सिरदर्द, सर्दी और बुखार जैसी हजारों दवाइयां जल्द हो सकती हैं बैन, जानें वजह...

स्वास्थ्य मंत्रालय सैरीडॉन और जिंटैप जैसी 6 हजार से ज्यादा दवाओं को बैन की तैयारी में है.

CNBC आवाज
Updated: September 13, 2018, 1:22 PM IST
सिरदर्द, सर्दी और बुखार जैसी  हजारों दवाइयां जल्द हो सकती हैं बैन, जानें वजह...
Representative image
CNBC आवाज
Updated: September 13, 2018, 1:22 PM IST
सिरदर्द, बदन दर्द, सर्दी और बुखार जैसी बीमारियों में इस्तेमाल की जाने वाली कई जेनेरिक दवाइयां जल्द ही बैन की जा सकती है. सूत्रों के मुताबिक, स्वास्थ्य मंत्रालय ने इन जैसी 6 हजार से अधिक दवाओं को बैन करने का फैसला किया है.

बताया जा रहा है कि दवा बनाने वाली कंपनियों ने 328 फिक्स डोज़ कॉम्बिनेशन वाली दवाओं के प्रभाव और दुष्प्रभाव का अध्ययन किए बिना ही इन दवाइयों को बाजार में उतार दिया था, जिससे स्वास्थ्य मंत्रालय नाराज था. इस कदम से सन फार्मा, सिप्ला, वॉकहार्ट और फाइजर जैसी कई फार्मा कंपनियों को तगड़ा झटका लगा है.

फटाफट Loan चुकाने के लिए अपनाएं ये टिप्स, जल्द छूट जाएगा EMI से पीछा



इस बैन से 3-4 हजार करोड़ रुपये के दवा कारोबार पर असर पड़ेगा. फाइजर, सिप्ला के 6000 से अधिक ब्रांड को झटका लगा है. सन फार्मा, वॉकहार्ट जैसी कंपनियों को भी इसका झटका लगा है.

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर डीटीएबी ने 328 दवाओं की जांच की थी उसके बाद ये फैसला लिया गया है. इस बैन का असर सैरिडॉन, एस-प्रॉक्सिवोन, निमिलाइड फेन, जिंटैप पी, एमक्लॉक्स, लिनॉक्स एक्स टी और जैथरिन ए एक्स जैसी दवाओं पर पड़ेगा.

सरकार दे रही है बिना गारंटी के 10 लाख तक का लोन!
Loading...
 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर