होम /न्यूज /व्यवसाय /24 साल की उम्र में बना सिविल ठेकेदार, आमदनी 1 लाख/महीना

24 साल की उम्र में बना सिविल ठेकेदार, आमदनी 1 लाख/महीना

नीरज 60 लाख रुपये तक के ठेके ले सकते हैं. इसके जरिए वह 12 लाख रुपये तक की कमाई कर लेते हैं.

नीरज 60 लाख रुपये तक के ठेके ले सकते हैं. इसके जरिए वह 12 लाख रुपये तक की कमाई कर लेते हैं.

नीरज 60 लाख रुपये तक के ठेके ले सकते हैं. इसके जरिए वह 12 लाख रुपये तक की कमाई कर लेते हैं.

    नीरज कुमार, दिल्ली के पांडव नगर में रहते हैं और सिविल ठेकेदारी का काम करते हैं. उनके पास फिलहाल एनसीआर में करीब 6 कंस्ट्रक्शन साइट हैं, जिन पर उनका काम चल रहा हैं. पिछले तीन-चार दिन से वो डीडीए की ओर से मिला नालियों की सफाई काम खत्म करा रहे हैं. दरअसल बरसात शुरू होने वाली हैं और उनका काम 15 दिन लेट हो चुका हैं. लेकिन, जब उनके कारोबार के बारे में पूछा तो बोले- "भाई साहब इस धंधे की सबसे बड़ी टेंशन ही लेबर हैं." हालांकि, वो अपने बिजनेस से बहुत खुश है और सालाना 12 लाख रुपये तक की कमाई कर लेते हैं.

    News18 Hindi

    कैसे की शुरुआत- नीरज कुमार ने न्यूज 18 हिंदी को बताया कि साल 2007 में उन्होंने डीडीए में सब कॉन्ट्रैक्ट हासिल किया. उन्होंने बताया कि डीडीए के जूनियर इंजीनियर (जेई) ने उनसे यह सवाल पूछा था कि क्या तुम ये कर पाओगे तो वो बोले मुझे अपने आप पर पूरा भरोसा है. जेई ने उन पर भरोसा जताते हुए उन्हें कॉन्ट्रैक्ट दे दिया. उन्होंने तय समय से 5 दिन पहले काम खत्म कर दिया. यहीं से उनकी शुरुआत हुई.

    कितनी होती है कमाई- नीरज ने बताया कि उनकी कंपनी का नाम एमएंडजी एसोसिएट्स है और वो डीडीए में क्लास 4 कॉन्ट्रैक्टर है. इसका मतलब है कि वह 60 लाख रुपये तक के ठेके ले सकते हैं. इसके जरिए वह 12 लाख रुपये तक की कमाई कर लेते हैं.

    कैसे बने सिविल ठेकेदार (सिविल कॉन्ट्रैक्टर)


    1. सिविल में डिप्लोमा/डिग्री जरूरी- डीडीए में सिविल ठेकेदार (सिविल कॉन्ट्रैक्टर) बनने के लिए आपके पास सिविल में डिप्लोमा या फिर डिग्री होना जरूरी है.


    2. अगर आपके पास डिग्री या डिप्लोमा है तो आपको अपनी कंपनी रजिस्टर्ड करानी होगी. इसके बाद जीएसटी रजिस्ट्रेशन करना होगा.


    3.आपको फिर डीडीए के सीआरबी (कॉन्ट्रैक्ट रजिस्टडर्ड बोर्ड) में रजिस्ट्रेशन कराना होता है. यह रजिस्ट्रेशन 5 साल तक मान्य है.


    ये हैं टॉप न्यू बिजनेस आइडियाज, शुरू कर के भर लें अपनी जेब



    4. सीआरबी में रजिस्ट्रेशन पूरा करने के बाद डीडीए में एनलिस्ट होना होता है. इसके लिए सालाना 10 हजार रुपये की फीस चुकानी होती है.


    5. डीडीए में एनलिस्ट होते ही आप उसके सिविल कंस्ट्रक्शन प्रोजेक्ट के लिए बोली लगा सकते हैं. मतलब आपको ऑनलाइन बिड डालनी होगी.


    6. आपको बता दें कि शुरुआत में आप क्लास 4 कॉन्ट्रैक्टर बनते हैं. इसमें आपको 40 लाख रुपये तक के ठेके मिलते हैं. जैसे-जैसे आपका एक्सपीयरंस बढ़ता, और काम बेहतर होता हैं. आपको क्लास चेंज हो जाती हैं. डीडीए में फिलहाल क्लास 5, क्लास 4, क्लास 3, क्लास 2, क्लास 1, A1, AA है.


    बाबा रामदेव दे रहे हैं बिजनेस का मौका, इस तरह फ्रेंचाइजी लेकर कर सकते हैं मोटी कमाई



    जरूरी बातें


    (1) एनडीएमसी में जूनियर इंजीनियर, नानक  जैन ने न्यूज18 हिंदी को बताया कि सिविल कॉन्ट्रैक्ट हासिल करने से पहले से पहले वर्क साइट (जहां पर काम होगा) को जरूर देखकर आएं. ऐसा करने से आपको अपना मेटेरियल कहां डलवाना है इसकी जानकारी मिल जाएगी.


    (2) नानक जैन जी कहते हैं कि DSR (दिल्ली शेड्यूल ऑफ रेट्स) का ध्यान रखना चाहिए. इसका मतलब मजदूरों का रोजाना वेतन होता है. अगर आपने कॉन्ट्रैक्ट डीएसआर से कम भरा तो कैंसल हो जाएगा.


    (3) डॉक्युमेंट को ध्यान से पढ़ लें


    (4) आजकल कॉन्ट्रैक्ट की ऑनलाइन बोली लगाई जाती है. इसीलिए आपको पहले डिजिटल शिग्नेचर बनवाने होंगे. इसके बिना आप कॉन्ट्रैक्ट नहीं भर पाएंगे.

    Tags: Business

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें