Home /News /business /

hdfc bank increases mclr on loans by 20 basis points nodvkj

HDFC बैंक से लोन लेना होगा महंगा, MCLR में किया 20 बेसिस प्वाइंट्स का इजाफा

एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank)

एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank)

ज्यादातर कंज्यूमर लोन एक साल के मार्जिनल कॉस्ट बेस्ड लेंडिंग रेट के आधार पर होती है. ऐसे में एक साल के एमसीएलआर में बढ़ोतरी से पर्सनल लोन, ऑटो और होम लोन महंगे हो सकते हैं.

नई दिल्ली. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के रेपो दरों में इजाफा करने के बाद कई बैंक ने ब्याज दरों में बढ़ोतरी करते हुए कर्ज महंगा कर दिया. अब इस सूची में एक बड़े बैंकों का नाम जुड़ गया है. दरअसल, प्राइवेट सेक्टर के एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) ने अपने ग्राहकों को जोरदार झटका दिया है. बैंक ने अलग-अलग अवधि के मार्जिनल कॉस्ट बेस्ड लेंडिंग रेट यानी एमसीएलआर (MCLR) में 20 बेसिस प्वाइंट यानी 0.20 फीसदी की बढ़ोतरी की है. अब बैंक से लोन लेना महंगा हो जाएगा. बैंक की नई दरें 7 जुलाई, 2022 से लागू हो गई हैं.

एचडीएफसी बैंक की वेबसाइट के मुताबिक, एक रात वाले एमसीएलआर की दर को 20 बेस‍िस प्‍वाइंट बढ़ाकर 7.70 फीसदी कर द‍िया गया है. इसी तरह एक महीने की अवधि वाले एमसीएलआर की दर 7.75 फीसदी, 3 महीने की अवध‍ि वाले एमसीएलआर की दर 7.80 फीसदी और 6 महीने की अवध‍ि वाले एमसीएलआर की दर 7.90 फीसदी कर दी गई है. वहीं, एक साल वाले एमसीएलआर को बढ़ाकर 8.05 फीसदी कर द‍िया गया है.

ये भी पढ़ें- एचडीएफसी बैंक और HDFC के विलय को RBI ने दी मंजूरी, शेयरहोल्‍डर्स पर क्या होगा इसका असर?

प‍िछले महीने MCLR में किया था 35 बेसिस प्वाइंट्स का इजाफा
गौरतलब है कि एचडीएफसी बैंक की तरफ से प‍िछले महीने ही एमसीएलआर दरों में 35 बेस‍िस प्‍वाइंट का इजाफा क‍िया था. इन दरों को 7 जून से लागू किया गया था.

बढ़ जाएगी आपकी ईएमआई
एमसीएलआर में बढ़ोतरी के साथ टर्म लोन पर ईएमआई बढ़ने की उम्मीद है. ज्यादातर कंज्यूमर लोन मार्जिनल कॉस्ट बेस्ड लेंडिंग रेट के आधार पर होती है. ऐसे में एमसीएलआर में बढ़ोतरी से पर्सनल लोन, ऑटो और होम लोन महंगे हो सकते हैं.

ये भी पढ़ें- एचडीएफसी बैंक की पहली तिमाही में जमा 19 फीसदी बढ़ा, कैसा रहा बैंक का प्रदर्शन, पढ़िए डिटेल?

क्या होता है MCLR?
गौरतलब है कि एमसीएलआर भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा विकसित की गई एक पद्धति है जिसके आधार पर बैंक लोन के लिए ब्याज दर निर्धारित करते हैं. आरबीआई ने 1 अप्रैल 2016 से देश में एमसीएलआर की शुरुआत की थी. उससे पहले सभी बैंक बेस रेट के आधार पर ही ग्राहकों के लिए ब्याज दर तय करते थे. आधार दर की जगह पर अप्रैल 2016 से बैंक एमसीएलआर का इस्तेमाल कर रहे हैं. अब बैंकों द्वारा एमसीएलआर में किसी भी बढ़ोतरी या कटौती का असर नए और मौजूदा लेनदारों पर भी पड़ता है.

Tags: Bank Loan, Hdfc bank

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर