लाइव टीवी

7 जनवरी को होगी GST को लेकर बड़ी बैठक, हो सकते हैं ये फैसले

News18Hindi
Updated: January 2, 2020, 5:17 PM IST
7 जनवरी को होगी GST को लेकर बड़ी बैठक, हो सकते हैं ये फैसले
टैक्स चोरी रोकने और फर्जी क्लेम पर लगाम लगाने के उपाय पर होगी चर्चा

7 जनवरी को राज्य सचिव की अध्यक्षता में GST कलेक्शन बढ़ाने को लेकर बैठक होगी. इसके साथ ही टैक्स चोरी रोकने और फर्जी क्लेम पर लगाम लगाने के उपाय पर भी चर्चा होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 2, 2020, 5:17 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (GST) कलेक्शन बढ़ाने को लेकर 7 जनवरी को राज्य सचिव की अध्यक्षता में अहम बैठक होगी. राजस्व सचिव अजय भूषण पांडेय 7 जनवरी को कर आयुक्तों (Tax Commissioners) के साथ बैठक करेंगे. इस बैठक में जीएसटी वसूली (GST Collection) बढ़ाने पर चर्चा होगी. इसके साथ ही टैक्स चोरी रोकने और फर्जी क्लेम पर लगाम लगाने के उपाय पर भी चर्चा होगी.

इसके अवाला बैठक में डेटा एनालिटिक्स के बेहतर इस्तेमाल करने पर रणनीति बनाई जाएगी. ई-इन्वॉयसिंग और ई-वे बिल के साथ फास्ट टैग लिंक करने पर अगली रणनीति बनाई जाएगी. वसूली के टारगेट को हासिल करने के लिए सरकार एड़ी चोटी का जोर लगा रही है.

यह बैठक इस दृष्टि से महत्वपूर्ण है कि जीएसटी परिषद की 18 दिसंबर को हुई बैठक में इन मुद्दों पर विस्तृत अध्ययन की बात कही गई थी. उसके बाद ही परिषद विभिन्न उत्पादों पर कर की दर बढ़ाने को लेकर अंतिम फैसला करेगी. इस बीच, एक उत्साहवर्धक आंकड़ा सामने आया है.

ये भी पढ़ें: दूध के बाद अब आइसक्रीम होगी महंगी, इतनी बढ़ सकती हैं कीमतें

दिसंबर में GST कलेक्शन 1 लाख करोड़ के पार
सरकार की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, लगातार दूसरे महीने यानी दिसंबर में जीएसटी कलेक्शन 1 लाख करोड़ रुपये के पार पहुंचा है. नवंबर महीने में कुल 1,03,492 करोड़ रुपये की जीएसटी वसूली हुई थी. वहीं, दिसंबर में ये आंकड़ा 1,03,184 करोड़ रुपये रहा है. अगर अप्रैल से लेकर दिसंबर तक के आंकड़ों पर नज़र डालें तो अगस्त, सितंबर और अक्टूबर तीन ऐसे महीने रहे हैं. जब जीएसटी कलेक्शन 1 लाख करोड़ रुपये के नीचे रहा है. वहीं, मौजूदा वित्त वर्ष में अप्रैल महीने के दौरान जीएसटी कलेक्शन सबसे ज्यादा 1,13,865 करोड़ रुपये रहा था.

सूत्रों का कहना है कि यह बैठक धोखाधड़ी और कर चोरी रोकने, जाली या बड़े इनपुट कर क्रेडिट का दावा करने पर अंकुश लगाने, कंपनियों द्वारा जमा कराई गई सूचना के मिलान को उनके बैंक खातों का ब्योरा लेने, रिफंड के दुरुपयोग को रोकने और सर्वश्रेष्ठ व्यवहार अपनाने जिससे राजस्व बढ़ाया जा सके, आदि मुद्दों पर विचार विमर्श के लिए बुलाई गई है.सूत्रों ने बताया कि डाटा विश्लेषण और कृत्रिम मेधा (एआई) के अधिक इस्तेमाल पर भी बैठक में चर्चा होगी, जिससे कर चोरी करने वालों के बारे में सूचना प्राप्त की जा सके और राजस्व बढ़ाया जा सके. बैठक में केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर एवं सीमा शुल्क बोर्ड, केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड, वित्तीय आसूचना इकाई (एफआईयू), विश्लेषण एवं जोखिम प्रबंधन महानिदेशालय और जीएसटी नेटवर्क (जीएसटीएन) के अधिकारी भी शामिल होंगे.

(आलोक प्रियदर्शी, संवाददाता- CNBC आवाज़)

ये भी पढ़ें: नौकरी करने वालों के लिए बड़ी खबर! सरकार बदल सकती है छुट्टी से जुड़ा ये नियम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 2, 2020, 5:04 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर