Home /News /business /

how to build an emergency fund and how much corpus will enough for you prdm

मुश्किल समय के लिए जरूरी है इमरजेंसी फंड, कैसे करें इसका सही चुनाव और कितना कॉर्पस आपके लिए होगा पर्याप्‍त?

आपात फंड आपकी 6-12 महीने के खर्च के बराबर होना चाहिए.

आपात फंड आपकी 6-12 महीने के खर्च के बराबर होना चाहिए.

कोरोना महामारी ने पूरी दुनिया को आपात फंड का पाठ पढ़ा दिया है. किसी कारणवश आपकी नौकरी छूट जाए या आय का स्रोत बंद हो जाए तो ऐसे मुश्किल समय में आपात फंड ही सहारा होता है. किसी भी व्‍यक्ति को अपने लिए बचत के साथ आपात फंड भी बनाना चाहिए, क्‍योंकि मुसीबत कभी बताकर नहीं आती है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. कोरोना महामारी ने पूरी दुनिया को यह सीख दे दी है कि हर व्‍यक्ति को अपने लिए एक इमरजेंसी फंड बनाना चाहिए. किसी भी मुश्किल या चुनौतीपूर्ण समय से निपटने के लिए यह फंड आपके लिए सबसे ज्‍यादा कारगर साबित हो सकता है.

सीधे शब्दों में कहें तो आपात कोष (इमरजेंसी कॉर्पस) कैश रिजर्व की तरह होता है, जिसे किसी भी अचानक खर्च या वित्तीय आपात स्थिति का सामना करने के लिए अपनी अन्‍य बचत से अलग रखा जाता है. अगर किसी कारणवश आपकी नौकरी छूट जाती है या आय का अन्‍य स्रोत बंद हो जाता है तो आपात कोष ही इसके लिए उपयोगी साबित हो सकता है. 2020 में आई कोरोना महामारी के समय भी हजारों लोगों का रोजगार छिन गया था. ऐसे में जिन लोगों के पास आपात फंड था, उन्‍हें इस मुश्किल समय से निकलने में काफी आसानी हुई. तेजी मंदी के फाउंडर वैभव अग्रवाल बताते हैं कि एक आदमी को अपने लिए आपात फंड का चुनाव कैसे करना चाहिए.

ये भी पढ़ें – अडानी ग्रुप की ये कंपनी देगी 250 फीसदी डिविडेंड! आपके पास हैं क्या इसके शेयर

कितनी राशि का बनाएं फंड
आपात फंड बनाने को लेकर वैसे तो कोई तय नियम नहीं है, लेकिन आदर्श स्थित‍ि यह होनी चाहिए कि किसी भी व्‍यक्ति का आपात फंड उसके मासिक खर्च के 6 से 12 महीने के बराबर होना चाहिए. इसमें सबसे जरूरी ये है कि आपका आपात फंड ऐसे माध्‍यम में जमा होना चाहिए, जहां से जब चाहें पैसे निकाल सकें. जैसे बचत खाता अथवा म्‍यूचुअल फंड.

स्‍टॉक या बॉन्‍ड में न रखें आपात फंड
किसी भी आपात फंड को स्‍टॉक या बॉन्‍ड में कभी नहीं रखना चाहिए, क्‍योंकि इमरजेंसी फंड्स ज्यादातर मंदी के दौर में उपयोग किया जाता है और इस समय स्टॉक और बॉन्ड शायद कम कीमतों पर कारोबार कर रहें होंगे, जिससे आपको अपने कॉर्पस को निचले स्तर पर बेचने के लिए मजबूर होना पड़ेगा. इस कदम से आपके कॉर्पस का मूल्य घट जाएगा, जो आपके खर्चों को कवर करने के लिए शायद पर्याप्‍त न हो.

ये भी पढ़ें – महंगाई से राहत! अब खाने का तेल भी होगा सस्‍ता, सरकार ने उपभोक्‍ताओं के हित में उठाया ये बड़ा कदम

कैसे बनाएं आपात फंड
वैभव अग्रवाल का कहना है कि किसी भी व्‍यक्ति को अपना खर्च तब निर्धारित करना चाहिए, जब वह निवेश की राशि को अलग निकाल लेता है. इसी तरह, यदि आप अपने फाइनेंस को अच्छी तरह से मैनेज करना चाहते हैं तो यह डिफ़ॉल्ट इक्वेशन होना चाहिए. जैसे आप अपनी आय का एक प्रतिशत स्टॉक या बॉन्ड में निवेश के लिए रखते हैं, उसी तर्ज पर आप हर महीने अपने आपात कोष के लिए भी एक निश्चित राशि का आवंटन कर सकते हैं.

Tags: BSE Sensex, Investment tips, Share market

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर