होम /न्यूज /व्यवसाय /वित्तीय स्वतंत्रता के लिए अभी से उठाएंगे कदम, तभी ले पाएंगे रिटायरमेंट के बाद आजादी का आनंद

वित्तीय स्वतंत्रता के लिए अभी से उठाएंगे कदम, तभी ले पाएंगे रिटायरमेंट के बाद आजादी का आनंद

भारतीय सेवानिवृत्ति के बाद के जीवन के लिए बहुत कम फाइनेंशियल प्‍लानिंग करते हैं.

भारतीय सेवानिवृत्ति के बाद के जीवन के लिए बहुत कम फाइनेंशियल प्‍लानिंग करते हैं.

भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा किए एक सर्वे के अनुसार, केवल 23 फीसदी लोग ही रिटायरमेंट के लिए सेविंग करते हैं या फिर सेविंग ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा किए एक सर्वे के अनुसार केवल 23 फीसदी लोग ही रिटायरमेंट के लिए सेविंग करते हैं.
रिटायरमेंट के बाद एक खुशहाल जीवन जीने के लिए पर्याप्त फाइनेंशियल सिक्योरिटी के लिए आपको सही निर्णय लेना होता है.
रिटायरमेंट के बाद गरिमा और बिना किसी आर्थिक परेशानी के अपना जीवन जीने के लिए अभी से प्‍लानिंग करना जरूरी है.

नई दिल्‍ली. हम अपनी स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ मना रहे हैं. 1947 में मिली आजादी हमें रातोंरात नहीं मिली थी. अनगिनत लोगों ने अपनी जान कुर्बान की और लाखों लोगों ने लंबे समय तक संघर्ष किया, तब जाकर हमें आजादी मिली. देश ने आजादी के बाद बहुत विकास किया है. आर्थिक रूप से भी देश बहुत सशक्‍त हुआ है.

अब हमारे सामने अपनी बुजुर्ग आबादी के लिए आय की सुरक्षा सुनिश्चित करने और कामकाजी आबादी को रोजगार देकर वित्तीय स्वतंत्रता प्रदान करने की चुनौती है. 2050 तक एक बड़ी आबादी बुजुर्गों की होगी. ऐसे लोगों को रिटायरमेंट के बाद किसी भी तरह की दिक्‍कत न हो और वे आर्थिक रूप से किसी पर निर्भर न रहें, इसके लिए उन्‍हें अभी से प्रयास करने होंगे.

ये भी पढ़ें-  आजादी का अमृत महोत्सव: स्टार्टअप्स का घर है भारत, हर दिन 80 से ज्यादा नए Startup आते हैं सामने

नहीं करते रिटायरमेंट प्‍लानिंग
लाइव मिंट की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय सेवानिवृत्ति के बाद के जीवन के लिए बहुत कम फाइनेंशियल प्‍लानिंग करते हैं. भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा किए एक सर्वे के अनुसार, केवल 23 फीसदी लोग ही रिटायरमेंट के लिए सेविंग करते हैं या फिर सेविंग की प्‍लानिंग करते हैं. 33 फीसदी लोग रिटायरमेंट को कोई प्‍लानिंग नहीं करते और मजे की बात यह कि बात यह है 44 फीसदी लोग तो रिटायर होना ही नहीं चाहते.

ऐसे करें निवेश
इससे रिटायरमेंट प्‍लानिंग को लेकर हमारी लापरवाही सामने आती है. लेकिन, अगर कोई व्‍यक्ति अपनी रिटायरमेंट के बाद के जीवन के लिए बचत नहीं करता है तो उसे बाद में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. वहीं अगर कोई व्‍यक्ति रिटायरमेंट के बाद पेंशन के लिए किसी पेंशन योजना में निवेश करता है और साथ ही अन्‍य बचत साधनों में निवेश करता है तो रिटायरमेंट के बाद गरिमा और बिना किसी आर्थिक परेशानी के अपना जीवन जी सकता है. यही नहीं हर व्‍यक्ति के पास स्‍वास्‍थ्‍य बीमा भी होना जरूरी है ताकि बीमार होने पर ज्‍यादा आर्थिक बोझ न आए.

ये भी पढ़ें-  दुबई और कतर हुए त्रिपुरा के अनानास की मिठास के कायल, लगातार बढ़ रहा है निर्यात

रिटायरमेंट के बाद एक खुशहाल जीवन जीने के लिए पर्याप्त फाइनेंशियल सिक्योरिटी के लिए आपको सही निर्णय लेना होता है. वित्‍तीय सलाहकारों का कहना है कि इसके लिए आपके पोर्टफोलियो में विविधता होना जरूरी है. अपनी बचत को आपको एक ही एसेट में नहीं लगाना चाहिए. कहीं भी निवेश करते समय अपने जोखिम उठाने की क्षमता पर ध्यान देना चाहिए. अगर आपके रिटायरमेंट को अभी 10 साल से ज्यादा का वक्त बचा हुआ है, तो आप इक्विटी में निवेश करने पर विचार कर सकते हैं. इसमें सबसे ज्यादा रिटर्न की संभावना होती है. अपनी रिटायरमेंट के लिए निवेश करने का एक बढ़िया तरीका म्यूचुअल फंड में सिस्टमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (SIP) का विकल्प चुनना है. आप एक मासिक SIP शुरू कर सकते हैं.

Tags: 75th Independence Day, Amrit Mahotsav, Personal finance, Retirement savings

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें