होम /न्यूज /व्यवसाय /

Independence Day Special : 40 की उम्र में पाना चाहते हैं नौकरी से आजादी, एक्‍सपर्ट से जानें कैसे करें प्‍लानिंग?

Independence Day Special : 40 की उम्र में पाना चाहते हैं नौकरी से आजादी, एक्‍सपर्ट से जानें कैसे करें प्‍लानिंग?

सुरक्षा के लिए स्‍वास्‍थ्‍य और टर्म बीमा होना बहुत जरूरी है.

सुरक्षा के लिए स्‍वास्‍थ्‍य और टर्म बीमा होना बहुत जरूरी है.

हमारे मौजूदा वेतन ढांचे को देखते हुए जल्दी रिटायर होना संभव है. लेकिन ऐसा करना काफी चुनौतीपूर्ण काम है. अधिकांश पेशेवर खिलाड़ियों, व्यापारियों या मनोरंजन करने वालों की तरह निवेशकों को अपने लक्ष्यों को पूरा करने के लिए एक अनुशासित और व्यवस्थित दृष्टिकोण की जरूरत होती है. इसके जरिये आप भी 40 साल की उम्र में ही रिटायरमेंट का आनंद ले सकते हैं.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

आप वित्‍तीय स्‍तंत्रता पाना चाहते हैं तो पहले अपनी इच्‍छाओं से स्‍वतंत्र होना पड़ेगा.
आपकी सुरक्षा का एकमात्र तरीका व्यापक चिकित्सा बीमा और एक टर्म पॉलिसी लेना है.
आप जितने लंबे समय तक निवेश में बने रहेंगे, आपको उतना ही अधिक रिटर्न मिलेगा.

नई दिल्‍ली. पीढ़ियों के बदलने के साथ प्राथमिकताएं भी बदल जाती हैं. हमारे पूर्वज आजीविका के तरीके खोजने के लिए संघर्ष करते थे, फिर औद्योगीकरण आया और लोग नौकरियों के लिए बेताब नजर आए. अब कम्प्यूटरीकरण और सेवा उद्योग के विकास के साथ लोगों की प्राथमिकता समय से पहले रिटायरमेंट और वित्तीय स्वतंत्रता हासिल में बदल गई है.

अगर हम 40 वर्ष की उम्र में वित्तीय आजादी हासिल करने के बारे में सोच रहे तो यह बहुत मुश्किल नहीं है. हालांकि, जीवन के मोड़ पर नौकरी छोड़ने का फैसला लेना बेहद कठिन होगा, लेकिन वित्तीय आजादी हासिल करने के लिए पर्याप्‍त पैसा है तो आप ये फैसला भी ले सकते हैं. भविष्य में कमाने की उम्‍मीद के आधार पर कोई व्यक्ति वित्तीय आजादी हासिल नहीं कर सकता है. ऐसे में आप भी इस प्‍लानिंग पर काम करना चाहते हैं तो ट्रेडस्मार्ट के सीईओ विकास सिंघानिया बता रहे कि कैसे अपना लक्ष्‍य हासिल किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें – Job Alert! महामारी में भी मिलीं बंपर नौकरियां, टॉप 10 में से 8 कंपनियों ने हायर किए 3 लाख कर्मचारी, कौन रहा सबसे आगे?

पहले निर्धारित करें, क्‍या है वित्‍तीय आजादी
कुछ के लिए इसका मतलब ॠण से मुक्त होना हो सकता है, जबकि दूसरों के लिए इसका मतलब पैसा कमाने के लिए अगले दिन काम नहीं करने से है. खैर जो भी मामला हो, वित्तीय स्वतंत्रता तब हासिल होती है जब आपके पास अपनी जीवन भर की जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त पैसा होता है अथवा ब्याज या लाभांश, कारोबार से लाभ के रूप में नकदी प्रवाह होता है जो आपकी पैसे की जरूरत को पूरा कर सके.

सबसे पहले निवेश की योजना बनाएं
जैसा कि पहले बताया गया है कि किसी भी योजना के बिना वित्तीय स्वतंत्रता केवल एक सपना बनकर रह जाएगी. वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए विवेकपूर्ण दृष्टिकोण अपनाने की जरूरत है और इसके लिए छोटे से छोटे विवरण के स्तर पर योजना बनानी चाहिए और अपने निवेश पर अमल करना चाहिए.

सरल जीवनशैली
एक मितव्ययी जीवनशैली जीने से आपके हाथ में पैसा बचेगा जिसे बेहतर भविष्य के लिए इस्‍तेमाल किया जा सकता है. फिजूलखर्ची और अल्पकालिक संतुष्टि के पीछे भागना आपको अपने जीवन के लक्ष्यों को प्राप्त करने में मुश्किलें पैदा करेगा. लिहाजा अगर आप वित्‍तीय स्‍तंत्रता पाना चाहते हैं तो पहले अपनी इच्‍छाओं से स्‍वतंत्र होना पड़ेगा. मंत्र यह है कि आप हर एक रुपये को बचाने की कोशिश करें.

ये भी पढ़ें – Investment Tips : कितने रुपये से करें म्‍यूचुअल फंड में निवेश की शुरुआत? एक्‍सपर्ट से जानें पूरी एबीसीडी

सुरक्षा…सबसे जरूरी
जब कोई युवा होता है तो उसे बीमा पॉलिसी होने के महत्व का एहसास नहीं होता है. एक दुर्घटना या कोई अप्रिय घटना न केवल उस व्यक्ति का बल्कि उसके परिवार का भी जीवन बर्बाद कर सकती है. आपकी सुरक्षा का एकमात्र तरीका व्यापक चिकित्सा बीमा और एक टर्म पॉलिसी लेना है. आप जितनी जल्दी शुरू करेंगे, प्रीमियम उतना ही कम होगा.

जल्दी शुरू करें निवेश
जीवन की शुरुआत में ही वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त करना कंपाउंडिंग या चक्रवृद्धि के फॉर्मूले को सीखने और जीने के बारे में है. आपके धन की चक्रवृद्धि वृद्धि में दो घटक होते हैं – समय और निवेश पर रिटर्न. आप जितने लंबे समय तक गुणवत्तापूर्ण निवेश में बने रहेंगे, आपको उतना ही अधिक रिटर्न मिलेगा. इसलिए जरूरी है कि जीवन में जल्दी बचत शुरू कर दी जाए.

उदाहरण के लिए, 15-15-15 का नियम कहता है कि करोड़पति होने के लिए आपको 15 साल के लिए हर महीने 15,000 रुपये ऐसे साधन में बचाना चाहिए जो 15 प्रतिशत का रिटर्न देता हो. शेयरों में ही 15 फीसदी का रिटर्न संभव है. गुणवत्ता वाले शेयरों या अच्छे म्युचुअल फंड योजनाओं में जल्दी निवेश करने से लक्ष्य हासिल करने में मदद मिल सकती है.

इसके अलावा निवेशकों को नियमित रूप से अपने फाइनेंस की निगरानी करने की जरूरत है, खासकर उनके लिए जो अपने वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने के लिए इक्विटी निवेश पर भरोसा करते हैं. अपने लक्ष्य को पूरा करने का एक महत्वपूर्ण हिस्सा जहां भी जरूरी हो, निवेश की रणनीति को बदलकर पैसा लगाया जाए.

Tags: Business news in hindi, Health insurance cover, Investment and return, Retirement savings

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर