Home /News /business /

Mutual Fund में डायरेक्ट निवेश कैसे करते हैं, जानिए इसके क्या हैं फायदे व नुकसान

Mutual Fund में डायरेक्ट निवेश कैसे करते हैं, जानिए इसके क्या हैं फायदे व नुकसान

 फंड ऑफ फंड्स कम रिस्क उठाने वाले छोटे निवेशकों के लिए बेहतर विकल्प है.

फंड ऑफ फंड्स कम रिस्क उठाने वाले छोटे निवेशकों के लिए बेहतर विकल्प है.

अगर आपका KYC पूरा हो चुका है तो आप म्यूचुअल फंड में सीधे ऑफलाइन या ऑनलाइन निवेश कर सकते हैं. अगर आप ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करने में असहज महसूस करते हैं, तो आप नजदीकी शाखा में जाकर फंड में निवेश कर सकते हैं.

    Mutual Fund Investment: देश में म्यूचुअल फंड में निवेश तेजी से बढ़ा है. इस पर मिलने वाले अच्छे रिटर्न ने लोगों को अपनी ओर आकर्षित किया है. कुछ फंड्स ने तो साल भर में ही 100 फीसदी से ज्यादा रिटर्न दिया है. लेकिन अक्सर लोगों के सामने समस्या आती है कि म्यूचुअल फंड में निवेश कैसे करें.

    म्यूचुअल फंड्स में हम दो तरीके से निवेश कर सकते हैं. एक तो किसी भी निवेश प्लेटफॉर्म के माध्यम से पैसा लगा सकते हैं. जहां उनके फंड मैनेजर पैसे को अलग-अलग म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं. दूसरा तरीका होता सीधे म्यूचुअल फंड में निवेश. यहां हम विस्तार से जानेंगे कि म्यूचुअल फंड में डायरेक्ट निवेश कैसे करते हैं.

    KYC जरूरी
    अगर आपका KYC पूरा हो चुका है तो आप म्यूचुअल फंड में सीधे ऑफलाइन या ऑनलाइन निवेश कर सकते हैं. अगर आप ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करने में असहज महसूस करते हैं, तो आप नजदीकी शाखा में जाकर फंड में निवेश कर सकते हैं.

    यह भी पढ़ें- Air India को उड़ाना टाटा के लिए आसान नहीं, बड़े निवेश के साथ मुश्किल चुनौतियों का करना पड़ेगा सामना

    ऑनलाइन म्यूचुअल फंड की स्कीमों में सीधे निवेश करने का सबसे आसान तरीका है और आपको कमीशन भी नहीं देना पड़ता. आप फंड की वेबसाइट या उसके RTA की साइट या फिर फिनटेक प्लेटफॉर्म से ऑनलाइन निवेश कर सकते हैं. फंड की वेबसाइट पर सीधे निवेश करने पर आपको कई लॉगिन मैनेज करने पड़ते हैं.

    डायरेक्ट प्लान में निवेश  
    डायरेक्ट प्लान में निवेश करने का मतलब है कि आप फिनांशियल प्लान बनाने, अपने गोल के लिए सबसे सही फंड्स को चुनने, अपने पोर्टफोलियो को नियमित तौर पर मैनेज करने और ज़रूरत पड़ने पर उसमें फेरबदल करने की जिम्मेदारी लेते हैं.

    हर किसी को म्यूचुअल फंड में सही फंड चुनना और पोर्टफोलियो को मैनेज करना नहीं आता है. इसलिए डायरेक्ट प्लान उन निवेशकों के लिए है जो इसे आसानी से कर सकते हैं. अन्यथा, म्युचुअल फंड के बारे में कम जानकार लोगों को डिस्ट्रीब्यूटर द्वारा निवेश करने की सलाह दी जाती है.

    डायरेक्ट म्यूचुअल फंड निवेश 
    ऐसी कई फिनटेक कंपनियां हैं जो मुफ़्त या फीस लेकर डायरेक्ट म्यूचुअल फंड निवेश प्लेटफ़ॉर्म पेश करती हैं. इनमें से ज्यादातर प्लेटफ़ॉर्म्स SEBI के साथ रजिस्टर्ड है इस लिए अच्छी तरह से विनियमित और SEBI द्वारा अनिवार्य किए गए सुरक्षा एवं गोपनीयता दिशानिर्देशों द्वारा नियंत्रित हैं. आजकल तो फॉर्च्यून 500 कंपनियों को भी हैक किया जा सकता है और वैसे ही म्यूचुअल फंड के प्लेटफॉर्म को भी. हालांकि, इसकी संभावना बिल्कुल ना के बराबर है.

    पैसा सुरक्षित रहता है 
    क्योंकि फिलहाल ज़्यादातर डायरेक्ट प्लेटफॉर्म्स पर स्टार्टअप्स का मालिकाना अधिकार है, जो लंबे समय तक बाज़ार में नहीं थे, संभावना हो सकती है कि उनमें से कुछ बंद हो गयी होंगी या फिर बड़ी कंपनियों द्वारा खरीद ली गयी होंगी. लेकिन आपको इन रजिस्टर्ड प्लेटफार्मों द्वारा किए गए अपने निवेश के बारे में फ़िक्र करने की ज़रूरत नहीं है. भले ही ये प्लेटफार्म भविष्य में मौजूद ना रहें, क्योंकि आपके द्वारा निवेश किया गया पैसा म्यूचुअल फंड के अकाउंट में जाता है और फंड के पास आपके निवेश का लेखा-जोखा रखने के लिए SEBI से मान्यता प्राप्त रजिस्ट्रार है.

    अपने निवेश को एक्सेस करने के लिए आप हमेशा फंड हाउस से संपर्क कर सकते हैं. अगर आप अपने यूज़र एक्सपीरियंस, फीस, इसकी सेवाओं से खुश हैं और अगर आपको संस्थापक टीम पर भरोसा है, तो डायरेक्ट प्लेटफ़ॉर्म चुनें. उनके भविष्य और उनके माध्यम से किए गए अपने निवेश के बारे में चिंता न करें. फंड हाउस के पास वे हमेशा सुरक्षित रहेंगे.

    Tags: Mutual fund, Mutual fund investors, Mutual funds, Returns of mutual fund SIPs, SIP, Systematic Investment Plan (SIP)

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर