दिल्ली-एनसीआर में अप्रैल-जून में घरों की बिक्री 50% बढ़ी, नई सप्लाई 59% घटी: रिपोर्ट

अगर आप दिल्ली-मुंबई जैसे बड़े शहरों में घर खरीदने का सपना देख रहे हैं तो सुनहरा मौका है.

पिछले 5-6 वर्षों में होम लोन पर कम ब्याज दरों और प्रॉपर्टी की स्थिर कीमतों के कारण रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी बहुत सस्ती हो गई हैं

  • Share this:
    नई दिल्ली. प्रमुख ऑनलाइन रियल एस्टेट ब्रोकरेज फर्म प्रॉपटाइगरडॉटकॉम की एक रिपोर्ट के अनुसार देश के सबसे बड़े रियल एस्टेट मार्केट दिल्ली-एनसीआर में रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी की बिक्री इस साल अप्रैल-जून के दौरान कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बावजूद अधिक मांग के चलते 50 प्रतिशत सालाना तौर बढ़ी.

    अपनी तिमाही रिपोर्ट रियल इनसाइट (रेजिडेंशियल) - अप्रैल - जून 2021 में, प्रॉपटाइगर ने बताया कि दिल्ली-एनसीआर के प्राथमिक मार्केटों में बिक्री अप्रैल-जून 2021 के दौरान बढ़कर 2,828 यूनिट हो गई, जो एक साल पहले की अवधि में 1,886 यूनिट थी.

    दिल्ली-एनसीआर, अहमदाबाद और हैदराबाद प्रॉपटाइगर द्वारा ट्रैक किये देश के कुल आठ प्रमुख मार्केट में से केवल तीन ऐसे शहर थे, जहां बिक्री की संख्या में वृद्धि देखी गई. जबकि शेष पांच शहरों - मुंबई महानगर क्षेत्र (MMR), पुणे, बेंगलुरु, कोलकाता और चेन्नई में मांग में गिरावट देखी गई.
    इस कैलेंडर वर्ष की दूसरी तिमाही में आठ शहरों में बिक्री 16 प्रतिशत घटकर 15,968 यूनिट रही, जो पिछले वर्ष की समान अवधि में 19,038 यूनिट थी. क्रमिक आधार पर बिक्री में 76 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई.

    ये भी पढ़ें- जब Google के सीईओ सुंदर पिचाई नहीं रोक पाएं अपने आंसू... इंटरव्यू में किया खुलासा, इस वजह से हुए थे भावुक

    मणि रंगराजन, ग्रुप सीओओ, हाउसिंगडॉटकॉम, मकानडॉटकॉम और प्रॉपटाइगरडॉटकॉम ने कहा, "पिछले 5-6 वर्षों में होम लोन पर कम ब्याज दरों और प्रॉपर्टी की स्थिर कीमतों के कारण रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी बहुत सस्ती हो गई हैं. इसके अलावा, कोविड-19 महामारी ने हमें यह महसूस कराया है कि एक घर का मालिक होना कितना महत्वपूर्ण है और वह रिमोट वर्किंग के लिए अनुकूल एक निश्चित आकार का भी हो। इन कारकों ने एक अभूतपूर्व वैश्विक स्वास्थ्य संकट के बीच हाउसिंग ,मार्केट को लचीला बनाए रखा है."

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.