FD, पेंशन स्कीम, म्यूचुअल फंड और शेयर बाजार की बजाय इन 6 जगहों पर लगाएं पैसा, होंगे मालामाल

जानिए अमीर लोग अपना पैसा कैसे बनाते हैं?

जानिए अमीर लोग अपना पैसा कैसे बनाते हैं?

Investment Planning: "क्रैश एंड बर्न" यानी जल्दी के चक्कर में ठोकर खाना एक सच्चाई है, इसलिए सावधानी से चलना और ऐसे निवेश ढूंढना जरूरी है जो समय के साथ-साथ स्थिर रिटर्न देते हों.

  • Share this:

नई दिल्ली. जब बचत करने की बात आती है तो हममें से कई लोग बुनियादी तरीके पसंद करते हैं, जैसे कि बैंक डिपॉजिट (FD), पेंशन स्कीम (Pension Scheme), इंश्योरेंस या म्यूचुअल फंड (Mutual Fund). बता दें कि साल 2020 हम सबके लिए एक अलग अनुभव था जिसने निवेशकों को अपने पैसे को जोखिम से बचाने के उपायों के साथ स्टेबल रिटर्न हासिल करना सिखाया. जिस तरह से ब्याज दरों में गिरावट और फाइनेंशियल एसेट के वैल्यूएशन तेज़ी से बदल रहे हैं, आप जरूर कैपिटल मार्केट के उतार-चढ़ावों से सुरक्षित निवेश खोज रहे होंगे. इस तरह के विकल्पों के बारे में विचार करते समय ज़रूरी है कि आप किसी भी स्कैम या जल्दी अमीर बनाने वाली स्कीम से बचें. "क्रैश एंड बर्न" यानी जल्दी के चक्कर में ठोकर खाना एक सच्चाई है, इसलिए सावधानी से चलना और ऐसे निवेश ढूंढना जरूरी है जो समय के साथ-साथ स्थिर रिटर्न देते हों.

आइए जानते हैं कहां लगाएं पैसे?

1. कोई बिजनेस खरीदना

जब निवेश की बात आती है, तो सबसे पुराने और जांचे-परखे विकल्पों में से एक है सीधे किसी भी बिज़नेस को खरीदना. ज़्यादातर अमीर लोगों ने भी बिजनेस करके ही पैसा बनाया. जब आप किसी बने-बनाए बिज़नेस को खरीदते हैं तो आप शुरुआती सेटअप करने के झंझट से बच जाते हैं और जब आपको कमाई करता हुआ तैयार बिज़नेस मिलता है तो आप कैश फ्लो सुधारने पर फोकस कर सकते हैं.
कोरोना महामारी के बाद से, बिज़नेस बेचने वाली वेबसाइटों पर कई डील/बिज़नेस ऑफर्स लिस्ट हुए हैं. इनमें से ज़्यादातर ऑफर, बाज़ार में मौजूद अनिश्चितता की वजह से हैं, लेकिन एक समझदार निवेशक अवसर को पहचान कर, सस्ते वैल्यूएशन पर बिज़नेस खरीद कर लंबी अवधि में अच्छा मुनाफ़ा कमा सकता है. SMERGERS, BizBuySell और BusinessForSale जैसे ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म, बिज़नेस खरीदारों को उनकी आवश्यकताओं से मेल खाने वाले बेहतरीन अवसरों को खोजने और उन्हें शॉर्टलिस्ट करने में मदद करते हैं. सबसे सटीक बिज़नेस को खोजने और खरीदने के लिए, आप उसके डेटा की पहले जांच-पड़ताल कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें- घर बैठे सिर्फ 3 हजार रुपये में शुरू करें ये कारोबार, 1 लाख तक होगी इनकम

2. पी2पी प्लेटफाॅर्म की मदद लेना



फाइनेंसियल मार्केट (Financial Market) की अपनी मुश्किलें हैं. बड़े बिज़नेस की तुलना में छोटे बिजनेस के लिए लोन पाने में ज़्यादा मुश्किलें आती हैं. एक लंबी और जटिल आवेदन प्रक्रिया, आवेदन कई बार अस्वीकार होना कुछ ऐसे अनुभव हैं जिनकी वजह से छोटे बिज़नेस शुरू करने वाले लोग, बैंक लोन लेने के पुराने तरीकों से बचते हैं.आजकल कई पी2पी प्लेटफ़ॉर्म मौजूद हैं जिनकी मदद से आप बिज़नेस के लिए, बैंकों के बजाय पीयर-टू-पीयर (पी2पी) लेंडर्स से धन जुटा सकते हैं. आम तौर पर, इस प्रकार के लोन छोटी अवधि, कुछ महीनों या कुछ वर्षों के लिए दिए जाते हैं, जिस दौरान इन्हें चुकाया जाता है और किसी खास व्यापारिक ज़रूरत के लिए इस्तेमाल किया जाता है. रिसर्च में पाया गया है कि आने वाले वर्षों में, पी2पी लेंडिंग में 10 गुना की बढ़त देखी जा सकती है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में, Fund box जैसी वेबसाइटें और और फंडिंग सोसाइटीज़ चल रही हैं, जबकि भारत में लाइसेंस प्राप्त प्लेटफ़ॉर्म जैसे कि Rupee Circle, Faircent उपलब्ध हैं.

3. कोई फ्रेंचाइजी लेना

फ्रैंचाइजिंग निवेश (Investment in franchise) करने का एक लोकप्रिय ज़रिया बनता जा रहा है क्योंकि निवेशक इसके ज़रिए, नया व्यापार शुरू करने की तुलना में कम जोखिम पर व्यापार की दुनिया में कदम रख सकते हैं. एक फ्रैंचाइज़ी व्यवसाय में एक जाना-माना और जांचे-परखे रेवेन्यु मॉडल वाला एक स्थापित ब्रांडनेम होगा. इसके अलावा, फ्रैंचाइज़ी पार्टनर मार्केटिंग, ट्रेनिंग, हायरिंग और ऑपरेशनल गाइडलाइंस के मामले में फ्रेंचाइज़र से मदद ले सकता है. यह फॉर्मेट खास तौर पर उन कामकाजी पेशेवरों के लिए सुविधाजनक है जो अपने मासिक वेतन के अलावा, अतिरिक्त बिज़नेस आय कमाना चाहते हैं. इन उद्देश्यों को पूरा करने वाले ब्रांडों को शॉर्टलिस्ट करने के लिए आप Franchise Direct, SMERGERS, Franchise India जैसे प्लेटफ़ॉर्मों का इस्तेमाल कर सकते हैं.

4. को-ओनरशिप वाली CRE में निवेश करना

ज़्यादातर रिटेल निवेशकों को लगता है कि सिर्फ़ रेज़ीडेंशियल प्रॉपर्टी ही बढ़िया रियल एस्टेट इन्वेस्टमेंट हैं. जहां एक ओर अपार्टमेंट और प्लॉट निवेश के सबसे लोकप्रिय तरीके थे. वहीं, दूसरी ओर पिछले दशक में, निवेश के विकल्प के रूप में इसने अपनी चमक खो दी है और कोविड-19 की शुरुआत के बाद से हालात और भी बिगड़ गए हैं. हालांकि, कमर्शियल रियल एस्टेट (सीआरई) हमेशा से एचएनआई और संस्थानों के बीच एक लोकप्रिय एसेट क्लास रहा है. ये प्रॉपर्टी, न केवल इक्विटी की तरह साल-दर-साल मुनाफा देती हैं, बल्कि ऋण की तरह ही निश्चित मासिक किराया भी देती हैं जो मैनेजमेंट के खर्चे को हटाकर भी 7-10 प्रतिशत की बढ़त के रूप में मिलता है. नए ज़माने के को-ओनरशिप वाले प्लेटफ़ॉर्म जैसे PropShare, Strata आदि निवेशकों के ग्रुप को साथ जोड़ते हैं जो कम से कम 25 लाख रुपये के टिकट साइज़ के साथ निवेश करके प्रीमियम ऑफिस और कमर्शियल प्रॉपर्टी जैसी स्पेस खरीद सकते हैं. भारत ने अब आरईआईटी शुरू किए हैं, जो अनिवार्य रूप से सीआरई प्रॉपटीज़ की पब्लिकली ट्रेडेड यूनिट्स हैं, जहां कोई भी 50,000 रुपये जितने कम के टिकट साइज़ का भी निवेश कर सकता है.

ये भी पढ़ें- सोने से मिलेंगे कमाई के नए मौके! अब शेयरों की तरह कर सकेंगे कारोबार, SEBI ने बनाया ये प्लान

5. स्टार्टअप में निवेश करना

स्टार्टअप बिजनेस (Startups) करने का एक नया तरीका हैं जिसमें विचार, जुनून, एक्सीक्यूशन और लचीलापन बिज़नेस को आगे बढ़ाता है. इसके लिए, निवेशकों से शुरुआती कैपिटल जुटाई जाती है, लेकिन समय के साथ ही, इनमें अरबों डॉलर की कंपनी बनने की क्षमता भी होती है. एक आंकड़ों के अनुसार 98 प्रतिशत स्टार्टअप फेल हो जाते हैं. निवेशकों को किसी भी स्टार्टअप में अपना पूरा निवेश खोने के लिए तैयार रहना चाहिए. इसी के साथ, स्टार्टअप में पैसा लगाने वाले कई निवेशक अपने निवेश पर 30x-40x गुना कमाई भी करते हैं. 500 से ज़्यादा स्टार्ट-अप बहुत सफल रहे हैं जिनमें अमेरिका, चीन, ब्रिटेन और भारत के स्टार्टअप आगे हैं. मान्यताप्राप्त निवेशक, हाई ग्रोथ पोटेंशियल वाले और पेटेंट या मज़बूत कस्टमर बेस जैसी कम्पटीटिव क्षमता वाले स्टार्ट-अप खोजने और उनमें निवेश करने के लिए AngelList, Lets Venture, Tracxn इत्यादि जैसे प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग करते हैं.

ये भी पढ़ें- Bitcoin-Dogecoin को टक्कर देने के लिए Facebook इसी साल लॉन्च करेगा क्रिप्टोकरेंसी Diem, जानें डिटेल

6. क्रिप्टोकरेंसी खरीदना

यह एक विवादास्पद स्पेस है जहां जोखिम और मुनाफे का अजब खेल है. एक तरफ एलन मस्क जैसे विश्वास करने वाले लोग हैं जो मानते हैं कि क्रिप्टो का भविष्य उज्ज्वल है और उन्होंने रियल वर्ल्ड प्रॉडक्ट्स के लिए क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) पेमेंट स्वीकार करना शुरू कर दिया है. दूसरी तरफ सरकार की वकालत करने वाले कई दिग्गज उद्योगपति हैं जो इसे एक स्कैम मानते हैं और इसे अपराध की हद तक गलत मानते हैं, लेकिन एक निवेशक के रूप में इसमें निवेश करके कई लोग अमीर बन चुके हैं. आप Coinbase, Binance जैसे ऐप्स देखें और साथ ही, भारत में बने ऐप जैसे कि CoinSwitch Kuber, CoinDCX, WazirX ऐसे ऐप हैं, जिनके ज़रिए आप छोटी मात्रा में निवेश कर सकते हैं. जो लोग अलग से क्रिप्टो वॉलेट नहीं खोलना चाहते उन लोगों के लिए भी BTTC और EBIT जैसे ETF मौजूद हैं .

(नोट- ये लेख SMERGERS के संस्थापक विशाल देवनाथ के विचारों पर आधारित है)

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज