इमरान के फैसले से नाराज़ पाकिस्तानी बोले- हम हो जाएंगे कंगाल, रोज़ाना 30% महंगी हो जाएंगी चीजें

पाकिस्तान सरकार और IMF के बीच जो डील हुई है, उससे पाकिस्तान में रोजमर्रा की जरूरतों की वस्तुओं की कीमतों में करीब 30 फीसदी तक बढ़ोतरी हो सकती है, जिससे जनता की मुश्किलें और बढ़ जाएंगी.

News18Hindi
Updated: July 13, 2019, 3:58 PM IST
इमरान के फैसले से नाराज़ पाकिस्तानी बोले- हम हो जाएंगे कंगाल, रोज़ाना 30% महंगी हो जाएंगी चीजें
इमरान के फैसले से नाराज़ पाकिस्तानी बोले- हम हो जाएंगे कंगाल, रोज़ाना 30% महंगी हो जाएंगी चीजें
News18Hindi
Updated: July 13, 2019, 3:58 PM IST
पाकिस्तानियों की परेशानियां रोज़ाना बढ़ती जा रही है. कमर तोड़ महंगाई से परेशान पाकिस्तानी अब इमरान खान सरकार के खिलाफ सड़क पर उतर गए हैं. पाकिस्तान के अखबारों में छपी खबरों के मुताबिक, आर्थिक तंगी को दूर करने के लिए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) से कर्ज लिया है. IMF ने कर्ज के बदले कठोर आर्थिक कदम उठाने के लिए कहा है. ऐसे में पाकिस्तानियों पर कई और तरह के टैक्स लगाए जा रहे हैं. इसीलिए इन सभी के विरोध में पाकिस्तानी सरकार के विरोध में सड़क पर उतर गए  हैं. आपको बता दें कि कई मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया है कि IMF के कड़ी शर्तों से हर दिन 30 फीसदी तक रोजमर्रा के सामान महंगे हो जाएंगे.

रोजाना 30 फीसदी महंगी हो रही है रोजमर्रा की चीज़े- पाकिस्तान सरकार और IMF के बीच जो डील हुई है, उससे पाकिस्तान में रोजमर्रा की जरूरतों की वस्तुओं की कीमतों में करीब 30 फीसदी तक बढ़ोतरी हो सकती है, जिससे जनता की मुश्किलें और बढ़ जाएंगी.



बदल पाकिस्तान में महंगाई 13 फीसदी से ज्यादा बढ़ने का अनुमान


पाकिस्तान की सरकार अभी तक जनता को जो करों में राहत दे रही थी, उसे वापस लेना होगा. इसके अलावा नए करों को लागू करना है. यहीं नहीं, IMF का कहना है कि आने वाले दिनों में पाकिस्तान की सरकार को सरकारी नौकरियों में भी कटौती करनी होगी, ताकि सरकार पर आर्थिक बोझ कम हो सके, जिसके बाद से ही विरोध हो रहा है.

पाकिस्तान में बंद हुए बाज़ार- आम आदमी से लेकर बिजनेसमैन तक सड़क पर उतर आए हैं, जिससे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की मुश्किलें बढ़ गई हैं. पाकिस्तान के तमाम बड़े शहर आज बंद हैं, बंद को पाकिस्तान के विपक्षी दलों ने भी समर्थन दिया है.

पाकिस्तान के कारोबारी संगठन देशव्यापी हड़ताल कर रहे हैं, जिसका असर दिख भी रहा है. कराची और इस्लामाबाद में सबसे ज्यादा असर दिख रहा है. पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक, इस हड़ताल को टालने की सभी कोशिशें नाकाम हो चुकी हैं. कराची में प्रधानमंत्री इमरान खान से व्यापारी नेताओं की बातचीत बेनतीजा रही.

पाकिस्तान में कारोबारी भी हुए बदहाल

Loading...

कारोबारी संगठनों का कहना है कि केंद्रीय बजट में कर से जुड़े प्रावधानों के खिलाफ देश में बंद का आह्वान किया है. उनका कहना है कि उन्हें इससे आपत्ति नहीं है कि सरकार कर दायरे को बढ़ाना चाहती है, लेकिन यह डंडे के जोर पर किया जा रहा है जो मंजूर नहीं है.

उन्होंने कहा कि देश में उद्योग-धंधों का बुरा हाल है. अर्थव्यवस्था का कोई क्षेत्र ऐसा नहीं है, जिसमें दिक्कत न हो. ऐसे में कारोबारियों के साथ जोर-जबरदस्ती मंजूर नहीं की जा सकती.

लाहौर में ऑल पाकिस्तान अंजुमन-ए-ताजिरान के महासचिव नईम मीर का कहना है कि सरकार के साथ कारोबारी तब तक बातचीत नहीं करेंगे, जब तक सरकार 'अनुचित टैक्स' को वापस नहीं ले लेती.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...