COVID-19 के इलाज के लिए 5400 रुपए में मिलेगी कोविफोर की एक शीशी!, यहां 20 हजार शीशी सप्लाई करेगी Hetero

हेटेरो कोविड-19 उपचार के लिए कोविफोर की 20,00 शीशियों की आपूर्ति करेगी
हेटेरो कोविड-19 उपचार के लिए कोविफोर की 20,00 शीशियों की आपूर्ति करेगी

हेटेरो हेल्थकेयर (Hetero Healthcare) ने एक बयान में कहा, कंपनी ने 20,000 शीशियों के लिए 10,000 शीशियों की दो लॉट डिलीवर करने के लिए तैयार है, जिसमें से एक लॉट हैदराबाद, दिल्ली, गुजरात, तमिलनाडु, मुंबई और महाराष्ट्र के अन्य हिस्सों में तुरंत आपूर्ति की जाएगी.

  • Share this:
नई दिल्ली. दवा कंपनी हेटेरो हेल्थकेयर (Hetero Healthcare) ने बुधवार को कहा कि वह कोविड-19 (Covid-19) के इलाज के लिए अपनी एंटीवायरल दवा कोविफोर (Covifor) की 20,000 शीशियों की डिलिवरी के लिए तैयार है. कोविफोर की मैक्सिमम रिटेल प्राइस 5,400 रुपए प्रति शीशी होगी. हेटेरो हेल्थकेयर ने एक बयान में कहा, कंपनी ने 20,000 शीशियों के लिए 10,000 शीशियों की दो लॉट डिलीवर करने के लिए तैयार है, जिसमें से एक लॉट  हैदराबाद, दिल्ली, गुजरात, तमिलनाडु, मुंबई और महाराष्ट्र के अन्य हिस्सों में तुरंत आपूर्ति की जाएगी. वहीं एक अन्य लॉट यह एक हफ्ते के भीतर कोलकाता, इंदौर, भोपाल, लखनऊ, पटना, भुवनेश्वर, रांची, विजयवाड़ा, कोचीन, त्रिवेंद्रम और गोवा में सप्लाई की जाएगी.

कंपनी ने कहा कि उसने दवा के लिए अधिकतम खुदरा मूल्य 5,400 रुपये प्रति शीशी तय किया है. मंगलवार को फार्मा कंपनी सिप्ला (Cipla) ने कहा कि वह रेमेडिसिवरी की जेनरिक वर्जन की कीमत 5,000 रुपए प्रति शीशी से कम होगी. कंपनी ने यह भी कहा कि यह दवा अगले 8 से 10 दिनों में उपलब्ध होगी.

यह भी पढ़ें- कोरोना संकट में ‘वैक्सीन किंग’ ने कमाएं अरबों रुपए, अब शामिल हुआ दुनिया के 100 अमीरों में, सबसे तेज बढ़ी दौलत



हेटेरो हेल्थकेयर के एमडी एम श्रीनिवास रेड्डी ने कहा, भारत में कोविफोर का लॉन्च हम सभी के लिए एक मील का पत्थर है...कोविफोर के माध्यम से, हम एक अस्पताल में एक मरीज के उपचार के समय को कम करने की उम्मीद करते हैं, जिससे चिकित्सा बुनियादी ढांचे पर बढ़ते दबाव को कम किया जा सकता है.
उन्होंने कहा कि कंपनी सरकारी और चिकित्सा समुदाय के साथ मिलकर काम कर रही है, ताकि देश भर में सार्वजनिक और निजी दोनों स्वास्थ्य सेवाओं के लिए 'कोविफर' जल्दी उपलब्ध हो सके. बयान में कहा गया है कि Covifor रेमेडिसविर का पहला जेनेरिक ब्रांड है, जो वयस्कों और बच्चों में COVID -19 रोगियों के इलाज के लिए किया जाता है. यह दवा 100 एमजी की शीशी (इंजेक्शन) के रूप में उपलब्ध होगी.

कंपनी ने रविवार को कहा कि उसे इसके लिए भारतीय औषधि महानियंत्रक DCGI) की अनुमति मिल गई है. हेटेरो ने बयान में कहा कि कंपनी को DCGI से रेमडेसिवीर के विनिर्माण और विपणन की अनुमति मिल गई है. मई में, घरेलू फार्मा कंपनियों हेटेरो, सिप्ला और जुबिलेंट लाइफ साइंसेज ने रेमेडिसविर के निर्माण और वितरण के लिए दवा प्रमुख गिलियड साइंसेज इंक के साथ नॉन-एक्सक्लूसिव लाइसेंसिंग एग्रीमेंट किया था.

यह भी पढ़ें- मोदी सरकार के 6 बड़े फैसले- आम आदमी पर होगा सीधा असर

ग्लेनमार्क ने लॉन्च की है टैबलेट
बता दें कि इसके पहले ग्लेनमार्क ने भी माइल्ड कोविड-19 वाले मरीजों के लिए एक दवा को लॉन्च किया है. ग्नलेनमर्का ने FabiFlu नाम की इस दवा की कीमत 103 रुपये प्रति टैबलेट रखी है. FabiFlu कोविड-19 की इलाज के लिए मंजूरी प्राप्त करने वाली पहली Favipiravir दवा है. इस दवा का इस्तेमाल पहले दिन डॉक्टर्स की सलाह पर 1,800 mg दो बार किया जा सकता है. इसके बाद अगले 14 दिन तक 800 mg का डोज़ (FabiFlu Dose) दिन में दो बार दिया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज