HDFC Bank ने काफी कुछ हासिल किया लेकिन सर्वश्रेष्ठ अभी बाकी: आदित्य पुरी

एचडीएफसी बैंक के प्रबंध निदेशक, आदित्य पुरी (File Photo)

एचडीएफसी बैंक के प्रबंध निदेशक आदि​त्य पुरी (Aditya Puri) ने अपने कर्मचारियों को एक ईमेल लिखकर 26 साल तक बैंक से जुड़े रहने के बारे में बातें बताईं. उन्होंने यह भी कहा कि एचडीएफसी बैंक का सर्वेश्रेष्ठ आना अभी भी बाकी है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. निजी क्षेत्र के एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) के प्रबंध निदेशक आदित्य पुरी (Aditya Puri) ने कहा है कि उनकी 26 साल की यात्रा के दौरान बैंक ने काफी कुछ हासिल किया है, लेकिन बैंक का सर्वश्रेष्ठ आना अभी बाकी है. पुरी जल्द सेवानिवृत्त होने जा रहे हैं. शशिधर जगदीशन (Shashidhar Jagdishan) को पुरी का उत्तराधिकारी चुना गया है. पुरी ने कहा कि जगदीशन बैंक की अगुवाई करने के लिए सबसे उपयुक्त व्यक्ति हैं. एचडीएफसी बैंक ने इसी महीने जगदीशन को 27 अक्टूबर से बैंक का प्रबंध निदेशक नियुक्त किया है. पुरी उस समय 70 वर्ष की आयु पूरी करने के बाद सेवानिवृत्त हो जायेंगे.

    पुरी ने कहा, ‘‘जब मैं यह लिख रहा हूं, तो मैं सबसे ज्यादा खुश हूं. मैं हमेशा कहता रहा हूं कि बैंक का सर्वश्रेष्ठ अभी बाकी है. अब शशि बैंक की अगुवाई करेंगे और मुझे इसमें संदेह नहीं है कि उनकी अगुवाई में हमारा सर्वश्रेष्ठ सामने आएगा.’‘’

    नेतृत्व के लिए सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति हैं शशिधर
    कर्मचारियों को भेजे ई-मेल में पुरी ने कहा, ‘‘मैं उनकी खूबियों में नहीं जाऊंगा. क्योंकि हममें से ज्यादातर यह जानते हैं. मैं यही कहूंगा कि वह आपका नेतृत्व करने के लिए सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति हैं. और मैं यह कमान सबसे सुयोग्य व्यक्ति को सौंपने जा रहा हूं.’’

    यह भी पढ़ें: अटल पेंशन योजना में पैसा लगाने वालों के लिए बड़ी खबर-बदल गए स्कीम के नियम

    पुरी एचडीएफसी बैंक के सबसे पहले कर्मचारी हैं. उन्होंने कहा, ‘‘यदि आप पीछे देखें तो 26 साल पहले, तो ऐसा लगता है कि जैसे कल की ही बात है. अपने पहले कार्यालय में टूटी कुर्सियों के साथ हमने शुरू कर जो हासिल किया है वह अविश्वसनीय है. दुनिया में ऐसे कम ही उदाहरण है.’’ पुरी को एचडीएफसी बैंक को काफी नीचे से उठाकर देश का निजी क्षेत्र का सबसे बड़ा बैंक बनाने का श्रेय जाता है.

    विश्वस्तरीय भारतीय बैंक बन चुका है एचडीएफसी बैंक
    उन्होंने कहा, ‘‘हमारी उपलब्धियों के कुछ नमूने हैं, जिनपर मुझे काफी गर्व है. आज हम वास्तव में विश्वस्तरीय भारतीय बैंक हैं. पहुंच, बही-खाते, ग्राहक संख्या और बाजार पूंजीकरण के हिसाब से हम स्वतंत्र भारत के सबसे बड़े बैंक में से हैं. अपनी सतत आजीविका पहल (एसएलआई) के जरिये हमने 1.11 करोड़ भारतीय परिवारों को गरीबी से निकाला है.’’

    यह भी पढ़ें: Private Train में मिलेंगी इस तरह की Hightech फैसिलिटी, Railway ने बनाया Draft

    स्वतंत्र भारत के सबसे बड़े नियोक्ताओं में से एक
    पुरी ने कहा कि बैंक अपनी कॉरपोरेट सामाजिक दायित्व (CSR) पहल के जरिये आज 7.8 करोड़ भारतीयों की जिंदगी में एक बड़ा बदलाव लाने में कामयाब रहा है. उन्होंने कहा कि आज हमारी पहचान देश के सर्वश्रेष्ठ संपत्ति सृजनकर्ता के रूप में होती है. हम स्वतंत्र भारत के सबसे बड़े नियोक्ताओं में से हैं. 26 साल पुराने एचडीएफसी बैंक के कर्मचारियों की संख्या करीब 1.16 लाख है. देश के 2,825 शहरों और कस्बों में बैंक की 5,326 शाखाएं और 14,996 एटीएम हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.