Home /News /business /

hindustan unilever britannia and godrej consumer stocks rise over 3 percent as crude palm oil prices fall prdm

सस्‍ते पाम तेल ने कराई निवेशकों की 'चांदी', एचयूएल, ब्रिटानिया गोदरेज के शेयरों में बड़ा उछाल, किसने दिया कितना फायदा?

पाम तेल की कीमतों में कुछ सप्‍ताह के दौरान 35 फीसदी गिरावट आई है.

पाम तेल की कीमतों में कुछ सप्‍ताह के दौरान 35 फीसदी गिरावट आई है.

ग्‍लोबल मार्केट में पाम तेल की कीमतों में पिछले कुछ सप्‍ताह के दौरान बड़ी गिरावट आई है. इंडोनेशिया से दोबारा निर्यात बहाल होने और मलेशिया के उत्‍पादन बढ़ाने की खबरों के बाद तेल की कीमतों में गिरावट दिख रही है. इसका फायदा भारतीय एफएमसीजी कंपनियों को मिला और उनके स्‍टॉक्‍स ने आज जोरदार बढ़त बनाई.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. ग्‍लोबल मार्केट में क्रूड पाम ऑयल की कीमतों में आ रही गिरावट का लाभ उपभोक्‍ताओं के साथ शेयर बाजार के निवेशक भी उठा रहे हैं. उपभोक्‍ता उत्‍पाद बनाने वाली कंपनियों के स्‍टॉक्‍स में क्रूड सस्‍ता होने से बड़ा उछाल आया है.

हिंदुस्‍तान यूनिलीवर (HUL), ब्रिटानिया और गोदरेज कंज्‍यूमर जैसी कंपनियों के शेयरों में बुधवार को तगड़ा उछाल दिखा. इन कंपनियों को सस्‍ते पॉम तेल का बड़ा लाभ हुआ है. बीएसई पर गोदरेज के शेयरों में आज दोपहर 4.92 फीसदी का तगड़ा उछाल दिखा जबकि ब्रिटानिया के शेयरों में 3.41 फीसदी की तेजी रही. इसी तरह, एचयूएल के शेयर 2.95 फीसदी की बढ़त के साथ 2,472.25 रुपये के भाव पर ट्रेडिंग करने लगे.

ये भी पढ़ें – Edible Oil : खाद्य तेलों के दाम और घटेंगे! क्‍या कोशिश कर रही सरकार और कब तक होगा इसका असर?

35 फीसदी घट गए दाम
ग्‍लोबल मार्केट में क्रूड पाम तेल की वायदा कीमत में पिछले कुछ सप्‍ताह के दौरान 35 फीसदी की बड़ी गिरावट आई है. यह गिरावट इंडोनेशिया से पाम तेल का निर्यात दोबारा शुरू होने और वैश्विक खपत में कमी आने की रिपोर्ट के कारण दिख रही है. मलेशिया के पाम तेल का वायदा भाव 8 फीसदी गिरकर एक साल के निचले स्‍तर पर चला गया है. यहां इस साल पाम तेल की बंपर पैदावार होने का अनुमान है, जिससे कीमतों पर दबाव है. रॉयटर ने मंगलवार को एक पोल के जरिये बताया था कि मलेशिया से पाम तेल का निर्यात जून के अंत तक 12.3 फीसदी बढ़ गया है.

ये भी पढ़ें – अमेरिकी बाजार में गिरावट ने 50 साल का रिकॉर्ड तोड़ा, अभी और जाएगा नीचे, भारत पर क्या होगा इसका असर?

एफएमसीजी कंपनियों की जरूरत
घरेलू एफएमसीजी कंपनियों के लिए पाम तेल सबसे जरूरी उत्‍पाद माना जाता है. इसकी कीमतों में तेजी से गिरावट आने से इन कंपनियों की कमाई बढ़ने की पूरी उम्‍मीद है. रूस-यूक्रेन युद्ध के बाद पाम तेल की कीमतों में अचानक उछाल आने के बाद इन कंपनियों ने अपने उत्‍पादों की कीमतें भी बढ़ा दीं थी. अब पाम तेल सस्‍ता होने पर अनुमान है कि एफएमसीजी उत्‍पादों की महंगाई में भी नरमी आएगी.

इंडोनेशिया ने अपना उत्‍पादन बढ़ाने के साथ पाम तेल के निर्यात पर लगने वाले टैक्‍स को भी 575 डॉलर प्रति टन से घटाकर 488 डॉलर प्रति टन कर दिया है. इसका फायदा भारत जैसे बड़े आयात देशों को होगा. भारत अपनी कुल जरूरत का 60 फीसदी खाद्य तेल आयात करता है, जिसमें पाम की सबसे बड़ी हिस्‍सेदारी है.

Tags: Business news in hindi, Indian FMCG industry, Palm oil, Share market

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर