Home /News /business /

how long will the common man get relief from inflation from october prices are likely to decrease pmgkp

आम आदमी को महंगाई से कब तक मिलेगी राहत? किस महीने से कीमतों में कमी होने की संभावना?

 शनिवार को केंद्र ने पेट्रोल पर केंद्रीय उत्पाद शुल्क में 8 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 6 रुपये प्रति लीटर की कमी थी.

शनिवार को केंद्र ने पेट्रोल पर केंद्रीय उत्पाद शुल्क में 8 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 6 रुपये प्रति लीटर की कमी थी.

देश में इस समय महंगाई एक बड़ी समस्या बनी हुई है. रिटेल इंफ्लेशन अप्रैल में आठ सालों के उच्च स्तर पर था. वहीं, थोक मुद्रास्फीति 17 सालों के उच्च स्तर पर चली गई है. सरकार भी इसे कम करने के लिए तमाम उपाय कर रही है.

नई दिल्ली. देश में रिटेल इंफ्लेशन इस समय 8 सालों के हाई पर चल रहा है. थोक मुद्रास्फीति 17 सालों के उच्च स्तर पर चली गई है. महंगाई के सवाल को लेकर एक शीर्ष सरकारी अधिकारी ने News18  को बताया कि चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही यानी अक्टूबर से संभवतः महंगाई यानी मुद्रास्फीति में गिरावट देखने को मिल सकती है. अभी वर्तमान स्थिति के लिए कई अंतरराष्ट्रीय कारक हैं.

यह भी पढ़ें- महंगाई रोकने के लिए सरकार की कसरत, इस साल 2 लाख करोड़ रुपए अतिरिक्त खर्च करने की योजना

दूसरी छमाही में कीमतों में गिरावट

शीर्ष सरकारी अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में कीमतों में गिरावट देखने को मिल सकती है. ग्लोबल सप्लाई चेन में व्यवधान, चीन का लॉकडाउन और रूस-यूक्रेन युद्ध मुद्रास्फीति के वैश्विक स्रोत हैं. हम महंगाई को कम कर सकते हैं, लेकिन खत्म नहीं कर सकते.

उत्पाद शुल्क में हुई है कटौती

शनिवार को केंद्र ने पेट्रोल पर केंद्रीय उत्पाद शुल्क में 8 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 6 रुपये प्रति लीटर की कमी थी. इससे उपभोक्ताओं के लिए कीमत में क्रमशः 9.5 रुपये और 7 रुपये की कमी आई है. पीएम उज्ज्वला योजना के तहत नौ करोड़ लाभार्थियों को कवर करने के लिए प्रति गैस सिलेंडर 200 रुपये की सब्सिडी की भी घोषणा की गई. इन कदमों से सरकार को हर साल क्रमशः 1 लाख करोड़ रुपये और 6,100 करोड़ रुपये खर्च करने होंगे. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इसकी घोषणा की थी.

यह भी पढ़ें- ईंधन पर उत्पाद शुल्क कटौती सरकारी खजाने पर पड़ी भारी, भरपाई के लिए ₹1 लाख करोड़ उधार लेगी सरकार

 हर उपाय की अपनी कीमत 

अधिकारी ने कहा कि इसका (मुद्रास्फीति) कोई आसान जवाब नहीं है. इसे कम करने के हर उपाय की अपनी कीमत होती है. यह तब होता है जब आप बाहर से आने वाली किसी वस्तु की आपूर्ति को नियंत्रित नहीं कर सकते. हम इसके प्रभाव को कम करने की कोशिश कर रहे हैं. आप महंगाई को कम कर सकते हैं, खत्म नहीं कर सकते, कोई जादू की छड़ी नहीं है.

अधिकारी ने कहा कि वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में कीमतों में कमी देखी जा सकती है. विकसित देशों द्वारा मौद्रिक उपाय किए जा रहे हैं. रूस- यूक्रेन युद्ध का प्रभाव कम हो सकता है. चीन में लॉकडाउन और मंदी भी एक फैक्टर है. इसका मतलब भारत में आम लोगों के लिए अक्टूबर के बाद से कुछ राहत हो सकती है, जब त्योहारों का मौसम शुरू हो जाता है. ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है.

Tags: Business news in hindi, FM Nirmala Sitharaman, Inflation, News 18

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर