बैंक के डूबने पर खातों में जमा रकम का क्या होगा! जानिए अपने पैसों से जुड़े सवालों के जवाब

बैंक डिपॉजिट
बैंक डिपॉजिट

बैंक डिफॉल्‍ट (Bank Default) के बाद डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन (DICGC) की ओर से तय गए नियमों के मुताबिक, ग्राहकों के 1 लाख रुपये की सुरक्षा की गारंटी मिलती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 3, 2019, 6:07 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. RBI (Reserve Bank of Inda) की ओर से पिछले हफ्ते दो बैंकों को लेकर उठाए कदमों के बाद सोशल मीडिया से लेकर आम लोगों में बैंक खातों में जमा पैसों को लेकर चर्चा बहुत तेज हो गई है. सबसे पहला सवाल हर आदमी यहीं पूछ रहा है अगर बैंक डूब जाता है या फिर बंद हो जाता है तो मेरे पैसों का क्या होगा? इस पर बैंकिंग एक्सपर्ट्स बताते हैं कि बैंक में जमा पैसा आपका सेफ है. आजादी के बाद से अब तक देश में कोई भी कॉमर्शियल बैंक नहीं डूबा है. साथ ही, ऐसी कोई भी स्थिति आने पर सरकार ही आम आदमी की मदद करेगी.

अगर मेरा बैंक डिफॉल्ट करता है तो क्या होगा- DICGC यानी डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन की ओर से तय गए नियमों के मुताबिक, ग्राहकों के 1 लाख रुपये की सुरक्षा की गारंटी मिलती है. यह नियम बैंक के सभी ब्रांच पर लागू होता है.इसमें मूलधन और ब्‍याज (Principal and Interest) दोनों को शामिल किया जाता है. मतलब साफ है कि अगर दोनों जोड़कर 1 लाख से ज्यादा है तो सिर्फ 1 लाख ही सुरक्षित माना जाएगा. अगर आसान भाषा में समझें तो किसी बैंक में आपकी कुल जमा राशि 4 लाख है तो बैंक के डिफॉल्ट करने पर आपके सिर्फ 1 लाख रुपये ही सुरक्षित माने जाएंगे. बाकी आपको मिलने की गारंटी नहीं होगी.

ये भी पढ़ें: दुनिया से महंगाई छिपाने के लिए इमरान खान की नई चाल, अब महंगाई कम दिखाने के लिए अपनाया ये तरीका



क्‍या बैंक डिफॉल्‍ट होने पर डूब जाएगा खाते में जमा पैसा?

आपका एक ही बैंक की कई ब्रांच में खाता है तो सभी खातों में जमा अमाउंट जोड़ा जाएगा और केवल 1 लाख तक जमा को ही सुरक्षित माना जाएगा. यही नहीं, अगर आपके किसी एक बैंक में एक से अधिक अकाउंट और FD आदि हैं तो भी बैंक के डिफॉल्टर होने या डूब जाने के बाद आपको एक लाख रुपये ही मिलने की गारंटी है.यह रकम किस तरह मिलेगी, यह गाइडलाइंस DICGC तय करता है.

एक्सपर्ट गौरी चड्ढा ने न्यूज18 हिंदी को बताया है कि भारत में अभी तक ऐसी स्थिति नहीं आई कि बैंक डूबा हो. अगर किसी बैंक को कोई परेशानी होती है तो उस बैंक को किसी दूसरे बैंक में मर्ज कर दिया जाता है. इस तरह उसे फिर से पटरी पर लाया जाता है और ग्राहक सुरक्षित रहता है, क्योंकि ऐसे में नया बैंक ग्राहकों के पैसे की जिम्मेदारी ले लेता है.

क्या पोस्ट ऑफिस में जमा पैसा सुरक्षित है?

अगर पोस्ट ऑफिस आपकी रकम को चुकाने में फेल हो जाता है तो जमा पैसों पर सॉवरेन गारंटी होती है.मतलब साफ है किसी परिस्थिति में अगर पोस्टल डिपार्टमेंट निवेशकों का रकम लौटाने में फेल हो जाए तो यहां सरकार आगे बढ़कर निवेशकों के पैसों की गारंटी लेती है. किसी स्थिति में आपका पैसा फंसने नहीं है. पोस्ट ऑफिस स्कीम में जमा पैसों का इस्तेमाल सरकार अपने कामों के लिए करती है. इसी वजह से इन पैसों पर सरकार गारंटी भी देती है.

अचानक बैंक में जमा पैसे को लेकर इतना बवाल क्यों हो रहा है?

RBI ने हाल में पंजाब और महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव (PMC) बैंक पर कई गड़बड़ियां करने पर उस पर प्रतिबंध लगा दिया था. RBI प्रतिबंध के बाद इस बैंक के ग्राहक छह महीने में अपने अकाउंट से 10 हजार रुपये से ज्यादा नहीं निकाल सकते. इसके बाद सोशल मीडिया पर कई तरह की अफवाहों का दौर शुरू हो गया. इसके बाद 9 सरकारी बैंकों के बंद होने की खबरें आई. RBI और सरकार की ओर से इन सभी अफवाहों का खंडन किया गया और ग्राहकों को भरोसा दिलाया गया है कि उनका पैसा पूरी तरह से सेफ है.

ये भी पढ़ें: BPCL का हिस्सा प्राइवेट कंपनी को बेचने पर हो सकता है नुकसान- मूडीज रिपोर्ट
SBI के पूर्व चेयरमैन प्रदीप चौधरी ने न्यूज18 हिंदी को बताया कि मौजूदा समय में आम लोगों की चिंताएं बढ़ना स्वाभाविक है. क्योंकि लगातार फ्रॉड बढ़ रहे है. RBI को और सख्ती से कदम उठाने चाहिए ताकि बैंकों की वित्तीय स्थिति का समय पर सही ढ़ंग में पता चल जाए. उन्होंने कहा है कि देश में रेस्ट्रोरेंट से ज्यादा आसान अब बैंक खोलना हो गया है.




कैसे चुने अच्छा बैंक-प्रदीप चौधरी कहते हैं कि बैंक को चुनने से पहले बैंक की क्रेडिट रेटिंग जरूर चेक करनी चाहिए. इसके अलावा उसके शेयर भाव और उसे मार्केट कैपिटलाइजेशन को भी देखना चाहिए. ताकि बैंक की स्थिति का पता चल जाए

ऐसे रखें अपने पैसों को सेफ-बैंकिंग एक्सपर्ट का कहना है कि अपनी पूरी सेविंग्स को कभी भी एक ही बैंक या उसकी अलग-अलग ब्रांचों में न रखें. क्योंकि बैंक डूबने की स्थिति में एक बैंक के सभी खातों को एक ही खाता माना जाता है. ऐसे में बेहतर होगा कि सेविंग्स या करंट अकाउंट, एफडी या दूसरी बचत अलग-अलग बैंकों के अकाउंट में रखें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज