Home /News /business /

Home Loan: सबसे सस्ते होम लोन के समय में कौन सा विकल्प बेहतर, जानिए फिक्स्ड और फ्लोटिंग रेट के बारे में

Home Loan: सबसे सस्ते होम लोन के समय में कौन सा विकल्प बेहतर, जानिए फिक्स्ड और फ्लोटिंग रेट के बारे में

Home Loan इस समय कई सालों के ऐतिहासिक स्तर पर कम चल रहे हैं.

Home Loan इस समय कई सालों के ऐतिहासिक स्तर पर कम चल रहे हैं.

Home Loan लेने से पहले केवल यह जानना पर्याप्त नहीं है कि ब्याज दर कितनी है और आपको इसके लिए कितना EMI चुकाना होगा. होम लोन लंबे समय तक चुकाना होता है. लिहाजा होम लोन के साथ आने वाले फीचर्स और विकल्पों को पूरी तरह समझना जरूरी है ताकि आपको एक बेहतर डील मिल सके.

अधिक पढ़ें ...

    Home Loan: महामारी के बाद घरों की डिमांड में तेजी आ रही है. लोग अपना घर खरीदना चाह रहे हैं. वहीं, दूसरी तरफ इस होम लोन की ब्याज दरे ऐतिहासिक रूप से नीचले स्तर पर चल रही हैं. तमाम लोग पूछ रहे हैं कि क्या होम लेने का यह अच्छा समय है. मार्केट एक्सपर्ट भी कह रहे हैं कि यह अच्छा समय है.

    होम लोन खरीदने से पहले केवल यह जानना पर्याप्त नहीं है कि ब्याज दर कितनी है और आपको इसके लिए कितना EMI चुकाना होगा. होम लोन लंबे समय तक चुकाना होता है. लिहाजा होम लोन के साथ आने वाले फीचर्स और विकल्पों को पूरी तरह समझना जरूरी है ताकि आपको एक बेहतर डील मिल सके.

    होम लोन खरीदारों के मन में एक सवाल यह आता है कि उनके लिए फिक्स्ड रेट बेहतर है या फ्लोटिंग रेट. इसका फैसला सावधानी के साथ करना चाहिए, क्योंकि इसका असर आपकी जेब पर पड़ता है. दोनों के ही अपने फायदे और नुकसान हैं. यहां हमने बताया है कि इन दोनों में क्या अंतर है और इनमें से कौन सा विकल्प आपके लिए बेहतर हो सकता है.

     फिक्स्ड इंटरेस्ट रेट
    फिक्स्ड इंटरेस्ट रेट ऐसा रेट है जो बाजार की स्थिति के साथ नहीं बदलता है. फिक्स्ड रेट लोन में होम लोन लेते समय ब्याज दर तय होती है और यह दर होम लोन की अवधि के खत्म होने तक बनी रहती है. इसका मतलब कि अगर आप फिक्स्ड रेट का चुनाव करने जा रहे हैं तो आसानी से अपनी EMI का अनुमान लगा सकते हैं. इसके ज़रिए आपको अपना बजट बनाने में भी आसानी होती है. इसके अलावा, ब्याज दर के स्थिर रहने पर आप आसानी से होम लोन रीपेमेंट का प्लान भी कर सकते हैं.

    यह भी पढ़ें- केंद्र सरकार सीधे खाते में दे रही पूरे 10,000 रुपये, मार्च से पहले कर लें ये काम, जानिए योजना के बारे में डिटेल

    फिक्स्ड इंटरेस्ट रेट का चुनाव कब और कैसे करें
    यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि फिक्स्ड रेट लोन की कीमत आमतौर पर फ्लोटिंग रेट लोन की तुलना में थोड़ी ज्यादा होती है. अगर यह अंतर काफी बड़ा है, तो आप फ्लोटिंग रेट लोन का चुनाव भी कर सकते हैं. लेकिन अगर वे लगभग बराबर हैं या अंतर बहुत कम है, तो आप अपनी स्थिति और जरूरतों का आकलन करते हुए दोनों में से किसी एक का चुनाव कर सकते हैं. इसका चुनाव बेहतर तब होता है जब होम लोन खरीदते समय ब्याज दर कम हो.

    फ्लोटिंग इंटरेस्ट रेट
    फ्लोटिंग इंटरेस्ट रेट के तहत होम लोन खरीदने पर आपकी ब्याज दर बाजार की स्थिति के साथ कम या ज्यादा होती रहती है. इसके तहत होन लोन में आप अपनी EMI का अनुमान पहले से नहीं लगा सकते. फ्लोटिंग इंटरेस्ट रेट का बड़ा फायदा यह है कि जब ब्याज दरें कम होती है तो इस स्थिति में आपको कम EMI चुकाना होता है. हालांकि, ब्याज दरें बढ़ने पर आपको इसमें ज्यादा EMI चुकाना होगा. हालांकि, होम लोन की ब्याज दर बार-बार बढ़ने की स्थिति में, आप अपने लेंडर से टेन्योर बढ़ाने के लिए भी अनुरोध कर सकते हैं.

    यह भी पढ़ें- इस बिजनेस को एक लाख रुपए से शुरू कर हर महीने 5 लाख रु. तक कमा सकते हैं, क्या है कारोबार और कैसे करें स्टार्ट?

    फ्लोटिंग इंटरेस्ट रेट का चुनाव कैसे करें
    अगर आपको लगता है कि समय के साथ सामान्य रूप से ब्याज दरों में गिरावट होगी, तो ऐसी स्थिति में फ्लोटिंग रेट वाले होम लोन का चुनाव किया जा सकता है. ब्याज दरों के कम होने से भविष्य में आपके लोन पर लागू ब्याज दर भी गिर जाएगी. अगर आप रियल एस्टेट बाजार से अच्छी तरह वाकिफ हैं, तो फ्लोटिंग इंटरेस्ट होम लोन चुनना बेहतर होगा. साथ ही, अगर आप उम्मीद कर रहे हैं कि होम लोन की दरें जल्द ही घटेंगी, तो यह विकल्प चुनना फायदेमंद साबित हो सकता है. इसके अलावा फ्लोटिंग इंटरेस्ट होम लोन लेना फायदेमंद है क्योंकि आपको इंडिविजुअल बॉरोअर के रूप में पार्ट-प्रीपेमेंट या फोरक्लोजर पर कोई शुल्क नहीं देना पड़ता है.

    कॉम्बिनेशन लोन क्या है
    अगर आपको यह तय करने में दिक्कत हो रही है कि कौन सा विकल्प आपके लिए बेहतर होगा, तो इस स्थिति में आप कॉम्बिनेशन लोन का चुनाव भी कर सकते हैं. इसका कुछ हिस्सा फिक्स्ड होता है तो वहीं कुछ हिस्सा फ्लोटिंग होता है. आमतौर पर, यह अनुमान लगाना मुश्किल होता है कि भविष्य में होम लोन की दरें क्या होंगी. हो सकता है कि लोन की ब्याज दरें आपके अनुमान के अनुसार न बदलें. इस स्थिति में आपके सामने बड़ी मुश्किल खड़ी हो सकती है.

    हालांकि इसे लेकर बहुत ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है. अगर आप चाहें तो किसी भी समय फिक्स्ड रेट और फ्लोटिंग रेट लोन के बीच स्विच कर सकते हैं. हालांकि, स्विच करने के लिए आपको लेंडर को एक मामूली शुल्क का भुगतान करना होगा. फिक्स्ड या फ्लोटिंग होम लोन इंटरेस्ट रेट में से किसी एक को चुनना आपकी फाइनेंशियल कंडीशन पर निर्भर करता है. इसलिए आपके लिए कौन सा विकल्प बेहतर हो सकता है यह आपको ही चुनना होगा.

    Tags: Home loan EMI, Housing loan, How to take a cheap home loan, Loan

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर