लाइव टीवी

15 साल में सबसे सस्ता होम लोन! अब इतने रुपये कम देनी होगी EMI

News18Hindi
Updated: May 23, 2020, 5:19 PM IST
15 साल में सबसे सस्ता होम लोन! अब इतने रुपये कम देनी होगी EMI
आरबीआई द्वारा लगातार ब्याज दरों में कटौती के बाद होम लोन लेने वाले कर्जदारों को फायदा होगा.

कोविड-19 की संकट को देखते हुए RBI लगातार नीतिगत ब्याज दरों में कटौती कर रहा है. अक्टूबर 2019 से अब तक होम लोन दरों में 1.4 फीसदी की गिरावट आ चुकी है. यह 15 साल में होम लोन की सबसे कम ब्याज दर है.

  • Share this:
नई दिल्ली. अगर आप घर खरीदने की योजना बना रहे तो ये खबर आपके काम की है. भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के रेपो रेट घटा देने के बाद होम लोन की ब्याज दर घटकर करीब 7 फीसदी पर आने की उम्मीद है. यह 15 साल में होम लोन की सबसे कम ब्याज दर होगी. आरबीआई ने शुक्रवार को रेपो रेट 0.40 फीसदी घटा दिया है. रेपो रेट पर ही होम सहित दूसरे लोन की ब्याज दर निर्भर करती है.

RBI के इस फैसले से सबसे अधिक फायदा होम लोन (Latest Home Loan Rates) लेने वाले लोगों को होगा, क्योंकि इस कैटेगरी में ब्याज दर घटकर 7 फीसदी के करीब आ जाएगा. पिछले 15 साल में यह न्यूनतम स्तर है. RBI ने उन लोगों को भी राहत दी है जो कोविड-19 के मौजूदा संकट से पहले लिए गए लोन की EMI नहीं जमा कर पा रहे हैं. उन्हें अब अगस्त महीने तक EMI से राहत मिल सकेगी.

ब्याज दरों में कटौती से कैसे होगा फायदा?
जिन कर्जदारों ने मोरेटोरियम (Loan Moratorium) की पहली अवधि यानी मार्च से मई के दौरान इसका लाभ नहीं लिया था और अब उन्हें पैसों की किल्लत की वजह से EMI देने में परेशानी हो रही है, वो भी RBI के इस फैसले का लाभ ले सकते हैं. अगर किसी ने 30 लाख रुपये का लोन लिया है और इसकी मैच्योरिटी 15 साल के लिए बाकी है तो उन्हें अतिरिक्त 2.34 लाख रुपये ब्याज के तौर पर देना होगा. लेकिन, ब्याज दरें कम होने की वजह से इसका एक अच्छा खासा हिस्सा बच सकेगा.



यह भी पढ़ें: 3 महीने के लिए पीएफ कंट्रीब्यूशन घटाने से क्या होगा आपकी सैलरी पर असर? EPFO ने दिए जवाब



अब SBI से 30 लाख रुपये के लोन लेने पर कितना ब्याज देना होगा?
मौजूदा कर्जदारों के लिए SBI से 30 लाख रुपये के लोन पर ब्याज दर ऑटोमेटिक तौर पर 7.4 फीसदी से घटकर 7 फीसदी हो जाएगा. 30 लाख से 75 लाख रुपये के लोन पर यह ब्याज दर 7.65 फीसदी से घटकर 7.25 फीसदी और 75 लाख रुपये से अधिक के लोन पर यह 7.75 फीसदी से घटकर 7.35 फीसदी हो जाएगा. ​महिलाओं के लिए इस ब्याज दर में 5 आधार अंक की अतिरिक्त कमी होगी.

पिछले 8 महीने में 1.4 फीसदी घटा होम लोन पर ब्याज
अक्टूबर 2019 में होम लोन को रेपो रेट से लिंक करने का फैसला किया गया था. इसके बाद से अब तक होम लोन दरों में 1.4 फीसदी की गिरावट आ चुकी है. अक्टूबर में 30 लाख रुपये के होम लोन पर 22,855 रुपये ईएमआई देनी होती थी, लेकिन अब यह घटकर 19,959 रुपये हो गया है. यानी सीधे तौर पर इसमें प्रति महीने 2,896 रुपये की बचत हो रही है.

यह भी पढ़ें: हवाई यात्रा करने के बाद घर की जगह क्या क्वारंटाइन करना होगा? सरकार ने दिया जवाब

इन्हें नहीं मिलेगा रेपो रेट में कटौती का पूरा लाभ
हालांकि, जिन हाउसिंग फाइनेंस और बैंकों ने अपने होम लोन दरों को रेपो रेट से नहीं लिंक किया है, वो आरबीआई द्वारा इस कटौती का फायदा नहीं दे पाएंगे. हालांकि बाजार में प्रतिस्पर्धा को देखते हुए एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) ने पहले ही ब्याज दरों को घटाकर 7.5 फीसदी कर दिया है. बता दें कि दरों में कटौती का लाभ ग्राहकों तक पहंचाने के लक्ष्य से आरबीआई ने बैंकों से वरीयता वाले सेक्टर लोन को एक्सटर्नल बेंचमार्क रेट (EBR- External Benchmark Rate) से लिंक करने को कहा था. इसमें होम लोन भी शामिल था. इनमें से अधिकतर बैंकों ने रेपो रेट (Repo Rate) को एक्सटर्नल बेंचमार्क रेट के तौर पर चुना.

जोखिम को देखकर बैंकों ने बढ़ाई नई लोन पर दरें
8 मई को भारतीय स्टेट बैंक (State Bank of India) समेत कुछ बैंकों ने नए होम लोन लेने वालों के लिए ब्यज दरों में 20 आधार अंक यानी 0.20 फीसदी का इजाफा कर दिया है. एसबीआई ने इस फैसले को लेकर कहा कि कोविड-19 संकट की वजह से कर्जदारों का क्रेडिट रिस्क बढ़ गया है. ऐसे में हम रिस्क प्रीमियम के तौर पर 20 आधार अंक ज्यादा चार्ज कर रहे हैं. कई बैंकों ने तर्क दिया है कि रेपो रेट में कटौती करने से उनके कॉस्ट ऑफ फंड्स में कमी नहीं आती है.

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन के बीच आसान है इस बिजनेस को शुरू करना, घर बैठे कमा सकते हैं लाखों

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 23, 2020, 4:52 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading