मिनी रत्न 1 का दर्जा रखने वाली इस कंपनी में हिस्सेदारी बेचेगी सरकार, 550 करोड़ रुपये जुटाने की योजना

Mazagon Dock सबमरीन और शिप​बिल्डिंग की सरकारी कंपनी है.
Mazagon Dock सबमरीन और शिप​बिल्डिंग की सरकारी कंपनी है.

डिफेंस​ सेक्टर की शि​पब्लिडिंग कंपनी Mazagon Dock का IPO इस महीने लॉन्च होने वाला है. रक्षा मंत्रालय के अंतर्गत आने वाली इस कंपनी में 15 फीसदी हिस्सेदारी बेचकर 400 से 550 करोड़ रुपये जुटाने की योजना है. 29 सितंबर को इसका आईपीओ लॉन्च होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 24, 2020, 12:34 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र सरकार ​रक्षा मंत्रालय (Ministry of Defence) के अंतर्गत आने वाली डिफेंस कंपनी Mazagon Dock में IPO के जरिए 15 फीसदी हिस्सेदारी कम करेगी. IPO  के लिए प्राइस बैंड 135-145 रुपये प्रति शेयर्स तय किया गया है. CNBC-TV18 को सूत्रों से इस बारे में जानकारी मिली है. इस सरकारी डिफेंस कंपनी का IPO  29 सितंबर 2020 को जारी किया जाएगा जोकि 1 ​अक्टूबर तक के लिए खुला रहेगा. एक अनुमान के मुताबिक, Mazagon Dock Shipbuilders के IPO के जरिए 400-550 करोड़ रुपये जुटाने की योजना है. यह कंपनी की पहली आईपीओ होगी.

2006 में मिला था मिनी रत्न का दर्जा
Mazagon Dock Shipbuilders केंद्र सरकार की डिफेंस पब्लिक सेक्टर कंपनी है जोकि रक्षा मंत्रालय के डिफेंस प्रोडक्शन विभाग (Department of Defence Production) के अधीन है. क्रिसिल रिपोर्ट के मुताबिक, इस कंपनी के पास अधिकतम शिपबिल्डिंग और सबमरीन क्षमता 40,000 DWT की है. यह कंपनी वॉरशिप्स और सबमरीन के कंस्ट्रक्शन और रिपेयर का काम करती है. इसके लिए कॉमर्शियल क्लाइंट्स के लिए भी यह कंपनी अपनी सर्विसेज देती है. साल 2006 में इस कंपनी को 'Mini-ratna-I' का दर्जा दिया गया था.


यह भी पढ़ें: बैंक खाते से पैसों की चोरी होने पर आपको क्या करना है, ताकि पैसे वापस आ जाएं? RBI ने दी इसकी पूरी जानकारी



पिछले साल ही आने वाला था IPO
यह भारत की इकलौती कंपनी है तो इंडियन नेवी (Indian Navy) के लिए डिस्ट्रॉयर्स और पारंपरिक सबमरीन का निर्माण करती है. इसके लिए यह पहली शिपयार्ड कंपनी है, जिसने भारत में Corvettes (वीर और खुकरी क्लास) बनाती है. दरअसल, Mazagon Dock का IPO पिछले साल सितंबर महीने में लॉन्च किया जाना था, लेकिन कम डिमांड की वजह से इस प्लान को टाल दिया गया था.

वित्त वर्ष 2020 में कंपनी का मुनाफा 415 करोड़ रहा, जबकि कुल रेवेन्यू 5,566 करोड़ रुपये था. जून 2019 तक Mazagon Dock के पास 54,282 करोड़ रुपये का ऑर्डर बुक था.

इस साल IPO लाने वाली इकलौती सरकारी कंपनी
इस साल यह 11वां IPO होगा. हालांकि, 2020 में IPO लाने वाली यह पहली सरकारी कंपनी होगी. इसके पहले एसबीआई कार्ड, रोजरी बायोटेक, माइंडस्पेस बिजनेस पार्क्स आरईआईटी, ​हैपिएस्ट माइंड्स टेक्नोलॉजी और रूट मोबाइल ने आईपीओ लॉन्च किया था. कम्प्युट एज मैनेजमेंट सर्विसेज और केमकॉन स्पेशिलिटी केमिकल्स के आईपीओ का इश्यू डेट 23 सितंबर को खत्म हो चुका है. आज यानी 24 सितंबर को एजेंल ब्रोकिंग के आईपीओ का अंतिम दिन है. जबकि, लिखिथा इन्फ्रास्ट्रक्चर और यूटीआई एएमसी का आईपीओ 29 सितंबर को खुलेगा.

यह भी पढ़ें: इनकम टैक्स से जुडे़ बिल को संसद से मिली मंजूरी, आपको होंगे ये फायदें

इस साल अधिकतर इश्यू के लिए प्रमुख मैनेजर्स के तौर येस सिक्योरिटीज (इंडिया), एक्सिस कैपिटल, एडेलवाइज फाइनेंशियल सर्विसेज, आईडीएफसी सिक्योरिटीज और जेएम फाइनेंशियल रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज