Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    गुवाहाटी एयरपोर्ट का किया जा रहा है कायाकल्प, यात्रियों को मिलेंगी ये नई सुविधाएं

    गुवाहाटी एयरपोर्ट का किया जा रहा है कायाकल्प, यात्रियों को मिलेंगी ये सुविधाएं
    गुवाहाटी एयरपोर्ट का किया जा रहा है कायाकल्प, यात्रियों को मिलेंगी ये सुविधाएं

    उत्तर पूर्वी भारत का सबसे ज्यादा व्यस्त रहने वाले अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा में शुमार गुवाहाटी अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा (Guwahati International Airport) की क्षमता में विस्तार किया जा रहा है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 7, 2020, 2:11 PM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. उत्तर पूर्वी भारत का सबसे ज्यादा व्यस्त रहने वाले अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा में शुमार गुवाहाटी अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा (Guwahati International Airport) की क्षमता में विस्तार किया जा रहा है. लोकप्रिय गोपीनाथ बोरदोलोई इंटरनेशनल एयरपोर्ट गुवाहाटी की क्षमता में विस्तार करने के लिए 1,232 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहा है. इस विकास से गुवाहाटी हवाई अड्डा के भावी मांग को पूरा किया जा सकेगा.

    यात्रियों को मिलेगा यह आधुनिक सुविधाएं
    लोकप्रिय गोपीनाथ बोरदोलोई इंटरनेशनल एयरपोर्ट का कायाकल्प किया जा रहा है. इस एयरपोर्ट की वर्तमान क्षमता सलाना करीब 6 मिलियन यात्रियों की है. हवाईअड्डा में एक नया टर्मिनल बिल्डिंग बनाया जा रहा है. नए टर्मिनल बिल्डिंग का निर्माण हो जाने के बाद पिक ऑवर में यह एयरपोर्ट 4300 घरेलू यात्री और 200 इंटरनेशनल पैसेंजर को हैंडल करने में सक्षम हो जायेगा. यहीं नहीं नए टर्मिनल बिल्डिंग तैयार हो जाने के बाद यह एयरपोर्ट सलाना करीब 10 मिलियन यात्रियों की क्षमता का वहन कर सकेगा. नये टर्मिनल बिल्डिंग में 64 चेकइन काउंटर्स, 20 सेल्फ चेक इन कियोस्क, छह बैगेज कराउसेल्स, इन लाईन बैगेज सिक्यूरिटी स्क्रिनिंग सिस्टम और 10 एयरो ब्रिजेज की सुविधा होंगी.

    ये भी पढ़ें:- रेल यात्री ध्यान दें! 10 अक्टूबर से बदल रहे हैं रिजर्वेशन के नियम, यहां जानें
    नया टर्मिनिल बिल्डिंग होगा इको फ्रेंडली


    1,02,500 स्क्वायर मीटर क्षेत्रफल में बन रहा यह टर्मिनल बिल्डिंग को इस तरह डिजायन किया गया है कि कम से कम ऊर्जा खपत होगी. नए टर्मिनल बिल्डिंग का डिजायन पौराणिक आकृति-इकारस से प्रेरित है.एयरपोर्ट की छत को ऑरिगेमी की कला का इस्तेमाल कर स्टाईलिस बनाया गया है. यह एक मानव प्रयास, शिल्प और इनोवेशन का प्रतीक होगा. टर्मिनल बिल्डिंग के कुछ हिस्सों में ओरिगेमी भाषा को भी प्रतिबिंबित करेंगे. टर्मिनल में आगमन के लिए दो लेवल लोवर और एप्रोन लेवल पर होगा जबकि प्रस्थान के लिए अपर लेवल पर बनाया जा रहा है. इसके अलावा दो और फ्लोर तैयार किया जा रहा है. इन दो फ्लोरों के बीच एक परछत्ती mezzanine बनाया जा रहा है. पहले में एयर साईड अराइवल कॉरिडोर होगा जबकि दूसरे में बोर्डिंग ब्रिज से जुडा होगा. इस परछती के अन्य भाग में बैगेज हैंडलिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया जायेगा.

    जून 2022 तक पूरा हो जायेगा प्रोजेक्ट
    गुवाहाटी इंटरनेशनल एयरपोर्ट के नए टर्मिनल बिल्डिंग का निर्माण कार्य जून 2022 तक पूरा होना है. एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया द्वारा दिए गए जानकारी के मुताबिक अभी तक 38 फीसदी काम पूरा हो चुका है. चूंकि यह एयरपोर्ट दक्षिण पूर्वी एशिया को भारत से जोड़ता है. ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि नये टर्मिनल बिल्डिंग से पर्यटन और रोजगार को और बढ़ावा मिलेगा. उत्तर पूर्वी राज्यों के साथ-साथ देश की भी आर्थिक प्रगति होगी.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज