जानिए कौन से राज्य से बढ़ रही है और कौन से गिर रही है GST टैक्स वसूली?

लिस्ट में देखिए किस राज्य से बढ़ा और किस राज्य से गिरा जीएसटी टैक्स कलेक्शन
लिस्ट में देखिए किस राज्य से बढ़ा और किस राज्य से गिरा जीएसटी टैक्स कलेक्शन

वित्त मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक लॉकडाउन के बाद अप्रैल की तुलना में जीएसटी कलेक्शन सितंबर में 3 गुना ज्यादा रहा. सितंबर में कुल जीएसटी कलेक्शन 95.48 हजार करोड़ रुपए का रहा, जो अगस्त के मुकाबले 10.4% अधिक है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 3, 2020, 2:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) के आंकड़ों के मुताबिक अगस्त की तुलना में सितंबर के दौरान जीएसटी कलेक्शन (GST Collection) 10.4 फीसदी बढ़ गया है. अगस्त में 86 हजार 449 करोड़ रुपए का जीएसटी कलेक्शन आया था. जबकि पिछले साल अगस्त की तुलना में यह 4 फीसदी ज्यादा है. ग्रॉस कलेक्शन में केंद्र सरकार का हिस्सा 17 हजार 741 करोड़ रुपए रहा है. राज्यों का हिस्सा 23 हजार 131 करोड़ रुपए रहा है. आईजीएसटी का हिस्सा 47 हजार 484 करोड़ रुपए रहा है. आपको बता दें कि जीएसटी में यह बढ़त इसलिए आई है क्योंकि हाल में अनलॉक शुरू हुआ है और साथ ही आर्थिक गतिविधियां भी रफ्तार पकड़ रही हैं. इसी के साथ अंतरराष्ट्रीय ट्रेड भी शुरू हो गया है. जीएसटी के रेवेन्यू में बढ़त से यह संकेत मिल रहा है कि बिजनेस ऑपरेशन का आउटलुक ठीक है.

सरकार की ओर से जारी आंकड़ों में बताया गया है कि 22 हजार 442 करोड़ रुपए सामानों के आयात से मिला है. 7,124 करोड़ रुपए सेस के तहत मिला है. सरकार ने इस दौरान 21 हजार 260 करोड़ रुपए सीजीएसटी के तहत सेटल किया, जबकि 16 हजार 997 करोड़ रुपए एसजीएसटी के तहत सेटल किया. रेगुलर सेटलमेंट के बाद केंद्र सरकार ने कुल 39 हजार 1 करोड़ रुपए और राज्य सरकारों ने 40 हजार128 करोड़ रुपए का कलेक्शन किया. राज्य सरकारें 5 अक्टूबर को जीएसटी काउंसिल की मीटिंग में हिस्सा लेंगी.

ये भी पढ़ें-अक्टूबर में Maruti Suzuki की इन कारों पर मिल रहा भारी डिस्काउंट, आपके पास जबरदस्त मौका



लिस्ट में देखिए किस राज्य से बढ़ा और किस राज्य से गिरा जीएसटी टैक्स कलेक्शन


कैसे बढ़ी जीएसटी वसूली-जीएसटी में यह बढ़त इसलिए आई है क्योंकि सरकार अनलॉक प्रक्रिया के तहत कई रियायतें दे रही है. इससे आर्थिक गतिविधियां भी रफ्तार पकड़ रही हैं. इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय ट्रेड भी शुरू हो गया है. जानकार मानते हैं कि जीएसटी के रेवेन्यू में बढ़त का मतलब बिजनेस ऑपरेशन का आउटलुक अब ठीक हो रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज