Home /News /business /

gst govt plans to reduce slabs tax to increase on goods and services arnod

GST Rate : जीएसटी में बड़े फेरबदल की मोदी सरकार कर रही तैयारी, स्‍लैब तो घट जाएगा लेकिन दरें बढ़ेंगी!

जीएसटी की दरें बढ़ाने और स्लैब घटाने की सरकार कर रही तैयारी.

जीएसटी की दरें बढ़ाने और स्लैब घटाने की सरकार कर रही तैयारी.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जीएसटी के निचले स्लैब की दर में बढ़ोतरी हो सकती है. जबकि इसकी चार स्लैब की दर को कम कर तीन किया जा सकता है. इसके अलावा ज्यादा खपत वाले और जरूरी सामानों पर लगने वाले जीएसटी की दरों को युक्तिसंगत बनाया जाएगा. फिलहाल 480 ऐसे आइटम्स हैं जिन पर 18 फीसदी जीएसटी लगता है. कुल जीएसटी कलेक्शन का 70 फीसदी हिस्सा इसी सेगमेंट से आता है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. महंगाई की मार से पहले से हलकान आम आदमी पर सरकार टैक्स का बोझ और बढ़ा सकती है. मोदी सरकार जीएसटी (goods and services tax) की दरों में बड़े फेरबदल की तैयारी कर रही है. अगले दो साल में टैक्स रेवेन्यू बढ़ाने की योजना के तहत ऐसा किया जा सकता है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जीएसटी के निचले स्लैब की दर में बढ़ोतरी हो सकती है. जबकि इसकी चार स्लैब की दर को कम कर तीन किया जा सकता है. इसके अलावा ज्यादा खपत वाले और जरूरी सामानों पर लगने वाले जीएसटी की दरों को युक्तिसंगत बनाया जाएगा. फिलहाल 480 ऐसे आइटम्स हैं जिन पर 18 फीसदी जीएसटी लगता है. कुल जीएसटी कलेक्शन का 70 फीसदी हिस्सा इसी सेगमेंट से आता है.

12-18 फीसदी स्लैब की जगह लाया जाएगा नया स्लैब!
अभी जीएसटी के चार स्लैब हैं- 5 फीसदी, 12 फीसदी, 18 फीसदी और 28 फीसदी. मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि जीएसटी के निचले स्लैब 5 फीसदी की दर को बढ़ाकर 6-7 फीसदी किया जा सकता है. जबकि 12 फीसदी और 18 फीसदी के स्लैब को हटा कर उसकी जगह 15 फीसदी का नया स्लैब लाया जा सकता है. 28 फीसदी के स्लैब में कोई फेरबदल नहीं होगा.

निचले स्लैब की बढ़ सकती है दर
जीएसटी काउंसिल (GST Council) की अगली बैठक में इस फेरबदल पर मुहर लग सकती है. उम्मीद जताई जा रही है कि मई के तीसरे हफ्ते में काउंसिल की बैठक हो सकती है. जीएसटी के निचले स्लैब 5 फीसदी को 6-7 फीसदी और 12 फीसदी के स्लैब को 15 फीसदी किए जाने का सीधा असर आम आदमी की जेब पर पड़ेगा. इस स्लैब में ज्यादातर खाने-पीने की वस्तुएं और दवाएं शामिल हैं. हालांकि, 18 फीसदी के स्लैब को 15 फीसदी पर लाए जाने से कुछ सामानों की कीमतों में कमी आने की भी संभावना है.

ये भी पढ़ें- क्‍या है ‘Greening Of Taxation’ जिसे अपनाने की सलाह विश्‍व बैंक ने दक्षिण एशियाई देशों को दी है?

राज्यों के वित्त मंत्रियों की समिति अप्रैल के अंत तक दरों में फेरबदल की अपनी रिपोर्ट जीएसटी काउंसिल को सौंप सकती है. इसमें राजस्व बढ़ाने के लिए अलग-अलग कदमों का सुझाव भी शामिल होगा. इस समिति की अध्यक्षता कर्नाटक के मुख्यमंत्री बासवराज बोम्मई कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें- फ्यूचर रिटेल के खिलाफ शुरू हो सकती है दिवाला प्रक्रिया, कर्ज नहीं चुकाने के कारण इस बैंक ने दी याचिका

बता दें कि मार्च 2022 में जीएसटी कलेक्शन अपने रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया. इस दौरान 1,42,095 करोड़ रुपये की जीएसटी वसूली हुई है जो अब तक की सबसे ज्यादा वसूली है. जीएसटी वसूली में महाराष्ट्र पहले नंबर पर रहा है जहां 20,305 करोड़ रुपये जीएसटी से आए. दूसरे नंबर पर 9,158 करोड़ रुपये के साथ गुजरात और तीसरे नंबर पर कर्नाटक (8,750 करोड़ रुपये) रहा है. इसके बाद तमिलनाडु (8,023 करोड़), हरियाणा (6,654 करोड़) और उत्तर प्रदेश (6,620 करोड़ रुपये) का नंबर है.

Tags: Goods and services tax (GST) on sales, Gst, GST collection, GST council meeting

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर