बड़ी राहत: Jet Airways को खरीदने की तैयारी में हिंदुजा ग्रुप, जल्द लगा सकता है बोली

पैसों की कमी के बाद अस्थाई तौर पर सेवाएं बंद कर चुकी एविएशन कंपनी जेट एयरवेज को हिंदुजा ग्रुप खरीदने की तैयारी में है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हिंदुजा ग्रुप इस हफ्ते बोली की शुरुआत करेगा.

News18Hindi
Updated: May 21, 2019, 5:54 PM IST
बड़ी राहत: Jet Airways को खरीदने की तैयारी में हिंदुजा ग्रुप, जल्द लगा सकता है बोली
पैसों की कमी के बाद अस्थाई तौर पर सेवाएं बंद कर चुकी एविएशन कंपनी जेट एयरवेज को हिंदुजा ग्रुप खरीदने की तैयारी में है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हिंदुजा ग्रुप इस हफ्ते बोली की शुरुआत करेगा.
News18Hindi
Updated: May 21, 2019, 5:54 PM IST
पैसों की कमी के बाद अस्थाई तौर पर सेवाएं बंद कर चुकी एविएशन कंपनी जेट एयरवेज को हिंदुजा ग्रुप खरीदने की तैयारी में है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हिंदुजा ग्रुप इस हफ्ते बोली की शुरुआत करेगा. इसके लिए हिंदुजा ग्रुप ने नरेश गोयल और स्ट्रैटेजिक निवेशक एतिहाद एयरवेज से सहमति ले ली है. हिंदुजा बंधु--जीपी हिंदुजा और अशोक हिंदुजा ने एसबीआई कैपिटल मार्केट की अगुआई वाले बैंकों के कंशोर्सियम से इस बारे में बातचीत शुरू कर दी है. नरेश गोयल और हिंदुजा बंधुओं के बीच दो दशक से भी ज्यादा पुराने संबंध हैं. हालांकि, इस मामले को लेकर एसबीआई ने कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है.

>> न्यूज एजेंसी रॉयटर्स को सूत्रों की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक, हिंदुजा ग्रुप ने ड्यू डेलिजेंस के लिए एसबीआई कैपिटल मार्केट्स के नेतृत्व वाले इन्वेस्टर्स बैंकर्स से बातचीत कर ली है, जिसकी घोषणा जल्द ही की जाएगी.





आपको बता दें कि देश के कई कारोबारी घरानों ने जेट को संकट से उबारने के लिए इसके कर्जदाताओं तथा गोयल की अपील को ठुकरा दिया है. टाटा ग्रुप ने पहले इसमें दिलचस्पी जताई थी, लेकिन बाद में उसने कदम पीछे खींच लिए. इससे पहले हिंदुजा ग्रुप की निगाह कर्ज में डूबी एयर इंडिया को खरीदने की थी, जब उसके निजीकरण की बात चली थी.

ये भी पढ़ें-जेट संकटः एक दिन में तीन इस्तीफे, सुबह CFO, दिन में CEO और अब CS ने भी छोड़ा साथ

कौन है हिंदुजा ब्रदर्स- हिंदुजा बंधु चार भाई हैं. इनमें लंदन निवासी श्रीचंद हिंदुजा और गोपीचंद हिंदुजा दुनिया भर में हिंदुजा ग्रुप के तहत तेल व गैस, बैंकिंग, आईटी व प्रॉपर्टी का कारोबार करते हैं. दोनों भाई निर्यात कारोबार को बढ़ावा देने के लिए वर्ष 1979 में लंदन आए थे.


Loading...

>> उन्होंने ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल के ओल्ड वार ऑफिस का वर्ष 2014 में 35 करोड़ पाउंड (3,150 करोड़ रुपये) में अधिग्रहण कर लिया. इसे वे एक लक्जरी होटल में तब्दील कर रहे हैं, जिसके अगले वर्ष तैयार हो जाने की उम्मीद है. तीसरे भाई प्रकाश हिंदुजा स्विट्जरलैंड के जेनेवा में फाइनेंस का कारोबार संभालते हैं. चौथे भाई अशोक हिंदुजा भारत में ग्रुप के कारोबार की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं.

>> हिंदुजा समूह की स्थापना मुंबई में 1914 में हुई थी. अब इस ग्रुप का तेल एवं गैस, बैंकिंग, आईटी व संपत्ति में दुनिया भर में कारोबार है. ब्रिटिश नागरिक श्रीचंद (83) और गोपी (79) लंदन में रहते हैं.

>> साल 1919 में इसका पहला अंतर्राष्ट्रीय परिचालन ईरान में शुरू किया गया था. समूह का मुख्यालय ईरान ले जाया गया, जहां यह 1979 तक रहा, लेकिन बाद में इस्लामी क्रांति की वजह से मुख्यालय को यूरोप ले जाने पर बाध्य होना पड़ा.

>> दोनों भाई निर्यात व्यवसाय को बढ़ावा देने के लिए 1979 में लंदन चले गए थे. वहीं, तीसरे भाई प्रकाश जिनेवा, स्विटजरलैंड में समूह के वित्त का प्रबंधन करते हैं. वहीं, सबसे छोटे अशोक भारत में कंपनी के बिजनेस को देखते हैं. इनके स्वामित्व वाली संपत्तियों में व्हाइटहाल में ओल्ड वार ऑफिस शामिल है, जिसे लेकर उनकी योजना लक्जरी होटल के रूप में फिर से खोलने की है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...