Home /News /business /

प्राइवेट बैंकों में प्रमोटर की 26% हिस्सेदारी की परमिशन पर खुश हिंदुजा ग्रुप, क्या होगा लाभ

प्राइवेट बैंकों में प्रमोटर की 26% हिस्सेदारी की परमिशन पर खुश हिंदुजा ग्रुप, क्या होगा लाभ

हिंदुजा ग्रुप (Hinduja group) ने भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की तरफ से निजी क्षेत्र के बैंकों (प्राइवेट बैंक) में प्रमोटर (प्रवर्तक) को 26 प्रतिशत हिस्सेदारी रखने की परमिशन देने के फैसले का स्वागत किया है.

हिंदुजा ग्रुप (Hinduja group) ने भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की तरफ से निजी क्षेत्र के बैंकों (प्राइवेट बैंक) में प्रमोटर (प्रवर्तक) को 26 प्रतिशत हिस्सेदारी रखने की परमिशन देने के फैसले का स्वागत किया है.

हिंदुजा ग्रुप (Hinduja group) ने भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की तरफ से निजी क्षेत्र के बैंकों (प्राइवेट बैंक) में प्रमोटर (प्रवर्तक) को 26 प्रतिशत हिस्सेदारी रखने की परमिशन देने के फैसले का स्वागत किया है. पीटीआई की खबर के मुताबिक, हिंदुजा ने पूर्व में इंडसइंड बैंक (IndusInd Bank) में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाने की परमिशन के लिए केंद्रीय बैंक के पास अप्लाई किया था. हिंदुजा की यूनिट, आईआईएचएल मॉरीशस (IIHL Mauritius) इंडसइंड बैंक (Indusind bank) की प्रमोटर है. वह बैंक में अपनी हिस्सेदारी 15 प्रतिशत से बढ़ाकर 26 प्रतिशत तक करना चाहता था.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. हिंदुजा ग्रुप (Hinduja group) ने भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की तरफ से निजी क्षेत्र के बैंकों (प्राइवेट बैंक) में प्रमोटर (प्रवर्तक) को 26 प्रतिशत हिस्सेदारी रखने की परमिशन देने के फैसले का स्वागत किया है. पीटीआई की खबर के मुताबिक, हिंदुजा ने पूर्व में इंडसइंड बैंक (IndusInd Bank) में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाने की परमिशन के लिए केंद्रीय बैंक के पास अप्लाई किया था.

    खबर के मुताबिक, हिंदुजा की यूनिट, आईआईएचएल मॉरीशस (IIHL Mauritius) इंडसइंड बैंक (indusind bank) की प्रमोटर है. उसने बैंक में अपनी हिस्सेदारी 15 प्रतिशत की पिछली सीमा से बढ़ाकर 26 प्रतिशत तक करने के लिए रिजर्व बैंक (RBI) के पास अप्लाई किया था. इसके अलावा हिंदुजा ने इस मामले में स्थिति साफ करने को भी कहा था कि क्योंकि उसके कंपीटिटर कोटक महिंद्रा बैंक (Kotak Mahindra Bank) के प्रमोटर को अपनी हिस्सेदारी 26 प्रतिशत करने की परमिशन दी गई थी. हालांकि, कोटक महिंद्रा को यह परमिशन अदालतों में घूमने के बाद मिली थी.

    ये भी पढ़ें – WhatsApp का आवेदन स्वीकार, अब मिलेगी PhonePe, Google Pay को कड़ी टक्कर

    हितधारकों के लिए फायदेमंद होगी
    आईआईएचएल के चेयरमैन अशोक हिंदुजा ने कहा, ‘हमारा मानना​है कि प्रमोटर को ज्यादा हिस्सेदारी की परमिशन खासकर ऐसे समय जब भारतीय अर्थव्यवस्था तेजी से आगे बढ़ने के लिए तैयार है, सभी हितधारकों के लिए फायदेमंद होगी. इसमें नियामक, बैंकिंग संस्थान और उसके ग्राहक सभी शामिल हैं.’

    ये भी पढ़ें – Tega Industries IPO: ग्रे-मार्केट में चल रहा 50% प्रीमियम, जानिए बाकी डिटेल

    ऑपरेशन गाइडलाइंस का इंतजार
    भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने शुक्रवार को निजी क्षेत्र के बैंकों पर संशोधित गाइडलाइंस जारी किए. इन गाइडलाइंस के तहत प्रवर्तकों को निजी क्षेत्र के बैंकों में 26 प्रतिशत हिस्सेदारी रखने की परमिशन दी गई है. हालांकि, पूर्व गवर्नरों सहित विभिन्न हलकों के विरोध के बाद कॉरपोरेट समूहों को बैंकों के स्वामित्व की परमिशन नहीं दी गई है. रिजर्व बैंक के इंटरनल वर्किंग ग्रुप ने इस बारे में सिफारिश की थी. हिंदुजा ने कहा कि आईआईएचएल अब ऑपरेशन गाइडलाइंस का इंतजार कर रही है क्योंकि यह प्रोमोटर की तरफ से और पूंजी डालकर अपनी हिस्सेदारी को 26 प्रतिशत तक बढ़ाने के लिए एक अवसर है.

    Tags: Investment, RBI, Rbi policy

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर