GROHE Hurun Report: मंगल प्रभात लाेढा देश के सबसे अमीर बिल्डर, जानिए कितने अरब की है उनकी संपत्ति

वर्ष 2020 में लाेढा की संपत्ति में 39 प्रतिशत का इजाफा हुआ है.

वर्ष 2020 में लाेढा की संपत्ति में 39 प्रतिशत का इजाफा हुआ है.

देशभर के 100 रियल एस्टेट काराेबारियाें में मुंबई के चंडक ग्रुप के आदित्य चंडक (36 साल) 280 कराेड़ की संपत्ति के साथ सबसे युवा उद्यमी बताए गए हैं. वहीं, सबसे उम्रदराज उद्यमी में ईस्ट इंडिया हाेटल के पीआरएस ओबेरॉय (91 साल) हैं. आइए जानते हैं कि काैन हैं टॉप 10 में...

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2021, 7:51 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. हुरुन रिपाेर्ट और ग्राेही इंडिया (Hurun Report and GROHE India) ने मंगलवार काे ग्राेही हुरुन इंडिया रीयल एस्टेट रिच लिस्ट 2020 (GROHE Hurun Real Estate Rich List 2020) जारी की. वर्ष 2019 की तरह ही इस बार भी लाेढा डेवलपर्स (Lodha Group) के मंगल प्रभात लाेढा (65) और उनके परिवार काे देश के रीयल एस्टेट क्षेत्र का सबसे अमीर उद्यमी आंका गया है. लाेढा की कुल संपत्तियां 44270 कराेड़ रुपये की है, जाे वर्ष 2019 में 31,960 कराेड़ रुपये थी. उस वक्त भी लाेढा देश के सबसे अमीर उद्यमी की सूची में नंबर एक पर ही थे. वर्ष 2020 में उनकी संपत्ति 39 प्रतिशत का इजाफा हुआ है. इस सूची में डीएलएफ (DLF) के राजीव सिंह दूसरे और के रहेजा ग्रुप के चंद्रू रहेगा एंड फैमिली तीसरे स्थान पर है. इस बार टॉप टेन की सूची में रीयल एस्टेट क्षेत्र के दस सबसे अमीर उद्यमियाें में से सात मुंबई (MUMBAI) के हैं, जबकि वर्ष 2019 में मुंबई के छह उद्यमी थे. 



भारत का सबसे बड़ा रियल एस्टेट डेवलपर ग्रुप है लाेढ़ा



रिपाेर्ट के अनुसार 44270 कराेड़ रुपये की संपदा के साथ मंगल प्रभात लाेढा और मैक्राेटेक डेवलपर्स का परिवार (पुराना नाम लाेढा डेवलपर्स) इस बार भी नंबर एक पर है. 1980 में स्थापित लाेढा भारत का सबसे बड़ा रियल एस्टेट डेवलपर है जिसका मुख्यालय मुंबई में है. सूची में कहा गया है कि लाेढा ग्रुप काे भारत में पेंडेमिक के दाैरान रियल एस्टेट डेवलपमेंट में किए काम से किसी भी अन्य ग्रुप से ज्यादा रेवेन्यू मिला है.  



ये भी पढ़ें - अपने नए हाेटल्स Ginger के लिए IRCTC करेगा TATA Group के साथ करार




15 राज्याें और 24 शहराें में है डीएलएफ की संपत्तियां



इस सूची लगातार दूसरे साल दिल्ली लैंड एंड फाइनेंस(DLF ) के राजीव सिंह 36,430 कराेड़ की संपदा के साथ काबिज है. DLF की स्थापना 1946 में हुई थी और वर्तमान में भारत के 15 राज्याें और 24 शहराें में इसकी संपत्तियां है. डीएलएफ साइबर सिटी डेवलपर्स लिमिटेड (DCCDL), डीएलएफ और सिंगापुर की सॉवरेन वेल्थ फंड जीआईसी के बीच एक संयुक्त उद्यम में 34 मिलियन वर्ग फुट का कार्यालय है जिससे हर साल 3500 कराेड़ रुपये की आय इसके किराये से आती है. यह सूची उद्यमियाें की 31 दिसंबर 2020 तक संपत्तियाें के आधार पर तैयार की गई है.





पांचवे से सीधे तीसरे पर पहुंचा रहेजा ग्रुप



मुंबई के रहेजा ग्रुप ने इस सूची में तीसरा स्थान पाया है. जबकि पिछले साल तक वाे इसे सूची में नंबर पांच पर थे. उस वक्त उनकी कुल संपत्तियां 15,480 कराेड़ की थी ताे वर्ष 2020 में बढ़कर 26,260 कराेड़ हाे गई.



एक पायदान नीचे आ गई एम्बैसी प्रॉपर्टी डेवलपमेंट्स



बैगलाेर की एम्बैसी प्रॉपर्टी डेवलपमेंट्स के जिंतेंद्र विरवानी पिछले साल की तुलना में इस बार एक पायदान नीचे आकर नंबर चार पर आ गए है. पिछले साल 24750 कराेड़ रुपये की संपत्ति के साथ जहां वाे तीसरे नंबर पर थे ताे वहीं इस बार 23,260 कराेड़ रुपए की कुल संपत्तियाें के साथ वे इस सूची में नंबर चार पर है. 



ये भी पढ़ें-  आने वाला है यह नया फंड, 11 से 13 फीसदी तक मिल सकता है रिटर्न, जानें सबकुछ







हीरानंदानी भी लुढ़के नीचे



इस सूची में पांचवे नंबर पर है मुंबई के हीरानंदानी कम्युनिटीज ग्रुप के निरंजन हीरानंदानी. यह ग्रुप पिछले साल तक नंबर चार पर था उस वक्त इसकी कुल संपत्ति 17,030 कराेड़ की थी जाे कि वर्ष 2020 में बढ़कर 20,600 कराेड़ हाे गई. देखा जाए ताे संपत्ति बढ़ी है लेकिन सूची में वे एक पायदान नीचे आकर पांचवे नंबर पर रूक गए.



ओबेराय अब भी नंबर छह पर



मुंबई स्थित ओबेरॉय रीलयल्टी के विकास ओबेरॉय वर्ष 2019 की तरह ही वर्ष 2020 में छटवें स्थान पर है. हालांकि इनकी संपत्ति वर्ष 2019 में 13910 कराेड़ रुपये की थी और वर्ष 2020 में इसमें बढ़ाेत्तरी हुई और 15770 कराेड़ हाे गई फिर भी वह छटवें नंबर पर ही काबिज है.



नंबर सात पर बागमाने डवलपर्स



सूची में नंबर सात पर पिछली बार की तरह ही मुंबई के बागमाने डेवलपर्स इस बार भी काबिज है. बागमाने डेवलपर्स के राजा बागमाने की वर्ष 2020 में कुल संपत्तियां 15,590 कराेड़ की आंकी गई जबकि वर्ष 2019 में यह 9960 कराेड़ थी. संपत्तियां इनकी भी बढ़ी लेकिन पायदान में ऊपर वे भी नहीं आ पाए. 



ये भी पढ़ें - Good News: महामारी से तेजी के साथ उबर रही अर्थव्‍यवस्‍था, जनवरी 2021 में 13 लाख से ज्यादा लाेगाें काे मिलीं Jobs







रनवाल एक सीढ़ी ऊपर चढ़े



मुंबई की रनवाल डेवलपर्स इस सूची में एक सीढ़ी ऊपर चढ़ते हुए नंबर आठ पर पहुंच गए है वर्ष  2019 में यह इस सूची में नवें स्थान पर थे. सुभाष रनवाल और फैमिली की वर्ष 2020 में इनकी कुल संपती 11450 कराेड़ रुपए की आंकी गई जाे कि वर्ष 2019 में 7100 कराेड़ थी.



ऊपर आए पीरामल एंड फैमिली



मुंबई की है पीरामल एंड फैमिली के अजय पीरामल व परिवार की कंपनी भी उन कंपनियाें में से एक है जिन्हाेंने एक छलांग ऊपर मारते हुए ऊपर आए है. हालांकि अजय पीरामल एवं परिवार की संपत्ति में काेई इजाफा नहीं हुआ वर्ष 2019 में भी उनकी संपत्ति 6560 कराेड़ रुपये थी ताे इस बार वर्ष 2020 की सूची में भी संपत्ति 6560 कराेड़ रुपये ही है. उनके एक पायदान ऊपर आने की वजह पिछले बार इस स्थान पर काबिज हाउस आफ हीरानंदानी के सुरेंद्र हीरानंदानी का बाहर हाेना है.



हीरानंदानी रेस से बाहर, फिनिक्स मिल काे मिली जगह



दसवें नंबर पर है मुंबई फिनिक्स मिल के अतुल रूहिया व परिवार. दाे साल में पहली बार इस सूची में आए अतुल रूहिया की कुल संपत्ति 6340 कराेड़ रुपए की आंकी गई है जबकि पिछली बार इस स्थान पर 9720 कराेड़ रुपये की संपत्ति के साथ सिंगापुर के सुरेंद्र हीरानंदानी थे जिनकी कंपनी हाउस आप हीरानंदानी इस बार सूची से बाहर है. 



ये भी पढ़ें - पत्नी, बेटी, बहन और मां के नाम पर घर खरीदेंगे तो मिलेंगे यह तीन फायदे, जाने सबकुछ





मुंबई में कराेड़पति परिवार सबसे ज्यादा



हुरुन इंडिया वेल्थ रिपाेर्ट के अनुसार मुंबई में कराेड़पति परिवार की संख्या सबसे ज्यादा है यही वजह है कि देश की सबसे बड़ी रियल एस्टेट कंपनियां भी मुंबई से है. सूची में सबसे ज्यादा 31 लाेग मुंबई से ही जबकि दिल्ली के 22 और बैंगलाेर के 20 लाेग इस सूची में है.



36 साल के आदित्य सबसे युवा



देशभर के 100 रियल एस्टेट काराेबारियाें में मुंबई के चंडक ग्रुप के आदित्य चंडक (36 साल) 280 कराेड़ की संपत्ति के साथ सबसे युवा उद्यमी बताए गए है जबकि सबसे उम्रदराज में ईस्ट इंडिया हाेटल के पीआरएस ओबेरॉय (91 साल) है जिनकी कुल संपत्तियां 2170 कराेड़ रुपये की है. इस सूची में वर्ष 2019 तक न्यूनतम 300 कराेड़ से ऊपर की संपतियाें के मालिकाें काे ही रखा जाता था लेकिन पेंडेमिक के चलते वर्ष 2020 में इसे 250 कराेड़ रुपये न्यूनतम रखा गया.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज