Home /News /business /

दुनियाभर में यूं रेगुलेट होती है क्रिप्टोकरेंसी, कहीं खुलकर अपनाया गया तो कहीं शिकंजा

दुनियाभर में यूं रेगुलेट होती है क्रिप्टोकरेंसी, कहीं खुलकर अपनाया गया तो कहीं शिकंजा

क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) को लेकर अलग-अलग देशों और रेगुलेटर्स का स्टैंड भी अलग-अलग है.

क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) को लेकर अलग-अलग देशों और रेगुलेटर्स का स्टैंड भी अलग-अलग है.

क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) को लेकर अलग-अलग देशों और रेगुलेटर्स का स्टैंड भी अलग-अलग है. कहीं पर इसे पूर्ण रूप से बैन किया गया है तो कहीं पर कुछ रेगुलेशन्स के साथ क्रिप्टो को ऑपरेट किया जा रहा है. कहीं पर कोई गाइडलाइन्स नहीं है, लेकिन इस वर्चुअल करेंसी में ट्रेडिंग की जा रही है. हकीकत ये है कि अलग-अलग देशों की सरकारें और रेगुलेटर्स एकमत नहीं है कि इसे मुद्रा (करेंसी) समझा जाए या संपत्ति (एसेट). इस पर भी एकराय नहीं है कि परिचालन या ऑपरेशन पॉइंट ऑफ व्यू से इसे कैसे नियंत्रित किया जाए.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) को लेकर अलग-अलग देशों और रेगुलेटर्स का स्टैंड भी अलग-अलग है. कहीं पर इसे पूर्ण रूप से बैन किया गया है तो कहीं पर कुछ रेगुलेशन्स के साथ क्रिप्टो को ऑपरेट किया जा रहा है. कहीं पर कोई गाइडलाइन्स नहीं है, लेकिन इस वर्चुअल करेंसी में ट्रेडिंग की जा रही है. हकीकत ये है कि अलग-अलग देशों की सरकारें और रेगुलेटर्स एकमत नहीं है कि इसे मुद्रा (करेंसी) समझा जाए या संपत्ति (एसेट). इस पर भी एकराय नहीं है कि परिचालन या ऑपरेशन पॉइंट ऑफ व्यू से इसे कैसे नियंत्रित किया जाए. विभिन्न देशों की प्रतिक्रियाओं में कोई स्पष्ट समन्वय नहीं होने के कारण पॉलिसी और रेगुलेटरी रिस्पॉन्स का विकास अस्वाभाविक रूप से असंगत रहा है.

    किसी ने अपनाया तो किसी ने कसा शिकंजा
    एक तरफ अल साल्वाडोर जैसे देश हैं, जो क्रिप्टोकरेंसी को लीगल टेंडर घोषित कर चुके हैं तो दूसरी तरफ ऐसे देश भी हैं जहां पर इन पर कड़ा शिकंजा कसा गया है. शिकंजा करने वाले देशों में चीन का नाम सबसे पहले आता है, जिसने क्रिप्टोकरेंसी और सर्विस प्रोवाइड दोनों पर कड़े नियम लागू किए हैं.

    ये भी पढ़ें – Winter Session of Parliament 2021: क्रिप्टोकरेंसी समेत 26 बिल संसद के शीतकालीन सत्र में होंगे पेश

    भारत जैसे देश बीच में हैं. कुछ नीति और नियामक (policy and regulatory) एक्सपेरिमेंट के बाद अभी भी इसे रेगुलेट करने का सबसे अच्छा तरीका खोज रहे हैं. संयुक्त राज्य अमेरिका (United States) और यूरोपीय संघ (European Union) रेगुलेटरी मेन्डेट को नीचे करने कोशिश कर रहे हैं, जबकि वहां इस पर चर्चा चल रही है.

    कनाडा ने इसे एक कमोडिटी माना
    कनाडा (Canada) ने अपने यहां अपराध (मनी लॉन्ड्रिंग) और आतंकवादी फाइनेंसिग रेगुलेशन्स को ध्यान में रखते हुए इसे वर्चुअल करेंसी करार दिया है. इस साल जून में थॉमसन रॉयटर्स इंस्टीट्यूट की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि कनाडा क्रिप्टो के शुरुआती अपनाने वाल देशों में से एक रहा है. और कनाडा राजस्व प्राधिकरण (CRA) आमतौर पर क्रिप्टोकरेंसी को एक कमोडिटी की तरह मानता है और उसी के रूप में आयकर लगाता है.

    ये भी पढ़ें – क्रिप्‍टो ट्रेडिंग की कुछ लोगों को अनुमति दे सकती है सरकार! यहां छिपा हुआ है इसका हिंट

    इज़राइल में दो तरीके से किया जाता है ट्रीट
    इज़राइल (ISRAEL) ने अपने वित्तीय सेवा कानून के सुपरविजन में, वर्चुअल करेंसीज़ को वित्तीय परिसंपत्तियों (financial assets) के रुप में परिभाषित किया है. इज़राइली प्रतिभूति नियामक (Israeli securities regulator) ने फैसला सुनाया है कि क्रिप्टोकरेंसी सुरक्षा का एक विषय है, जबकि इज़राइल टैक्स अथॉरिटी (Israel Tax Authority) क्रिप्टोकरेंसी को एक संपत्ति (Asset) के रूप में परिभाषित करती है और कैपिटल गेन पर 25% की मांग करती है.

    जर्मनी का बुंडेसबैंक मानता है क्रिप्टो टोकन
    जर्मनी (GERMANY) में वित्तीय पर्यवेक्षी प्राधिकरण (Financial Supervisory Authority) इसे ‘यूनिट्स ऑफ अकाउंट’ के तौर पर देखती है, इसका मतलब कि ये फाइनेंशिल इंस्ट्रूमेंट हुए. बुंडेसबैंक (Bundesbank) बिटकॉइन को एक क्रिप्टो टोकन मानता है, क्योंकि यह कॉइन किसी मुद्रा के विशिष्ट कार्यों को पूरा नहीं करता है. हालांकि, नागरिक और कानूनी संस्थाएं क्रिप्टोकरंसी को तब तक खरीद या व्यापार कर सकती हैं, जब तक वे इसे जर्मन फेडरल फाइनेंशियल सुपरवाइजरी अथॉरिटी से लाइसेंस प्राप्त एक्सचेंजों और कस्टोडियन के माध्यम से खरीद-बेच करते हैं.

    यूनाइटेड किंगडम (UK) में, महामहिम के राजस्व और सीमा शुल्क विभाग कहता है कि क्रिप्टोकरेंसी की पहचान पूरी तरह से अलग अथवा विशिष्ट है और इसकी तुलना सीधे तौर पर किसी दूसरी इन्वेस्टमेंट एक्टिविटी या पेमेंट तंत्र से नहीं की जा सकती. वे क्रिप्टो एसेट को करेंसी या पैसा नहीं मानते.

    संयुक्त राज्य अमेरिका (US) में, विभिन्न राज्यों में क्रिप्टोकरेंसी के लिए अलग-अलग परिभाषाएं और नियम हैं. जबकि संघीय सरकार (federal government) क्रिप्टो को कानूनी निविदा (लीगल टेंडर) के रूप में मान्यता नहीं देती है. थाईलैंड (Thailand) में, थॉमसन रॉयटर्स इंस्टीट्यूट की रिपोर्ट के अनुसार, डिजिटल संपत्ति व्यवसायों (Digital asset businesses) को लाइसेंस के लिए आवेदन करना होता है. अनुचित व्यापारिक व्यवहारों की निगरानी करने और एंटी-मनी लॉन्ड्रिंग उद्देश्यों के लिए इसे financial institutions माना जाता है.

    Tags: Crypto, Crypto currency, Crypto Ki Samajh

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर