Home /News /business /

gst on 143 items may increase gur papad custard powder chocolate prices to see hike arnod

गुड़, पापड़, कस्टर्ड को भी महंगा करने जा रही मोदी सरकार! जीएसटी दरें बढ़ाने की हो रही तैयारी

गुड़ और पापड़ पर अभी जीएसटी नहीं लगता है. इसे जीएसटी के दायरे में लाने पर हो रहा है विचार.

गुड़ और पापड़ पर अभी जीएसटी नहीं लगता है. इसे जीएसटी के दायरे में लाने पर हो रहा है विचार.

जिन वस्तुओं पर जीएसटी की दरें बढ़ाई जा सकती हैं उनमें गुड़, पापड, चॉकलेट, कस्टर्ड पाउडर, च्युइंग गम, अखरोट जैसी खाद्य वस्तुएं शामिल हैं. इनके अलावा घड़ियां, सूटकेस, परफ्यूम/डिओडेरेंट्स, हैंडबैग, पावर बैंक, रंगीन टीवी(32 इंच से नीचे), सिरेमिक सिंक, वॉश बेसिन, चश्मे के फ्रेम, गोगल्स, नॉन-अल्कोहलिक बेवरेजेज, चमड़े से बने सामान और परिधान शामिल हैं.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. अगर आप सोच रहे हैं कि रूस-यूक्रेन युद्ध खत्म होने के बाद आपको बेलगाम महंगाई से राहत मिल सकती है, तो जरा ठहरिए. ऐसा होना पूरी तरह से संभव होता नहीं दिख रहा है क्योंकि मोदी सरकार कई वस्तुओं पर लगने वाले जीएसटी (GST) की दरों में बढ़ोतरी की योजना बना रही है. इन उत्पादों में गुड़, पापड़, कस्टर्ड, चॉकलेट जैसे खाद्य उत्पाद भी शामिल हैं.

जीएसटी काउंसिल ने 143 वस्तुओं की जीएसटी दरों में वृद्धि के लिए राज्यों से विचार मांगे हैं. इंडियन एक्सप्रेस ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि इनमें से 92 फीसदी वस्तुओं को 18 फीसदी की जगह 28 फीसदी वाले टैक्स स्लैब में डाला जा सकता है.

ये भी पढ़ें- महंगाई की मार : इंडोनेशिया ने बढ़ाई भारत की मुश्किलें, अभी 10 फीसदी और महंगा होगा खाने का तेल

ये वस्तुएं हो सकती हैं महंगी
रिपोर्ट के मुताबिक, जिन वस्तुओं पर जीएसटी की दरें बढ़ाई जा सकती हैं उनमें गुड़, पापड, चॉकलेट, कस्टर्ड पाउडर, च्युइंग गम, अखरोट जैसी खाद्य वस्तुएं शामिल हैं. इनके अलावा घड़ियां, सूटकेस, परफ्यूम/डिओडेरेंट्स, हैंडबैग, पावर बैंक, रंगीन टीवी(32 इंच से नीचे), सिरेमिक सिंक, वॉश बेसिन, चश्मे के फ्रेम, गोगल्स, नॉन-अल्कोहलिक बेवरेजेज, चमड़े से बने सामान और परिधान शामिल हैं.

गुड़-पापड़ आएंगे जीएसटी के दायरे में!
गुड़ और पापड़ पर अभी जीएसटी नहीं लगता है. इसे 5 फीसदी के स्लैब में डाला जा सकता है. जबकि अखरोट  को 5 फीसदी की जगह 12 फीसदी और कस्टर्ड पाउडर को 5 फीसदी की बजाय 18 फीसदी वाले स्लैब में डालने पर विचार किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें- बच्चों के PPF Account पर मिला ब्याज टैक्स के दायरे में आएगा या नहीं? क्या हैं नियम

रिपोर्ट में कहा गया है कि जीएसटी काउंसिल की अगले महीने बैठक होने वाली है. इस बैठक में 5 फीसदी वाले स्लैब को हटाकर न्यूनतम 3 फीसदी का नया स्लैब बनाया जा सकता है. इसमें बड़े पैमाने पर खपत होने वाली वस्तुओं को डाला जा सकता है. जबकि 5 फीसदी वाले स्लैब के बाकी बचे सामानों के लिए जीएसटी की नई दर 8 फीसदी करने पर भी विचार किया जा सकता है.

Tags: Goods and services tax (GST) on sales, Gst, GST council meeting, Gst latest news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर