GST के नए रेट्स लागू, सस्ते हुए ये 211 प्रोडक्ट्स

News18Hindi
Updated: November 16, 2017, 9:34 AM IST
GST के नए रेट्स लागू, सस्ते हुए ये 211 प्रोडक्ट्स
GST के नए रेट्स आज से लागू, सस्ते हुई ये सभी 211 प्रोडक्ट्स
News18Hindi
Updated: November 16, 2017, 9:34 AM IST
आपका ग्रॉसरी बिल कम होने जा रहा है. चॉकलेट, टूथपेस्ट, शैंपू, वॉशिंग पाउडर और शेविंग क्रीम जैसे कई प्रॉडक्ट्स के दाम आज से कम हो जाएंगे.  सरकार इन सभी प्रोडक्ट्स को जीएसटी (गुड्स ऐंड सर्विसेज टैक्स) के सबसे ऊंचे 28 फीसदी टैक्स स्लैब से हटाकर 18 फीसदी टैक्स स्लैब में ले आयी है.

राज्यों और केंद्र ने इस संबंध में नोटिफिकेशन जारी कर दिया है. नए रेट्स मंगलवार आधी रात से लागू हो गए हैं. टैक्स एक्सपर्ट्स कहते हैं कि जीएसटी काउंसिल ने एक खास तारीख यानी 15 नवंबर से बदलाव लागू करने का निर्णय किया, क्योंकि पहले के कुछ मामलों में विभिन्न राज्यों ने अलग-अलग तारीखों पर अधिसूचनाएं जारी की थीं. हालांकि, समय की तंगी को देखते हुए अधिकतर कंपनियां प्रॉडक्ट्स के एमआरपी तुरंत नहीं घटा पाएंगी, लेकिन उन्होंने डीलरों और रिटेलरों से कहा है कि कीमतें कम की जानी चाहिए.



इन चीजों पर 28 फीसदी की जगह 18 प्रतिशत टैक्स
इलेक्ट्रिक कंट्रोल, डिस्ट्रीब्यूशन के लिए इलेक्ट्रिक बोर्ड, पैनल, कंसोल, कैबिनेट, वायर, केबल, इंसुलेटेड कंडक्टर, इलेक्ट्रिक इंसुलेटर, इलेक्ट्रिक प्लग, स्विच, सॉकेट, फ्यूज, रिले, इलेक्ट्रिक कनेक्टर्स, ट्रक (लोहे की पेटी), सूटकेस, ब्रीफकेस, ट्रैवलिंग बैग, हैंडबैग, शैंपू, हेयर क्रीम, हेयर डाई, लैंप और लाइट फिटिंग के सामान, शेविंग के सामान, डियोड्रेंट, परफ्यूम, मेकअप के सामान, फैन, पंप्स, कंप्रेसर, प्लास्टिक के सामान, शॉवर, सिंक, वॉशबेसिन, सीट्स के सामान, प्लास्टिक के सेनेटरी वेयर, सभी प्रकार के सिरेमिक टाइल, रेजर और रेजर ब्लेड, बोर्ड, सीट्स जैसे प्लास्टिक के सामान, पार्टिकल/फाइबर बोर्ड, प्लाईवुड पर अब 18 फीसदी टैक्स लगेगा.

साथ में एस्केलेटर, कूलिंग टॉवर, रेडियो और टेलीविजन प्रसारण के विद्युत उपकरण, साउंड रिकॉर्डिंग उपकरण, सभी प्रकार के संगीत उपकरण और उससे जुड़े सामान, कृत्रिम फूल, पत्ते और कृत्रिम फल, कोको बटर, वसा और तेल पाउडर, चॉकलेट, च्विंगम और बबलगम, रबर ट्यूब और रबर के बने तरह तरह के सामान, चश्में और दूरबीन.

इन प्रोडक्ट्स पर लगेगा अब 12 फीसदी जीएसटी
मधुमेह रोगियों को दिया जाने वाला भोजन,प्रिंटिंग इंक, टोपी,कृषि, बागवानी, वानिकी, कटाई से जुड़ी मशीनरी के सामान, जूट, कॉटन के बने हैंड बैग और शॉपिंग बैग, रिफाइंड सुगर और सुगर क्यूब, गाढ़ा किया हुआ दूध, पास्ता और सिलाई मशीन के सामान पर अब 18 फीसदी की जगह 12 फीसदी टैक्स देना होगा.

यह भी पढ़े
खुशखबरी! आज से रेस्टोरेंट में खाना हुआ सस्ता
First published: November 15, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर