• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • देश का सबसे बड़ा प्राइवेट बैंक 1 हजार गावों में करेगा 'लोन मेले' का आयोजन, जानिए आपके लिए क्या होगा खास

देश का सबसे बड़ा प्राइवेट बैंक 1 हजार गावों में करेगा 'लोन मेले' का आयोजन, जानिए आपके लिए क्या होगा खास

इस बैंक ने बदली FD की ब्याज दरें, जानिए अब कितना होगा 1 साल में मुनाफा!

इस बैंक ने बदली FD की ब्याज दरें, जानिए अब कितना होगा 1 साल में मुनाफा!

एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) अगले 6 महीनों में 600 जिलों के 1 हजार ग्रामीण लोन मेले  (Loan Mela) का आयोजन करेगा. इसमें 6 गावं भाग ले सकते हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. प्राइवेट सेक्टर में देश के सबसे बड़े बैंक यानी एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) अगले 6 माह में 1 हजार ग्रामीण लोन मेले (Loan Mela) का आयोजन करेगा. एचडीएफसी बैंक इसके जरिए अपने रिटेल पोर्टफोलियो (Retail Portfolio) को बढ़ाने की कोशिश करेगा. एचडीएफसी बैंक इन मेलों को आयोजन 600 से भी अधिक जिलों के 6 हजार गावों में करेगा. बैंक ने इसके बारे में आधिकारिक बयान जारी कर जानकारी दिया.

    एक आम ग्रामीण मेला की तर्ज पर ही एचडीएफसी बैंक भी गावों में लोन मेले का आयोजन करेगा, जहां आसपास के 5-6 गावों के लोग इस मेले में भाग ले सकेंगे. इस मेले में ग्राहकों को ट्रैक्टर, ऑटो और टू-व्हीलर से लेकर कृषि लोन तक ले सकते हैं. इसके ​अलावा सेल्फ हेल्प ग्रुप्स (Self Help Groups) भी बैंक के सस्टेनेबल ​लाइवलीहुड इनिशिएटिव (Sustainable Livelihood Initiative) के जरिए फाइनेंस सुविधा का लाभ ले सकते हैं.

    ये भी पढ़ें: BSNL कर्मचारियों को एक माह बाद मिली अगस्त की सैलरी

    एचडीएफसी बैंक


    इस लोन मेले में आम लोगों को बैंकिंग सेवाओं के बारे में भी शिक्षित किया जाएगा. बता दें कि क्रेडिट फ्लो (Credit Flow) को बढ़ाने के लिए सरकार ने​ पिछले गुरुवार को पब्लिक सेक्टर बैंकों (Public Sector Banks) को 400 जिलों में लोन मेला के आयोजन करने के बारे में जानकारी दी.वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण  (Nirmala Sitharaman) ने जानकारी दी कि इन 400 गावों में लोन मेले का आयोजन 3 अक्टूबर से शुरू होगा.

    इन बातों का रखें ध्यान:सरकार और बैंकों के इस कदम से अर्थव्यवस्था को भले ही फायदा हो, लेकिन व्यक्तिगत तौर पर आपको इनके बारे में जरूर ध्यान देना चाहिए.

    >> आसानी से लोन मिलने की वजह से कई बार ऐसा होता है कि जरूरत से अधिक खर्च होता है. कैशई की एक हालिया रिपोर्ट के मुताबिक, एक डिजिटल कंपनी से 23 फीसदी सैलरीड मिलेनियल्स ने लोन लिया. इसमें से 14 फीसदी लोगों ने अपने पुराने लोन को भरने के लिए लोन लिया. ऐसे में इस बात आंकलन करना जरूरी है कि क्या वाकई में लोन की जरूरत है या नहीं.

    ये भी पढ़ें: Alert! अगर इनकम टैक्‍स के नाम से आए इस ईमेल पर क्लिक किया तो खाली हो जाएगा बैंक अकाउंट

    >> फेस्टिव सीजन से ठीक पहले आसान लोन लेना वित्तीय जरूरतों को पूरा करने का एक बेहतर विकल्प हो सकता है. लेकिन, लोन का मतलब यह है कि आपको इसे कुछ समय में भरना होगा, जिसपर ब्याज का भी बोझ होगा. ऐसे में लोन लेन पर इस बात का जरूर ध्यान देना चाहिए कि क्या इसे सही समय पर सर्विस किया जा सकता है या नहीं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज