लाइव टीवी

ऐसे मिलेगा नए जमाने का One Nation One Card वाला कॉन्टैक्टलेस ATM, जानें क्या है खास

News18Hindi
Updated: March 9, 2019, 3:02 PM IST
ऐसे मिलेगा नए जमाने का One Nation One Card वाला कॉन्टैक्टलेस ATM, जानें क्या है खास
ऐसे मिलेगा नए जमाने का One Nation One Card वाला कॉन्टैक्टलेस ATM, जानें क्या है खास

One Nation One Card की शुरुआत हो चुकी हैं. इसके तहत भारतीय कंपनी RuPay नए कॉन्टैक्टलेस डेबिट और क्रेडिट कार्ड्स जारी कर रही है. आइए जानें इसके बारे में सबकुछ...

  • Share this:
One Nation One Card की शुरुआत हो चुकी हैं. इस कार्ड का इस्तेमाल नागरिक सभी प्रकार के पब्लिक ट्रांस्पोर्ट का भुगतान करने के साथ ही अन्य सेवाओं के लिए भी कर सकेंगे. RuPay द्वारा पावर्ड इस कार्ड को नेशनल कॉमन मोबिलिटी कार्ड के तौर पर भी प्रयोग किया जा सकता है. आपको बता दें कि यह कार्ड एक स्मार्ट कार्ड जैसे कि डेबिट-क्रेडिट कार्ड की तरह होगा. दिल्ली में मेट्रो में ऐसा ही कार्ड चलता है, जिसे आप रिचार्ज कराते हैं और मेट्रो में सफर कर सकते हैं. अब बैंक जो भी नए डेबिट और क्रेडिट कार्ड जारी करेंगे उनमे नेशनल कॉमन मोबेलिटी कार्ड फीचर होगा. ये किसी और वॉलेट की तरह ही काम करेगा.

कैसे मिलेगा कार्ड- इस कार्ड को पाने के लिए आपको अपने बैंक से संपर्क करना होगा. ये 25 बैंकों में उपलब्ध होने के साथ ही यह कार्ड पेटीएम पेमेंट बैंक द्वारा भी जारी किया जाएगा. इस कार्ड को एटीएम पर इस्तेमाल करने पर 5 प्रतिशत का कैशबैक और विदेश यात्रा के दौरान मर्चेंट आउटलेट पर भुगतान करने पर 10 प्रतिशत का कैशबैक मिलेगा. रुपे का यह कार्ड डिस्कवर और डाइनर्स क्लब इंटरनैशनल मर्चेंट्स के अलावा विदेश के एटीएम पर भी स्वीकार किया जाएगा. इस कार्ड को एसबीआई, पीएनबी समेत देशभर के 25 बैंक उपलब्ध कराएंगे.

जारी हो रहे हैं कॉन्टैक्टलेस कार्ड- यह कार्ड कॉन्टैक्टलेस कार्ड है. इन कार्ड्स के जरिये मॉल या दुकानों में दो हजार रुपये तक की शॉपिंग के लिए किसी भी तरह के पिन कोड या ओटीपी की जरूरत नहीं होती. इसकी सुरक्षा से जुड़े सवाल पर एक्सपर्ट्स कहते हैं कि इन कार्ड्स से सुरक्षा को खतरा तो है. कम से कम दो हजार रुपये तक तो बिना पिन कोड शॉपिंग की जा सकती है. हालांकि बैंक के ऐप के जरिए आप इसकी लिमिट तय कर सकते हैं. आइए जानें इसके बारे में...

 कैसे करते हैं काम- इन सभी कार्ड्स पर एक खास निशान बना होता है. वहीं, जिन पेमेंट मशीनों पर इनका इस्तेमाल होता है. वहां भी एक खास चिह्न () बना होता है. इस मशीन पर करीब 4 सेंटीमीटर की दूरी पर कार्ड रखना या दिखाना होगा और आपके खाते से पैसे कट जाएंगे. कार्ड को स्वाइप या डिप करने की जरूरत नहीं होगी और न ही पिन एंटर करना होगा.ये भी पढ़ें-सावधान! अगर आपके बैंक खाते में अचानक आ जाएं पैसे तो भूलकर भी न करें ये काम)



ज्यादा पेमेंट के लिए पिन और OTP जरूरी- दो हजार रुपये से ज्यादा की पेमेंट के लिए ही पिन या ओटीपी लगेगा. यानी आपका कार्ड किसी और के हाथ लग जाए तो वह एक बार में कम से कम दो हजार रुपए तक की शॉपिंग कर सकेगा. हो सकता है कि जब तक आपको इसका पता चले, तब तक वह आपके खाते से इससे ज्यादा पैसे उड़ा चुका हो.



सवाल-अगर मेरा कार्ड गुम हो गया और किसी को मिल गया तब क्या होगा?
जवाब- सरकारी बैंक के एक बड़े अधिकारी ने न्यूज18 हिंदी को बताया कि इस स्थिति में आपको तुरंत बैंक को सूचित कर कार्ड ब्लॉक करवाना होगा. अगर आपकी जानकारी में आने से पहले किसी ने शॉपिंग कर ली है, तो बैंक नुकसान की भरपाई करेगा.

सवाल: कार्ड जिस भी व्यक्ति को मिलेगा वह 2000 हजार रुपये की शॉपिंग तो कर ही लेगा? तब क्या?
जवाब: बैंक अधिकारी का कहना है कि अगर एक दिन की शॉपिंग लिमिट 20 हजार रुपये हैं, तो इतने पैसों का नुकसान हो सकता है, लेकिन इसके लिए कार्ड से कम से कम 10 बार पेमेंट लेना होगा.

सवाल: मशीन के पास से गुजरने पर क्या जेब में रखें कार्ड से पेमेंट हो जाएगा?
जवाब: एक्सपर्ट्स बताते हैं कि कार्ड और मशीन के बीच 4 सेंटीमीटर की दूरी होनी चाहिए तभी पेमेंट होता है. जेब में रखें कार्ड से अपने आप पेमेंट नहीं होगा.

आनंद महिंद्रा भी जता चुके हैं चिंता- महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने पिछले साल एक वीडियो ट्वीट किया था, जिसमें एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति के पीछे की जेब में रखे कार्ड पर चुपके से मशीन टच कर रहा था और पेमेंट लेकर दिखा रहा था. महिंद्रा ने लिखा था ‘क्या ऐसा संभव है? यह डराने वाला है.'

महिंद्रा के इस ट्वीट के जवाब में वीज़ा साउथ एशिया के कंट्री हेड टीआर रामचंद्रन ने लिखा, ‘ऐसा नहीं हो सकता. ऐसी ट्रिक करने वाले को सजा हो सकती है.'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 9, 2019, 10:00 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर