अपना शहर चुनें

States

Cadbury Chocolate: सेल्समैन के इस आइडिया ने बदल डाली कंपनी की किस्मत

सेल्समैन के इस आइडिया ने बदल डाली कंपनी की किस्मत
सेल्समैन के इस आइडिया ने बदल डाली कंपनी की किस्मत

मशहूर चॉकलेट (Chocolate) कंपनी कैडबरी (Cadbury) साल 2003 में अपने प्रोडक्ट में कीढ़ा मिलने की वजह से चर्चा में आई थी. उस वक्त कंपनी की साख दांव पर लग गई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 23, 2020, 2:37 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: मशहूर चॉकलेट (Chocolate) कंपनी कैडबरी (Cadbury) साल 2003 में अपने प्रोडक्ट में कीढ़ा मिलने की वजह से चर्चा में आई थी. उस वक्त कंपनी की साख दांव पर लग गई थी. कंपनी के लिए इस संकट (Crisis) से निकलना मुश्किल हो गया था. साल 2018 में सीएनबीसी टीवी-18 से बाचचीत में कैडबरी के पूर्व मैनेजिंग डायरेक्टर भारत पुरी (Bharat Puri) ने इस विवाद पर खुलकर बातचीत की थी. उन्होंने यह बताया था कि कंपनी की साख को दोबारा बनाने के लिए उन्हें कई प्रयास करने पड़े. साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि इस मुसीबत से निकलने के लिए सदी के महानायक अमिताभ बच्चन का सहारा लेने का विचार कैसे आया-

कंपनी की साख पर खड़ा हुआ सवाल
भारत पुरी फिलहाल पीडिलाइट के मैनेजिंग डायरेक्टर हैं. इंटरव्यू में उन्होंने बताया कि कैडबरी की सबसे ज्यादा बिकने वाली डेरी मिल्क चॉकलेट उस वक्त विवादों में आई जब साल 2003 में कुछ ग्राहकों ने इसमें कीढ़े होने की बात कही.

यह भी पढ़ें: कोरोना काल में रेलवे पर संकट, आज से बंद हुई तेजस, हो रहा लाखों का नुकसान
इसके बाद कंपनी व फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन के बीच खूब कलह हुई. पुरी ने आगे बताया कि त्योहारी सीजन में कैडबरी चॉकलेट की बिक्री में भारी गिरावट आई. साथ ही कंपनी की साख पर बड़ा सवाल खड़ा हो गया.



सात महीने बाद निकला ऐसे हल
पुरी ने इंटरव्यू में बताया कि इस विवाद से कंपनी के मुखिया भी चिंता में आ गए थे. पुरी ने बताया कि इस विवाद पर कंपनी के चेयरमैन ने भी उन्हें कई बातें कही थी. पुरी ने इस घटना को अपनी जिंदगी का बड़ा अनुभव बताया था.

उन्होंने कहा यह उनके परीक्षण का समय था जहां उन्हें तुरंत फैसला लेने की जरूरत थी. पुरी ने कहा हमने इस दौरान किसी पर भी कोई आरोप नहीं लगाया. हमने सिर्फ रणनीति बनाकर इस संकट से उबरने के प्रयास किये थे. लेकिन एक सेल्समैन की बदौलत सात महीने के बाद ही कंपनी इस संकट से बाहर निकल पाई.

यह भी पढ़ें: नौकरी करने वालों के लिए बड़ी खबर! बदलने वाले है शिफ्ट से लेकर कई नियम, जानिए सबकुछ

सेल्समैन का आइडिया काम आया
पुरी ने बताया, इस संकट से निकलने के लिए अमित उपाध्याय नाम के एक सेल्समैन ने हमारी मदद की. अमित ने कहा कि सर हमें अपने ब्रांड की छवि बनाने के लिए अमिताभ बच्चन को ब्रांड एम्बेसडर चुनना चाहिए. मैंने अमित से पूछा क्यों?..उसने मुझे बताया कि सर इस देश में लोग सिर्फ दो लोग अटल बिहारी वाजपेयी और अमिताभ बच्चन की ही सुनते हैं. बता दें कि साल 2003 में वाजपेयी देश के प्रधानमंत्री थे. इसके बाद इस संकट से उबरने के लिए अमिताभ बच्चन का सहारा लिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज