• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • HOW TO GET A BETTER PRICE WHILE SELLING GOLD JEWELLERY CHECK DETAILS PROCESS VARPAT

अगर आपके पास भी है गोल्ड ज्वेलरी तो इस तरह कमाएं ज्यादा पैसा.. जानिए क्या करना होगा?

एक प्रतिष्ठित ब्रांड के जौहरी के लिए जाना हमेशा बेहतर होता है.

वर्तमान में कोरोना महामारी के कारण तो ऐसे लोगों की संख्या बढ़ी हैं, क्योंकि कई लोग नौकरी छूटने या व्यवसाय बंद होने के कारण वित्तीय कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. कई बार ऐसा होता है कि अचानक पैसों की जरूरत पड़ जाती है और उस वक्त हमारी ज्वेलरी काफी काम आती है. बहुत से लोग आपातकालीन नकदी (emergency Cash) की जरूरत होने पर अपने सोने के आभूषण (gold jewellery) को बेचने का विकल्प चुनते हैं. वर्तमान में कोरोना महामारी के कारण तो ऐसे लोगों की संख्या बढ़ी हैं, क्योंकि कई लोग नौकरी छूटने या व्यवसाय बंद होने के कारण वित्तीय कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं. इस बीच अगर आप भी अपने सोने के आभूषण बेचने की योजना बना रहे हैं तो हम आपको बता रहे हैं कि कैसे आप बेहतर कीमत पा सकते हैं.

    सही वजन और कैरेट करें चेक
    ज्वेलरी को बेचने से पहले उसका सही वजन और कैरेट (weightand purity of gold) जान लें. इसके लिए हमेशा ज्वेलरी की रसीद लेना ही बेहतर होता है. यदि आपके पास रसीद नहीं है या रसीद पर इसका उल्लेख नहीं है, तो बेहतर होगा कि पहले इसका पता लगा लिया जाए. आप कैरेट मीटर वाले ज्वेलर्स से संपर्क कर सकते हैं. इसकी पुष्टि करने के लिए दो या दो से अधिक ज्वेलर्स से जांच कराना उचित रहेगा.

    ये भी पढ़ें- अगर आपके पास है 2 रुपये का यह सिक्का तो घर बैठे कमा सकते हैं ₹5 लाख, जानें क्या करना होगा?

    आभूषण की हॉलमार्किंग देखें
    अगर आप गहनों की शुद्धता के बारे में सुनिश्चित नहीं हैं तो आप एक या अधिक कैरेट मीटर वाले जौहरी से इसकी जांच करवा सकते हैं. आभूषण की हॉलमार्किंग उसकी शुद्धता को स्थापित करती है और खरीदार हमेशा ऐसे आभूषणों को पसंद करेगा. यदि आभूषण हॉलमार्क वाले हैं, तो यह आसान हो जाता है क्योंकि हॉलमार्क स्टैम्प पर कैरेट का उल्लेख होता है.

    सही बायर को चुनें
    अपनी ज्वेलरी को वहीं बेचने की कोशिश करें जिससे आपने इसे खरीदा था. कुछ दुकानों की नीति है कि वे केवल उन्हीं आभूषणों को वापस खरीदेंगे जो उनके द्वारा बेचे गए थे. एक प्रतिष्ठित ब्रांड के जौहरी के लिए जाना हमेशा बेहतर होता है.

    ये भी पढ़ें- सफल होने के लिए याद रखें Ratan Tata की ये 6 बातें! मोटी कमाई के साथ ही आप बनेंगे सबके चहेते

    कई सारे ज्वेलर्स से बात करें
    अंतिम कीमत पर पहुंचने से पहले, जौहरी वजन का एक निश्चित प्रतिशत बर्बादी के रूप में घटा सकते हैं.बेचने से पहले, बर्बादी की जाँच करें कि जौहरी गणना कर सकता है. कभी-कभी, एक जौहरी 20% तक की बर्बादी के लिए पैसे काट सकता है. यदि गहनों में पत्थर हैं, तो वे अधिक अपव्यय की गणना कर सकते हैं.मेकिंग चार्जेज के मामले में, आपको वह पैसा वापस नहीं मिलेगा जो आपने ज्वेलरी खरीदते समय चुकाया होगा.

    क्या कहते हैं जानकार?
    जानकारों की मानें तो अगर आप 10,000 रुपये से अधिक के आभूषण बेच रहे हैं तो जौहरी केवल चेक के माध्यम से भुगतान कर सकता है. इसलिए, यह सुनिश्चित करना चाहिए कि जौहरी चेक से भुगतान की सेवा करने में सक्षम होगा करें. साथ ही आप किसी ऐसे दुकानों और सोने के खरीदारों से सावधान रहें जो अक्सर गलत सलाह देकर अपना फायदा उठाते हैं. इसलिए बेहतर होगा कि आप किसी प्रतिष्ठित ब्रांड के जौहरी के पास जाएं.
    Published by:Varsha Pathak
    First published: