करता है. अब रुपया कमजोर होने से आयात बहुत महंगा पड़ रहा है.

ये भी पढ़ें-   ब्लिंकिट के अधिग्रहण के बाद 20 फीसदी से ज्यादा टूटा जोमैटो का शेयर, अब क्या करें निवेशक?

कमोडिटी कीमतों में उछाल से दबाव
रूस-यूक्रेन जंग के बाद से ही कच्‍चे तेल सहित सभी कमोडिटी की कीमतों में भारी उछाल आया है. इससे भारत सहित विश्‍व के सभी देशों में महंगाई काफी बढ़ गई है. आयात बिल बढ़ने से भारतीय करंसी पर लगातार दबाव बना हुआ है और इसमें गिरावट आ रही है. सोमवार को भी भारतीय रुपया बढ़त के साथ 78.97 पर खुला था. लेकिन इंट्रा डे में इसमें गिरावट आ गई और यह 79.06 पर जा पहुंचा. कारोबार के अंत में यह अपने पिछले स्‍तर 78.94 पर ही बंद हुआ. वहीं डॉलर इंडेक्‍स भी सोमवार को छह करेंसीज के बॉस्‍केट के मुकाबले मजबूती के साथ खुला. परंतु बाद में 0.13 फीसदी गिरकर 104.99 रुपये पर पहुंच गया.  इसी तरह ब्रेंट क्रूड फ्यूचर भी सोमवार को 0.26 फीसदी गिरकर 111.34 अमेरिकी डॉलर पर पहुंच गया.

ये भी पढ़ें-   रेस्टोरेंट में अब नहीं देना होगा जबरन सर्विस चार्ज, CCPA ने जारी की गाइडलाइंस

एफआईआई बने बिकवाल
रुपये में गिरावट और भू-राजनीतिक तनाव से भारतीय शेयर बाजारों से विदेशी संस्‍थागत निवेशकों की बिकवाली जारी है. पिछले शुक्रवार को भी एफआईआई ने भारतीय बाजारों से 2324.74 करोड़ रुपये निकाल लिए. वहीं 24 जून को समाप्‍त हुए सप्‍ताह में भारत का विदेशी मुद्रा भंडार में बढ़ोतरी हुई और यह 2.734 बिलियन डॉलर से बढ़कर 593.323 बिलियन डॉलर हो गया. गौरतलब है कि भारतीय रिजर्व बैंक के हस्‍तक्षेप के बाद ही लगातार तीन सप्‍ताह तक भारत का विदेशी मुद्रा भंडार लगातार तीन सप्‍ताह तक गिरने के बाद पिछले सप्‍ताह ही बढ़ा है.

Tags: Business news, Economy, Fiscal Deficit, Rupee weakness

अगली ख़बर