Home Loan की EMI पूरी होने के बाद गलती से भी न करें ये भूल, जरूर कर लें ये काम

होम लोन
होम लोन

होम लोन की पूरी EMI चुकाने के बाद बैंक या वित्तीय संस्थान से एक डॉक्युमेंट जरूर प्राप्त कर लेना चाहिए. इस डॉक्युमेंट से यह सुनिश्चित हो जाएगा कि ईएमआई चुकाने के बाद बैंक या वित्तीय संस्थान का आपकी प्रॉपर्टी पर कोई दावा नहीं बनता है. इसके कई अन्य फायदे भी हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 4, 2020, 10:13 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अगर आपने भी होम लोन (Home Loan) लिया है तो आपको यह खबर जरूर पढ़ना चाहिए. किसी भी बैंक या वित्तीय संस्थान से होम लोन लेने के बाद इसकी पूरी EMI चुकाना एक बड़ी राहत की बात होती है. लेकिन, EMI चुकाने के बाद एक बार जरूरी काम को पूरा करना आपको निश्चिंत कर सकता है. दरअसल, होम लोन का रिपेमेंट (Home Loan Repayment) करने के बाद नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (NoC - No Objection Certificate)  हासिल करना चाहिए. NoC एक तरह का सर्टिफिकेट होता है, जिसमें जानकारी होती है कि आपने होम लोन चुका दिया है और बैंक या वित्तीय संस्थान के प्रति आपकी कोई देनदारी नहीं है. NoC प्राप्त करना कई मायनों में जरूरी है.

एनओसी लेने के बाद बैंक का प्रॉपर्टी पर कोई दावा नहीं
जब आप बैंक या वित्तीय संस्थान को होम लोन को पूरा रिपेमेंट कर देते हैं तो आपको NoC लेना चाहिए. इस एक सामान्य सर्टिफिकेट से यह सुनिश्चित हो जाता है कि अब आपको कोई रकम बैंक या वित्तीय संस्थान को नहीं चुकानी है. साथ ही, NoC लेने के बाद घर पूरी तरह से आपका होता है. बैंक या वित्तीय संस्थाअन आपकी प्रॉपर्टी प कोई दावा नहीं कर सकता है.

कई बार ऐसा होता है कि होम लोन की पूरी EMI चुकाने के बाद आप पर बैंक या वित्तीय संस्थान का कुछ बकाया निकल सकता है. ऐसे में इससे बचने के लिए एनओसी हासिल कर लेना चाहिए. इस यह एक तरह का कानूनी दस्तावेज होता है जो यह बताता है कि बैंक या वित्तीय संस्थान के प्रति आपका कोई बकाया नहीं है. इस नो ड्यूज सर्टिफिकेट (No Dues Certificate) भी कहते हैं.
यह भी पढ़ें: वरिष्ठ नागरिकों को यहां मिलेगा मोटा मुनाफा! एफडी पर 8 फीसदी तक मिल रहा ब्याज



क्रेडिट स्कोर पर पड़ेगा असर
जब आप एक बार NoC ले लेते हैं, तभी आपका पिछला लोन क्लोज माना जाता है. अगर आपने NoC नहीं ली है तो आपका पिछला लोन पूरी तरह से क्लोज नहीं माना जाएगा. आपके क्रेडिट स्कोर पर भी इसका असर देखने को मिलेगा. लिहाजा, ​भविष्य में किसी लोन के लिए अप्लाई करते समय आपको थोड़ी परेशानी भी हो सकती है.

आमतौर पर तो यह होता कि एनओसी को बैंक या वित्तीय संस्थाना द्वारा ग्राहक के पते पर रजिस्टर्ड पोस्ट के जरिए भेजी जाती हे. इसीलिए यह भी सुनिश्चित करना जरूरी है कि आपका पता और मोबइल नंबर सही है या नहीं.

यह भी पढ़ें: खुशखबरी! आज से सस्ता हुआ खाना पकाना और गाड़ी चलाना, घट गए CNG-PNG के दाम

इंश्योरेंस का फायदा भी मिलेगा
NoC का एक फायदा यह भी होता है कि अगर आपने प्रॉपर्टी का इंश्योरेंस कराया है तो किसी भी तरह क्लेम सीधे आपको दिया जाएगा. एनओसी नहीं लेने की सूरत में यह इंश्योरेंस क्लेम की रकम कर्जदाता को दिया जाएगा. इन्हीं कारणों से आपके लिए जरूरी है कि होम लोन की पुरी ईएमआई चुकाने के बाद बैंक या वित्तीय संस्थान से एनओसी जरूरी प्राप्त करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज