Health Insurance: आरोग्य संजीवनी पॉलिसी में ज्यादा मिलेगा बीमा कवर, जानें नए बदलाव से मिलने वाले फायदे

कंपनियों को एक मई 2021 से अनिवार्य रूप से कम से कम 50 हजार रुपए और अधिकतम दस लाख रुपए का बीमा कवर देना होगा.

कोरोना महामारी के मामले देश में फिर बढ़ने लगे हैं. ऐसे में बीमा नियामक इरडा (IRDAI) ने स्टेंडर्ड हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी आरोग्य संजीवनी का कवरेज बढ़ा कर 10 लाख रुपए कर दिया है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. कोरोनावायरस (Covid 19) के केस देश में फिर बढ़ने शुरू हो गए हैं. इसके इलाज पर होने वाले खर्च से बचने के लिए जरूरी है हेल्थ इंश्योरेंस (Health Insurance) . ऐसे में बीमा नियामक इरडा (IRDAI) ने स्टेंडर्ड हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी (Standard Health Insurance Policy) 'आरोग्य संजीवनी' (Arogya Sanjeevani) का कवरेज बढ़ा दिया है.
    हेल्थ इंश्योरेंस का प्रीमियम (Premium of Health Insurance) इतना बढ़ गया है कि इसे सभी नहीं ले पाते हैं. लिहाजा बीते साल बीमा क्षेत्र के नियामक Insurance Regulatory and Development Authority of India (IRDAI) इरडा ने कोरोना को देखते हुए स्टैंडर्ड हेल्थ पॉलिसी आरोग्य संजीवनी लॉन्च की थी. अब  देश में स्वास्थ्य बीमा कवरेज (Insurance Coverage) को बढ़ाने के लिए इरडा ने मानक स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी ‘आरोग्य संजीवनी’ में सुधार किया है. अब इसकी न्यूनतम सीमा को कम करके 50 हजार रुपए और अधिकतम सीमा को और बढ़ाकर दस लाख रुपए कर दिया गया है.
    टैक्स बचत के लिए 31 मार्च तक बीमा पॉलिसी लेनी है तो यह बात जरूर जान लें, मिलेगा बड़ा फायदा 

    क्या कहा गया है सर्कुलर में

    इरडा ने जनरल और स्वास्थ्य बीमा कंपनियों को जारी एक सर्कुलर में अब कहा है कि आरोग्य संजीवनी पॉलिसी के तहत उपलब्ध कवरेज को बढ़ाने के लिए मौजूदा दिशानिर्देशों में आंशिक सुधार किया जा रहा है. अब बीमा कंपनियों को आरोग्य संजीवनी मानक उत्पाद के तहत एक मई 2021 से अनिवार्य रूप से कम से कम 50 हजार रुपए और अधिकतम दस लाख रुपये का बीमा कवर देना होगा.
    यह भी पढें :  50 हजार रुपए का तत्काल लोन मिलेगा, बस यह प्रक्रिया करनी होगी

    आरोग्य संजीवनी पॉलिसी में यह फायदा मिलता है
    आरोग्य संजीवनी पॉलिसी में अस्पताल में भर्ती होने, भर्ती होने से पहले और बाद का खर्च कवर होता है. साथ ही मोतियाबिंद का इलाज कवर होता है. यह एक मानक स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी है जिसमें पॉलिसीधारक की मूलभूत आवश्यकताओं को ध्यान में रखा गया है.
    यह भी पढें : अपने फाइनेंशियल पोर्टफोलियो में यह 5 बातें जरूर करें, मिलेगा मोटा मुनाफा

    पहले था पांच लाख का कवर
    भारतीय बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण (IRDAI) ने पिछले साल जुलाई में आरोग्य संजीवनी मानक स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी को लेकर दिशानिर्देश जारी किए थे. इसमें बीमा कंपनियों को न्यूनतम एक लाख रुपए और अधिकतम पांच लाख रुपए तक का अनिवार्य बीमा कवर देने को कहा गया था.
    यह भी पढें : सरकार की इस योजना से देश में ही बड़े पैमाने पर बनेंगे डिस्प्ले, जॉब्स की होगी भरमार