लाइव टीवी

स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा- भारत के पास दवा का पर्याप्त स्टॉक, नहीं है घबराने की जरुरत

भाषा
Updated: February 14, 2020, 9:56 AM IST
स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा- भारत के पास दवा का पर्याप्त स्टॉक, नहीं है घबराने की जरुरत
केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन (Health Minister of India) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए दी जानकारी

कोरोना वायरस पर दहशत के बीच केंद्र सरकार ने देश को आश्वस्त किया कि इससे डरने की बात नहीं है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने बताया कि देश में दवाओं की कोई कमी नहीं है.

  • Share this:
नई दिल्ली. केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन (Health Minister of India) ने  प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया हैं, कि कोरोना वायरस से डरने की जरुरत नहीं है. साथ ही उन्होंने बताया कि देश में दवाओं की कोई कमी नहीं है. भारत, दवाओं के लिए चीन पर निर्भर नहीं है. स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि देश में 21 हवाई अड्डों पर यात्रियों की अनिवार्य स्क्रीनिंग प्रक्रिया के तहत अब तक 2315 उड़ानों से आये 2,51,447 यात्रियों की अब तक जांच की गयी. हवाईअड्डों के अलावा चीन से संपर्क वाले 77 छोटे बड़े बंदरगाहों पर भी यात्रियों की स्क्रीनिंग की जा रही है. हर्षवर्धन ने कहा कि कोरोना वायरस (China Coronavirus) के सेंपल टेस्ट के लिए देश भर में कार्यरत 15 प्रयोगशालाओं में अब तक 1756 सैंपल परीक्षण किये गये. इनमें सिर्फ तीन सैंपल में कोरोना वायरस की पुष्टि हुयी है और 26 सेंपल की रिपोर्ट अभी आना बाकी है.

भारत के दवा का पर्याप्त भंडार- भारत में दवाओं के लिये कच्चे माल की चीन से आपूर्ति, कोरोना वायरस के कारण प्रभावित होने के कारण देश में दवाओं की कमी के सवाल पर डा. हर्षवर्धन ने कहा कि मंत्री समूह की बैठक में इस विषय पर चर्चा हुयी. उन्होंने बताया कि रासायनिक उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख लाल मांडविया ने आश्वस्त किया है कि देश में तीन महीने का दवाओं का पर्याप्त भंडार सुरक्षित है.

>> उन्होंने कहा, अगले कुछ महीनों में चीन में हालात सामान्य नहीं होने पर भी भारत में दवाओं की आपूर्ति के लिये चिंता की कोई बात नहीं है. सरकार ने स्थिति से जुड़े सभी पहलुओं को ध्यान में रखते हुये पर्याप्त वैकल्पिक इंतजाम कर लिये हैं.

ये भी पढ़ें-चीन के कोरोना वायरस की वजह से भारत में महंगी हो सकती हैं रोजमर्रा की ये चीजें



>> हर्षवर्धन ने सरकार को अन्य देशों से प्राप्त जानकारी के हवाले से बताया कि चीन सहित 28 देशों में कोरोना वायरस की पहुंच हो गयी है. चीन में अब तक 48,206 लोगों में संक्रमण पाये जाने और 1310 की मौत हो गयी है.चीन से बाहर 27 देशों में कुल 570 मामलों में कोरोना वायरस की पुष्टि हुयी और दो लोगों की मौत हुयी है.

>> केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री की अध्यक्षता में गठित मंत्रियों के समूह की दूसरी बैठक के बाद डा. हर्षवर्धन ने बताया कि पूरे देश में कुल 15991 लोग निगरानी के दायरे में हैं. इनमें से 497 लागों में जुकाम और बुखार के लक्षण पाये जाने पर इन्हें चिकित्सा सुविधा मुहैया करायी गयी, जबकि 41 लोगों में संक्रमण के शुरुआती लक्षण पाये जाने पर पृथक चिकित्सा निगरानी केन्द्र (आईसोलेशन सेंटर) में रखा गया है.
रियल टाइम ट्रैकिंग सिस्टम के मुताबिक अभी तक दुनिया में 40 हजार से ज्यादा कोरोनावायरस से लोग प्रभावित हो चुके हैं. इनमें सबसे ज्यादा संख्या मेन लैंड चीन में रहने वाले लोगों के हैं.
रियल टाइम ट्रैकिंग सिस्टम के मुताबिक अभी तक दुनिया में 40 हजार से ज्यादा कोरोनावायरस से लोग प्रभावित हो चुके हैं. इनमें सबसे ज्यादा संख्या मेन लैंड चीन में रहने वाले लोगों के हैं.


>> उन्होंने स्पष्ट किया कि ये लोग हाल ही में चीन के वुहान से भारत लाये गये 652 लोगों से अलग हैं. उन्होंने बताया कि चीन से भारत आये लोगों में 645 भारतीय और सात मालदीव के नागरिक हैं. इन्हें दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में छावला और मानेसर स्थित आइसोलेशन केन्द्रों में रखा गया है.

चीन और दुनिया के बड़े स्वास्थ्य संगठन कोरोनावायरस से लड़ने के लिए लोगों की मदद कर रहे हैं. उन्हीं के प्रयास से 3498 कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों को दोबारा स्वस्थ्य किया गया है. इनमें सबसे ज्यादा 1797 मरीज हुबेई इलाके के हैं.
चीन और दुनिया के बड़े स्वास्थ्य संगठन कोरोनावायरस से लड़ने के लिए लोगों की मदद कर रहे हैं. उन्हीं के प्रयास से 3498 कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों को दोबारा स्वस्थ्य किया गया है. इनमें सबसे ज्यादा 1797 मरीज हुबेई इलाके के हैं.


>> हर्षवर्धन ने जापान के समुद्र तट पर एक जहाज में मौजूद भारतीय नागरिकों की वापसी के सवाल पर बताया कि उक्त जहाज में 439 यात्री मौजूद हैं. इनमें 138 भारतीय भी शामिल हैं.

>>उन्होंने कहा कि जापान स्थित भारतीय दूतावास जापान सरकार के साथ लगातार संपर्क में है. जापान सरकार ने सूचित किया है कि जहाज पर आइसोलेशन के इंतजाम कर कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने और संक्रमित पाये गये मरीजों के इलाज आदि के इंतजाम किये गये हैं.

 

>> उन्होंने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मानकों के मुताबिक जापान सरकार ने इस स्थिति से निपटने के लिये प्रोटोकॉल बनाया है. इसके तहत सभी यात्रियों और 174 संक्रमित मरीजों को प्रोटोकॉल के तहत स्वास्थ्य सुविधायें मुहैया करायी जा रही हैं. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि जापान सरकार से मंजूरी मिलने के बाद ही भारतीय यात्रियों की स्वदेश वापसी हो सकेगी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 14, 2020, 9:40 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर