होम /न्यूज /व्यवसाय /आर्थिक मोर्चे पर खुशखबरी, लगातार सातवें महीने GST कलेक्शन ₹1.40 लाख करोड़ के पार

आर्थिक मोर्चे पर खुशखबरी, लगातार सातवें महीने GST कलेक्शन ₹1.40 लाख करोड़ के पार

जीएसटी कलेक्शन में आया बड़ा उछाल

जीएसटी कलेक्शन में आया बड़ा उछाल

वित्त मंत्रालय ने बताया कि सितंबर 2022 में ग्रॉस जीएसटी रेवेन्यू 1,47,686 करोड़ रुपये रहा है. यह लगातार सातवां महीना है ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

सितंबर में जीएसटी कलेक्‍शन 26 फीसदी बढ़कर 1.47 लाख करोड़ रुपये
लगातार सातवें महीने 1.40 लाख करोड़ रुपये से अधिक रहा

नई दिल्ली. आर्थिक मोर्चे पर अच्छी खबर आई है. दरअसल, जीएसटी कलेक्शन (GST Collection) के आंकड़ों में एक बार फिर उछाल आया है. वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) ने शनिवार को कहा कि सितंबर में जीएसटी कलेक्‍शन 26 फीसदी बढ़कर 1.47 लाख करोड़ रुपये से अधिक हो गया है. सितंबर महीने में सरकार के खजाने में कुल 1,47,686 करोड़ रुपये आए हैं.

सितंबर 2022 में ग्रॉस जीएसटी रेवेन्यू 1,47,686 करोड़ रुपये रहा
मंत्रालय ने एक बयान में बताया कि सितंबर 2022 में ग्रॉस जीएसटी रेवेन्यू 1,47,686 करोड़ रुपये रहा है. यह लगातार सातवां महीना है जब जीएसटी कलेक्शन 1.40 लाख करोड़ रुपये से अधिक रहा है.


वित्त मंत्रालय ने कहा कि अगस्त में कलेक्शन 1.47 लाख करोड़ रुपये से अधिक हो गया है जिसमें सीजीएसटी कलेक्शन (CGST Collection) 25,271 करोड़ रुपये, एसजीएसटी (SGST Collection) 31,813 करोड़ रुपये, आईजीएसटी (IGST Collection) 80,464 करोड़ रुपये (वस्तुओं के आयात पर एकत्रित 41,215 करोड़ रुपये सहित) और सेस 10,137 करोड़ रुपये (वस्तुओं के आयात पर एकत्र किए गए 856 करोड़ रुपये सहित) है.

" isDesktop="true" id="4677215" >

सरकार GST के तहत कुछ मामलों को अपराध की श्रेणी से बाहर लाने पर कर रही विचार
गौरतलब है कि सरकार जीएसटी के तहत कुछ मामलों को अपराध के दायरे से बाहर लाने पर काम कर रही है. इसके तहत अभियोजन चलाने को लेकर सीमा बढ़ाने के साथ समझौते वाले समाधान योग्य अपराधों के लिए दरों को कम करने पर विचार किया जा रहा है. फिलहाल जीएसटी चोरी या इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) का दुरुपयोग 5 करोड़ रुपये से अधिक होने पर गड़बड़ी करने वाली इकाई के खिलाफ अभियोजन चलाने का प्रावधान है.

GST अधिकारियों ने इंश्योरेंस कंपनियों की 824 करोड़ रुपये की टैक्स चोरी का पता लगाया
उल्लेखनीय है कि जीएसटी अधिकारियों ने 15 इंश्योरेंस कंपनियों, इंटरमेडियरीज और बैंकों की 824 करोड़ रुपये की टैक्स चोरी पकड़ी है. इन कंपनियों ने जाली बिल (इन्वॉयस) के जरिए यह टैक्स चोरी की है. अधिकारियों ने हाल ही में यह जानकारी देते हुए कहा था कि इस बारे में सूचना मिलने के बाद मुंबई में जीएसटी इंटेलिजेंस अधिकारियों ने कई इंश्योरेंस कंपनियों, इंटरमेडियरीज, मार्केटिंग/ब्रांडिंग कंपनियों, एनबीएफसी और बैंकों के परिसरों पर तलाशी अभियान चलाया.

Tags: Finance ministry, Gst, GST collection, Ministry of Finance

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें