Home /News /business /

अगर आप अपनी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी पोर्ट करवाने की सोच रहे हैं तो जान लीजिए ये जरूरी बातें, फायदे में रहेंगे

अगर आप अपनी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी पोर्ट करवाने की सोच रहे हैं तो जान लीजिए ये जरूरी बातें, फायदे में रहेंगे

 अगर आप अपनी स्वास्थ्य बीमा योजना को पोर्ट करना चाहते हैं, तो आपको स्वास्थ्य बीमा योजना के नवीनीकरण से कम से कम 45 दिन पहले प्रक्रिया शुरू करनी होगी.

अगर आप अपनी स्वास्थ्य बीमा योजना को पोर्ट करना चाहते हैं, तो आपको स्वास्थ्य बीमा योजना के नवीनीकरण से कम से कम 45 दिन पहले प्रक्रिया शुरू करनी होगी.

बीमा पॉलिसी में भी अब पोर्ट कराने की सुविधा आ गई है. मतबल अगर आप किसी बीमा कंपनी की सेवाओं से पूरी तरह संतुष्ट नहीं हैं तो आसानी से दूसरी कंपनी में अपनी पॉलिसी को पोर्ट (बदल) करा सकते हैं. बीमा कंपनी बदलने की इस प्रक्रिया को पोर्टिंग कहते हैं.

अधिक पढ़ें ...

Health Insurance New: अगर आप भी अपनी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी को किसी दूसरी कंपनी को पोर्ट करवाने का मन बना रहे हैं तो कुछ जरूरी बातें पहले ही जान लीजिए. इससे संबंधित कुछ नियमों में भी बदलाव हुआ है. बीमा पॉलिसी में भी अब पोर्ट कराने की सुविधा आ गई है. मतबल अगर आप किसी बीमा कंपनी की सेवाओं से पूरी तरह संतुष्ट नहीं हैं तो आसानी से दूसरी कंपनी में अपनी पॉलिसी को पोर्ट (बदल) करा सकते हैं. बीमा कंपनी बदलने की इस प्रक्रिया को पोर्टिंग कहते हैं.
नए बदलावों के बाद हम यहां पोर्टेबिलिटी से जुड़ी जरूरी बातों के बारे में बता रहे हैं.

प्रीमियम सहित सभी जानकारी पाता कर लें
अपनी स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी को पोर्ट कराते हैं, तो नई कंपनी आपकी प्रीमियम की दरों को तय करने के लिए स्वतंत्र होती है. पोर्ट के दौरान अगर आप उच्च जोखिम वाली श्रेणी में हैं, तो हो सकता है नई कंपनी पुरानी कंपनी की तुलना में आपसे अधिक प्रीमियम वसूल करे. ऐसे में पोर्ट कराने से पहले आपको इसके बारे में जानकारी ले लेनी चाहिए और आपको एक नहीं बल्कि तीन-चार बीमा कंपनियों के प्लान की पूरी जानकारी जुटानी चाहिए. इसके बाद जिस प्लान से आप संतुष्ट हों उसमें अपनी स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी को पोर्ट करा लीजिए.

यह भी पढ़ें- अडानी ग्रुप का यह शेयर रिकॉर्ड हाई से 25 फीसदी गिर गया था, आज 10 % का अपर सर्किट लगा, जानिए डिटेल

नई कंपनी के कवरेज, उसकी लिमिट और सब-लिमिट को समझें
कई लोग इंश्योरेंस पॉलिसी इसलिए पोर्ट कराते हैं कि दूसरी कंपनी कम प्रीमियम ऑफर कर रही है. नई कंपनी के कवरेज, उसकी लिमिट और सब-लिमिट को समझें. यह दावा करते समय परेशानी से बचाएगा. इसके साथ ही यहां पॉलिसी बदलते समय एक और बात का ध्यान रखा जाना बेहद जरूरी है कि आप अपनी पॉलिसी जिस नई कंपनी के ऑफर को देखकर बदल रहे हैं तो इससे पहले दूसरी और भी कंपनियों के ऑफर्स की तुलना उससे करें.

कितने दिन में पोर्ट होती है पॉलिसी
अगर आप अपनी स्वास्थ्य बीमा योजना को पोर्ट करना चाहते हैं, तो आपको स्वास्थ्य बीमा योजना के नवीनीकरण से कम से कम 45 दिन पहले प्रक्रिया शुरू करनी होगी. आपको अपनी वर्तमान बीमा कंपनी को पॉलिसी पोर्ट कराने के संबंध में सूचना देनी होगी. आपको नई बीमा कंपनी के बारे में भी जानकारी मुहैया करानी होगी. आपको अपनी अवधि को ब्रेक किए बिना ही पॉलिसी का नवीनीकरण करना होता है, इसलिए पोर्टिंग प्रक्रिया शुरु होने पर 30 दिन की अनुग्रह अवधि मिलती है.

किन समस्याओं के आने पर बदलते हैं कंपनी 

  • कंपनी की खराब सेवा
  • पॉलिसी में कम लाभ
  • अपर्याप्त कवर
  • डिजिटल फ्रेंडली नहीं
  • रूम किराया सीमा कम होना
  • जटिल दावा निपटान प्रक्रिया
  • दावा कवर देने में देरी
  • पारदर्शिता की कमी

Tags: Free health insurance, Health Insurance, Health insurance cover, Health insurance premium, Health insurance scheme

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर