Amazon की ज्वाइंट वेंचर कंपनी क्लाउड्टेल को जीएसटी इंटेलिजेंस ने भेजा नोटिस, 56 करोड़ की मांग

अमेजन

नई दिल्ली . Amazon की ज्वाइंट वेंचर कंपनी क्लाउड्टेल को जीएसटी इंटेलिजेंस ने नोटिस भेजा है और 56 करोड रुपए चुकाने की मांग की है. कैट भी लगातार कंपनी की जांच की मांग करता रहा है.

  • Share this:
    नई दिल्ली . Amazon की ज्वाइंट वेंचर कंपनी क्लाउड्टेल को जीएसटी इंटेलिजेंस ने नोटिस भेजा है और 56 करोड रुपए चुकाने की मांग की है. कैट भी लगातार कंपनी की जांच की मांग करता रहा है.

    सीएनबीसी-आवाज़ के असीम मनचंदा ने इस पर और जानकारी देते हुए कहा कि ब्रिटिश अखबार द गार्जियन ने खुलासा किया है कि क्लाउड्टेल को जीएसटी इंटेलिजेंस का नोटिस मिला है. साथ ही 55 करोड रुपए चुकाने की मांग की गई है. वहीं CAIT ने भी इस मामले की जांच करने की मांग की थी. इसी संबंध में पीयूष गोयल को 19 फरवरी को चिट्ठी भी लिखी थी.

    यह भी पढ़ें- Dodla Dairy का IPO कल खुलेगा, ग्रे मार्केट में इश्यू प्राइस से 180 रुपए ऊपर चल रहा

    प्रधानमंत्री से भी हस्तक्षेप की मांग
    कैट ने प्रधानमंत्री को भी चिट्ठी लिख कर ई-कॉमर्स कंपनियों की पॉलिसी वायलेशन पर रोक लगाने की मांग की है. उन्होंने लिखा है कि कंपनियां जान बूझकर पॉलिसी का उल्लंघन कर रही हैं, जिससे छोटे व्यापारियों को नुकसान उठाना पड़ रहा है.

    यह भी पढ़ें- Sona Comster IPO: दूसरे दिन 19% सब्सक्राईब, रिटेल पोर्शन 77% बुक, जानिए एक्सपर्ट्स की राय



    56 करोड़ रुपए चुकाने पड़ सकते हैं 
    इन सब के बीच अमेजॉन की ज्वाइंट वेंचर कंपनी क्लाउडटेल को बकाया टैक्स और जुर्माने के तौर पर करीब 56 करोड़ से ज्यादा की रकम चुकानी पड़ सकती है. ब्रिटिश न्यूज पेपर द गार्जियन के मुताबिक डायरेक्टर जनरल ऑफ GST इंटेलिजेंस ने कंपनी को ब्याज और पेनल्टी के तौर पर यह रकम चुकाने के लिए कहा है.
    कंपनी ने अपने खातों में इसकी जानकारी भी दी है. मिली जानकारी के अनुसार कंपनी ने 4 साल में कम टैक्स चुकाया है. अमेजॉन की JV कंपनी क्लाउडटेल में नारायण मूर्ति की 76 प्रतिशत हिस्सेदारी है.

    विवादों से पुराना नाता 

    अमेजॉन और उसके बिजनेस मॉडल को लेकर दुनिया के कई देशों में विवाद चल रहा है. भारत में भी लगातार कई मुद्दों को लेकर अमेजॉन का विरोध है. खास तौर से छोटे और मझौले व्यापारी अमेजॉन के लेकर लगातार शिकायत करते रहे हैं. उनका कहना है कि अमेजॉन गलत तरीके से मार्केट में मोनोपॉली स्थापित करना चाहती है. अपने कद का फायदा उठा कर यह कंपनी लगातार नियमों का उल्लंघन कर रही है. इसको लेकर व्यापारियों के संगठन ने कई बार विरोध जताया है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.