कारोबारियों और कंपनियों के लिए खुशखबरी! GST नेटवर्क ने जारी किया पहले से भरा रिटर्न फॉर्म

कारोबारियों और कंपनियों के लिए पहले से भरा जीएसटी रिटर्न फॉर्म जारी कर दिया गया है.
कारोबारियों और कंपनियों के लिए पहले से भरा जीएसटी रिटर्न फॉर्म जारी कर दिया गया है.

गुड्स एंड सर्विस टैक्‍स नेटवर्क (GSTN) ने बताया कि हर महीने के लेनदेन (Monthly Transactions) का ब्‍योरा पेश करने वाला प्री-फिल्‍ड फॉर्म-3बी (Form-3B) पेश कर दिया गया है. ये फॉर्म कारोबारियों और कंपनियों के लिए अक्‍टूबर 2020 टैक्‍स पीरियड (October Tax Period) से उपलब्‍ध होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 8, 2020, 9:53 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. वस्‍तु व सेवा कर रिटर्न (GST Return) को प्रॉसेस करने वाली कंपनी जीएसटी नेटवर्क (GSTN) ने बताया कि कारोबारियों और कंपनियों के  लिए हर महीने की टैक्‍स फाइलिंग आसान बनाने वाला पहले से भरा रिटर्न फॉर्म जारी कर दिया गया है. कंपनी के मुताबिक, जीएसटी-रजिस्टर्ड कारोबारियों और कंपनियों के हर महीने के लेनदेन (Monthly Transactions) का ब्‍योरा पेश करने वाला प्री-फिल्‍ड फॉर्म-3बी (Form-3B) अक्‍टूबर 2020 टैक्‍स पीरियड (October Tax Period) से उपलब्‍ध होगा. इसकी मदद से रिटर्न फाइल करना ज्‍यादा सुविधाजनक और बेहतर होगा.

12 नवंबर से जीएसटीएन पोर्टल पर उपलब्‍ध होगा फॉर्म
पहले से भरे जीएसटी रिटर्न फॉर्म जीएसटीएन पोर्टल पर 12 नवंबर से उपलब्‍ध हो जाएंगे. फॉर्म-3B में हर महीने की सेल्‍स और ऑटो जेनरेटेड टैक्‍स क्रेडिट स्‍टेटमेंट की जानकारी पहले से ही उपलब्‍ध रहेगी. साथ ही हर महीने किए गए लेनदेन की जानकारी भी इस फॉर्म में उपलब्‍ध होगी. अधिकारी जीएसटी रिटर्न फॉर्म-1 (Form-1) में मासिक बिक्री के बारे में बताई गई जानकारी को मंथली ऑपरेशंस की जानकारी के साथ लिंक करना चाहते हैं. जीएसटीएन ने कहा कि उसने एक बार में तीन लाख यूजर्स के लॉगइन को संभालने के लिए अपने आईटी सिस्टम को तैयार किया है.

ये भी पढ़ें- MFs ने लगातार 5वें महीने इक्विटी से निकाली रकम, अक्‍टूबर में 14300 करोड़ रुपये के स्‍टॉक बेचे
सितंबर में फॉर्म-3B दाखिल करने वालों की संख्‍या में आई तेजी


जीएसटीएन ने कहा कि हमने एकसाथ पांच लाख यूजर्स के लॉगइन को संभालने की तैयारी कर ली है. हम टैक्‍सपेयर्स को बिना झंझट के शानदार अनुभव उपलब्‍ध कराने के तैयार हैं. जीएसटीएन ने बताया था कि सितंबर में अचानक फॉर्म-3B दाखिल करने वालों की संख्‍या में इजाफा हुआ था. दरअसल, इससे पिछले महीनों में कोरोना संकट के कारण लोग जीएसटी रिटर्न दाखिल नहीं कर पाए थे. फॉर्म-3B में शुरुआत में करदाताओं को एडिट करने का विकल्प उपलब्ध होगा, जिससे कंपनियां पहले के एडजस्टमेंट करने में सहूलियत होगी.

ये भी पढ़ें- केंद्र का कोरोना संकट में बेरोजगार हुए लोगों के लिए बड़ा ऐलान! अब ऑनलाइन क्लेम कर ले सकते हैं इस योजना का फायदा

टैक्‍स देनदारी का ब्‍योरा उपलब्‍ध कराना शुरू कर चुका है GSTN
जीएसटीएन पर जीएसटी के आईटी इंफ्रास्ट्रक्चर को संभालने की जिम्मेदारी है. जीएसटीएन ने पहले ही करदाता के सेल्स रिटर्न जीएसटीआर-1 के आधार पर टैक्स देनदारी का ब्योरा उपलब्ध कराना शुरू कर दिया है. इसका इस्तेमाल पीडीएफ के रूप में उनके टैक्स भुगतान फॉर्म जीएसटीआर-3बी में किया जाएगा. इसके अलावा जीएसटीएन करदाता के आपूर्तिकर्ताओं की ओर से दी गई सूचना के आधार पर ऑटो जेनरेटेड इनवॉयस-वाइज इनपुट टैक्स क्रेडिट (ITC) स्टेटमेंट भी उपलब्ध करा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज