Home /News /business /

जानें किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने का पूरा प्रोसेस और इससे जुड़े सभी सवालों के जवाब

जानें किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने का पूरा प्रोसेस और इससे जुड़े सभी सवालों के जवाब

प्रतीकात्मक

प्रतीकात्मक

किसानों को अभी एक लाख रुपये तक का लोन बिना गारंटी के मिलता है. आरबीआई के ऐलान के बाद अगर आप भी खेती करने के लिए लोन लेने की तैयारी कर रहे हैं तो आज हम आपको उससे जुड़ी सभी जानकारियां दे रहे हैं.

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में 'प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि' (पीएम-किसान) योजना को लॉन्च कर दिया है. 75 हजार करोड़ रुपये की इस योजना के पहले चरण में 1 करोड़ किसानों के खाते में 2-2 हजार रुपये ट्रांसफर किए जाएंगे. आपको बता दें कि भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने भी इस बीच बिना गारंटी वाले कृषि लोन की सीमा बढ़ाकर 1.60 लाख रुपये कर दी है. किसानों को अभी एक लाख रुपये तक का लोन बिना गारंटी के मिलता है. आरबीआई के ऐलान के बाद अगर आप भी खेती करने के लिए लोन लेने की तैयारी कर रहे हैं तो आज हम आपको उससे जुड़ी सभी जानकारियां दे रहे हैं.

    एग्रीकल्चर लोन - अगर आपके पास खेती करने के लिए ज़मीन है तो अपनी जमीन को बिना गिरवी रखे बिना लोन ले सकते हैं. इसकी सीमा एक लाख रुपये है. एक लाख रुपये से ज्यादा के लोन पर जमीन गिरवी रखने के साथ-साथ गारंटर भी देना होगा. आपको बता दें कि आरबीआई ने बिना गारंटी वाले कृषि लोन की सीमा बढ़ाकर 1.60 लाख  रुपये कर दी है. लेकिन बैंक में इसे लागू करने में अभी वक्त लेगा. इसके लिए नोटिफिकेशन जारी होगा. आपको बता दें कि लोन के लिए अब सभी बैंक किसान क्रेडिट कार्ड जारी करते है.

    (ये भी पढ़ें: इन किसानों को नहीं मिलेगी 6000 रुपये की सहायता, कहीं आप तो नहीं हैं इनमें?)

    सवाल:अगर मेरे पास एक हेक्टेयर जमीन है तो मुझे कितना लोन मिलेगा?
    जवाब: उत्तर प्रदेश के जिले अमरोहा में स्थित प्रथमा बैंक के ब्रांच मैनेजर अंकुर त्यागी ने बताया कि 1 हेक्टकेयर जमीन पर 2 लाख रुपये तक का लोन मिल सकता है. लोन की लिमिट हर बैंक की अलग-अलग होती है. बैंक आपको इसके लिए किसान क्रेडिट कार्ड जारी करेगा. जिसके जरिए आप कभी भी पैसा निकाल सकते है.

    सवाल: लोन के लिए क्या डॉक्युमेंट चाहिए?
    जवाब: लोन लेने के लिए आधार, पैन कार्ड, के साथ तीन फोटो की जरुरत होती है. अगर लोन एक लाख रुपये तक का है तो कोई गारंटर नहीं चाहिए. लेकिन अधिक का है तो उसके लिए गारंटर की जरुरत होती है. साथ ही, उस गारंटर के नाम पर भी ज़मीन होनी चाहिए. ये भी पढ़ें: इन किसानों के खाते में नहीं आएंगे 2000 रुपये! जानिए नियमों के बारे में...

    लोन के लिए दो सबसे महत्वपूर्ण डॉक्युमेंट खसरा और खतौनी होती है. खसरा को पटवारी बनाता है. इसमें खेती की जमीन की डिटेल होती है. मतलब साफ है कि उस जमीन पर अभी क्या हो रहा है और वह खेती के लिए कितनी उपयोगी है या फिर वह आबादी के बीच में तो नहीं है.



    दूसरा महत्वपूर्ण डॉक्युमेंट खतौनी होता है इसमें जमीन किसके नाम है उसकी डिटेल होती है. अगर जमीन एक से ज्यादा के नाम पर है तो उसके लिए शेयर सर्टिफिकेट बनवाना होता है. इस सर्टिफिकेट पर तहसीलदार के सिग्नेचर होते है.

    सवाल: कृषि लोन पर कितना ब्याज देना होगा?
    जवाब: सरकार कृषि लोन को एक खास कैटेगिरी में रखती है और इसे ज्यादा से ज्यादा देने के लिए बैंकों को कहती है, ताकि दलहन, तिलहन का उत्पादन बढ़ाया जा सके. ऐसे में 3 लाख रुपये तक के लोन पर 7 फीसदी ब्याज दर तय है. अगर कोई किसान एक साल से पहले इसे चुका देता है तो उसे 3 फीसदी की छूट और मिलती है.

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स

    Tags: Government of India, Kisan credit card, Modi government

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर