साल 2019 में यहां से बन सकता है पैसा, आम चुनाव बनेगा सबसे बड़ा ट्रिगर

मोतीलाल ओसवाल के को-फाउंडर रामदेव अग्रवाल का कहना है कि पांच राज्यों के चुनावी नतीजों से ज्यादा चिंता की जरूरत नहीं है. मौजूदा सरकार लोकसभा चुनावों में अच्छा प्रदर्शन करेगी.

मोतीलाल ओसवाल के को-फाउंडर रामदेव अग्रवाल का कहना है कि पांच राज्यों के चुनावी नतीजों से ज्यादा चिंता की जरूरत नहीं है. मौजूदा सरकार लोकसभा चुनावों में अच्छा प्रदर्शन करेगी.

मोतीलाल ओसवाल के को-फाउंडर रामदेव अग्रवाल का कहना है कि पांच राज्यों के चुनावी नतीजों से ज्यादा चिंता की जरूरत नहीं है. मौजूदा सरकार लोकसभा चुनावों में अच्छा प्रदर्शन करेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 27, 2018, 4:11 AM IST
  • Share this:
साल 2019 की शुरुआत में अब कुछ ही दिन बचे हैं. पिछले एक साल के दौरान भारत समेत दुनियाभर के ज्यादातर निवेशकों ने शेयर बाजार, म्युचूअल फंड और कमोडिटी में पैसा गंवाया है. हालांकि, देश के बड़े निवेशकर और ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल के को-फाउंडर रामदेव अग्रवाल का मानना है कि ब्याज दरों में कटौती से कंपनियों की आमदनी बढ़ेगी. कच्चे तेल की कीमतें निचले स्तर पर बनी रहेंगी. कच्चे तेल में गिरावट से भारत को फायदा होगा. लिहाजा ऐसे में शेयर बाजार में पैसा बनाने के मौके मिलेंगे. साथ ही इसका फायदा म्युचूअल फंड में पैसा लगाने वालों को भी मिलेगा, लेकिन बाजार के लिए सबसे बड़ा ट्रिगर आम चुनाव होगा.



साल 2019 में क्या होगा- 2019 में बाजार में और तेजी दिखेगी. नए साल में बाजार में विदेशी निवेश बढ़ने की उम्मीद है. आम चुनाव को लेकर बाजार में थोड़ी चिंता जरूर है, लेकिन बैंक, टेलीकॉम सेक्टर में अब सुधार की बड़ी उम्मीद है. (ये भी पढ़ें-RBI ने किया 20 रुपये के नए नोट का ऐलान, जानिए पहले से कितना होगा अलग?)



आम चुनाव पर नज़र- रामदेव अग्रवाल कहते हैं, 'साल 2018 में कई चुनौतियों के बावजूद बाजार टिका रहा है. आगे भी कच्चे तेल में गिरावट से बाजार को सपोर्ट मिलेगा. भारतीय बाजार के लिए क्रूड एक बड़ा फैक्टर है. उभरते बाजारों में विदेशी निवेश फिर बढ़ेगा. चुनाव को लेकर बाजार को थोड़ी चिंता है. राज्यों के चुनावी नतीजों से ज्यादा चिंता की जरूरत नहीं है. मौजूदा सरकार लोकसभा चुनावों में अच्छा प्रदर्शन करेगी. कोई भी सरकार सब को खुश नहीं कर सकती. सरकार बदलने से डरने की जरूरत नहीं है.' (ये भी पढ़ें-म्यूचुअल फंड में पैसा लगाने से पहले इन 4 रिस्क के बारे में भी जान लीजिए!)





कहां बनेगा पैसा- रामदेव अग्रवाल की राय है कि प्रोजेक्ट हैंडलिंग और ईपीसी कंपनियां इस समय आकर्षक लग रही हैं. निवेशक रोड कंस्ट्रक्शन कंपनियों के शेयरों में पैसा लगा सकते हैं. बीएसई के मेंबर रमेश दमानी का कहना है कि सरकारी कंपनियों, क्विक सर्विस रेस्टोरेंट और नई लिस्टेड सरकारी कंपनियों में निवेश के मौके हैं.
अमेरिका में गिर सकती है सरकार- अमेरिकी बाजार को लेकर इन दिग्गजों का कहना है कि अमेरिका में मंदी का दौर शुरू होने के संकेत हैं. अमेरिका में अनिश्चितता भारत के लिए अच्छी नहीं है. भारतीय बाजार अभी भी ग्लोबल मार्केट से जुड़े हैं. भारतीय बाजार में काफी विदेशी निवेश हुआ है.(ये भी पढ़ें-बेरोजगारों के खाते में हर महीने आएगी 'सैलरी', 2019 के चुनाव से पहले मोदी सरकार का बड़ा प्लान!)



ट्रेड वॉर से फायदे में है भारत- अमेरिका और चीन के बीच जारी ट्रेड वॉर से भारतीय बाजार को फायदा हुआ है. कुल मिलाकर ट्रेड वॉर से दुनिया को नुकसान होगा. इन दिग्गजों का कहना है कि 2019 में कंपनियों की आय में अच्छी बढ़त हो सकती है. पिछले 4 साल में कंपनियों की अर्निंग ग्रोथ काफी कम रही है. ब्याज दरें घटने से कंपनियों की आय पर खास असर नहीं होगा.



(ये भी पढ़ें-भारत ने नहीं सुनी चीन की! भारतीयों के हित में लगाया इन चीनी प्रोडक्ट्स पर बैन)



क्रूड में नहीं है तेजी की उम्मीद- रामदेव अग्रवाल का मानना है कि ब्याज दरों में कटौती से कंपनियों की आय बढ़ेगी. वहीं कच्चे तेल की कीमतें निचले स्तर पर बनी रहेंगी. कच्चे तेल में गिरावट से भारत को फायदा होगा. कच्चा तेल 55-60 डॉलर के बीच रहने की उम्मीद है. कच्चा तेल 55-60 डॉलर के बीच रहा तो भारत को काफी फायदा होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज