महीने भर का लॉकडाउन लगा तो 2% तक घट सकती है जीडीपी

सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर 10 प्रतिशत से अधिक रह सकती है.

सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर 10 प्रतिशत से अधिक रह सकती है.

अमेरिकी ब्रोकरेज कंपनी बोफा सिक्योरिटीज (US brokerage company BofA Securities)GDP की वृद्धि दर कम होने से राजकोषीय जोखिम भी बढ़ेगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. अर्थव्यवस्था (Economy) की रिकवरी के बीच एक बार फिर कोरोनावायरस (Covid-19)फिर से देश में पैर पसारने लगा है. ऐसे में संक्रमण को सीमित करने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर एक माह का लॉकडाउन लगाया जाता है, तो सकल घरेलू उत्पाद (GDP, जीडीपी) 2 प्रतिशत तक घट सकती है.

अमेरिकी ब्रोकरेज कंपनी बोफा सिक्योरिटीज ने यह अनुमान जताया है. बोफा सिक्योरिटीज के मुताबिक संक्रमण के मामले छह गुना बढ़कर 1.03 लाख पर पहुंच गए हैं. राज्य सरकारों ने इसकी प्रतिक्रिया में अभी स्थानीय स्तर पर सीमित लॉकडाउन लगाया है. लेकिन यदि राष्ट्रीय स्तर पर लॉकडाउन घोषित होता है, तो यह ‘आखिरी रास्ता’ होगा. इससे अर्थव्यवस्था वृद्धि की प्रक्रिया पर गहरा असर पड़ सकता है. अर्थव्यवस्था की रिकवरी अभी ‘हल्की’ है. इस स्थिति के बाद भी लॉकडाउन लगाया जाता है, तो वार्षिक जीडीपी में एक से दो प्रतिशत की कमी आएगी. ऐसा होता है तो इससे राजकोषीय जोखिम भी बढ़ेगा.

यह भी पढें : नौकरी की बात: वर्क फ्रॉम होम के चलते वेलनेस ऑफिसर या एम्प्लोयी एक्सपीरियंस एंड कम्युनिकेशन जैसी नई जॉब्स की डिमांड

जीडीपी वृद्धि दर 10 प्रतिशत से अधिक रह सकती है
देश में बीते वित्त वर्ष में कोविड-19 संक्रमण की वजह से लॉकडाउन लगाया गया था. यह जीडीपी में सात प्रतिशत से अधिक की गिरावट की प्रमुख वजह है. विशेषज्ञों का अनुमान है कि आधार प्रभाव की वजह से 2021-22 में सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर 10 प्रतिशत से अधिक रह सकती है. ब्रोकरेज ने कहा कि संक्रमण के मामले अपने अधिकतम स्तर को पार कर गए हैं. साथ ही उसने चेताया कि मामलों में बढ़ोतरी की रफ्तार तेज हो रही है.

यह भी पढ़ें : नौकरी की बात : अगले पांच साल में इस क्षेत्र में होंगे 7.5 करोड़ जॉब्स, बस करनी होगी यह तैयारी

कोविड-19 की जांच अभी पर्याप्त से काफी नीचे



रिपोर्ट में कहा गया है कि 2020 में जून मध्य के 10,000 के स्तर से सितंबर मध्य तक 90,000 मामले पहुंचने में तीन महीने लगे थे. इस बार इसमें सिर्फ छह सप्ताह लगे हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि कोविड-19 की जांच अभी पर्याप्त से काफी नीचे है. रिपोर्ट में स्पष्ट किया गया है कि संक्रमण में वृद्धि की वजह जांच का नहीं बढ़ना है. बोफा सिक्योरिटीज ने हालांकि, कहा है राहत की बात है कि मृत्यु दर अभी काफी कम है. सोमवार को संक्रमण से 42 लोगों की मौत हुई. यह जब मामले 97,000 के उच्चस्तर पर थे, उसकी तुलना में 42 प्रतिशत कम है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज