लाइव टीवी

इन दो वजहों से अक्टूबर-दिसंबर में घरों की बिक्री 9 फीसदी घटी!

भाषा
Updated: January 22, 2020, 7:22 PM IST
इन दो वजहों से अक्टूबर-दिसंबर में घरों की बिक्री 9 फीसदी घटी!
नोएडा-गुरुग्राम में आई तेजी

आर्थिक सुस्ती और लिक्विडिटी संकट की वजह से बिक्री में गिरावट आई. वहीं नए मकानों की आपूर्ति में सालाना आधार पर 10 प्रतिशत की गिरावट आई है. नोएडा-गुरुग्राम में आई तेजी.

  • Share this:
नई दिल्ली. देश के नौ शहरों में मकानों की कुल बिक्री (Housing Sales) अक्टूबर-दिसंबर अवधि में 9 प्रतिशत घटकर 60,453 यूनिट्स रह गयी. आर्थिक सुस्ती (Economic Slowdown) और नकदी संकट (Liquidity Crisis) की वजह से बिक्री में गिरावट आई. वहीं नए मकानों की आपूर्ति में सालाना आधार पर 10 प्रतिशत की गिरावट आई है.

प्रॉपइक्विटी ने अपनी चौथी तिमाही रिपोर्ट में कहा, अक्टूबर-दिसंबर 2019 में मकानों की बिक्री पिछले साल इसी अवधि की तुलना में 9 प्रतिशत गिरी जबकि नए मकानों की आपूर्ति में सालाना आधार पर 10 प्रतिशत की गिरावट आई है. आर्थिक नरमी और पूंजी उपलब्धता की कमी की वजह से मुख्यत: मकानों की बिक्री में गिरावट रही.

जमीन-जायदाद से जुड़ी परामर्श देने वाली एक अन्य फर्म प्रॉपटाइगर ने अपनी हालिया रिपोर्ट में 9 शहरों में बिक्री में अक्टूबर-दिसंबर में 30 प्रतिशत की कमी की सूचना दी थी. हालांकि, नाइट फ्रैंक इंडिया और एनारॉक ने 2019 के दौरान बिक्री में क्रमश:1 प्रतिशत और 5 प्रतिशत की वृद्धि की जानकारी दी है.

ये भी पढ़ें: भारतीय रुपये की वजह से सोना- चांदी हुए 472 रुपये तक सस्ते, फटाफट जानिए नए रेट्स

यहां गिरी मकानों की बिक्री
आंकड़ों के मुताबिक, अक्टूबर-दिसंबर के दौरान, पुणे में मकान बिक्री 9 प्रतिशत गिरकर 15,453 यूनिट्स रही. ठाणे और हैदराबाद में बिक्री 16 प्रतिशत गिरकर क्रमश: 11,933 यूनिट्स और 4,643 यूनिट्स पर रही जबकि बेंगलुरु और मुंबई में बिक्री 12-12 प्रतिशत गिरकर क्रमश: 10,263 यूनिट्स और 5,996 यूनिट्स रही. चेन्नई में आवासों की बिक्री 14 प्रतिशत गिरकर 3,632 यूनिट्स पर रही.

यहां बढ़ी मकानों की बिक्रीहालांकि, कोलकाता में मकानों की बिक्री 26 प्रतिशत बढ़कर 4,743 यूनिट्स पर पहुंच गई. गुरुग्राम में बिक्री 19 प्रतिशत बढ़कर 2,175 और नोएडा में बिक्री 20 प्रतिशत बढ़कर 1,615 यूनिट्स पर रही.

प्रॉपइक्विटी के संस्थापक और प्रबंध निदेशक समीर जसूजा ने कहा, हमें 2020 में रियल एस्टेट बाजार में सुधार की उम्मीद है. साथ ही आशा है कि सरकार आगामी बजट में सकारात्मक उपायों की घोषणा करेगी.

ये भी पढ़ें: 
कैबिनेट की बैठक में 37 साल इस पुरानी सरकारी कंपनी को बंद करने का फैसला
अगले वित्त वर्ष में 5.5 फीसदी रह सकती है GDP ग्रोथ- इंडिया रेटिंग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 4:36 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर