बच्चों के आधार कार्ड इतने साल के बाद हो जाते है बेकार, जानिए इससे जुड़े सभी काम की बातें

News18Hindi
Updated: September 7, 2018, 7:48 AM IST
बच्चों के आधार कार्ड इतने साल के बाद हो जाते है बेकार, जानिए इससे जुड़े सभी काम की बातें
प्रतीकात्मक तस्वीर

UIDAI बच्चों के लिए बाल आधार जारी करता है. यह आधार कार्ड पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए बनाया जाता है. बच्चों के लिए जारी किया जाने वाला आधार नीले रंग का होता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 7, 2018, 7:48 AM IST
  • Share this:
भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) बच्चों के लिए बाल आधार जारी करता है. यह आधार कार्ड पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए बनाया जाता है. बच्चों के लिए जारी किया जाने वाला आधार नीले रंग का होता है, और बच्चे के 5 वर्ष के होने पर यह आधार अमान्य हो जाता है. उसे निकटतम स्थायी नामांकन केंद्र जाकर इसी आधार संख्या से अपनी जनसांख्यिकीय और बायोमेट्रिक विवरण अद्यतन कराने होंगे. अन्यथा आधार अमान्य हो जाएगा.

(ये भी पढ़ें-बैंक अकाउंट के लिए पूरी तरह मान्य नहीं है Aadhaar की फोटो कॉपी, ये है नियम)

आपको बता दें कि अब कोई भी स्कूल बच्चों को आधार कार्ड न होने की वजह से एडमिशन देने से इनकार नहीं कर सकता. भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ने यह साफ कर दिया है कि अगर कोई स्कूल ऐसा करता है, तो वह अवैध गतिविधी होगी. अथॉरिटी ने स्कूलों को छात्र-छात्राओं के आधार पंजीकरण और अपडेट करने की खातिर सुविधा उपलब्ध कराने के लिए कहा है.

आम आधार से कितना अलग होगा बाल आधार-यूआईडीएआई ने स्पष्ट किया है कि बाल आधार में बायोमेट्रिक आईडेंटिफिकेशन जैसे आइरिस स्कैन या फिंगरप्रिंट स्कैन की जरूरत नहीं होगी. जहां कहीं भी बच्चे की पहचान की जरूरत होगी वहां उसके माता पिता साथ जाएंगे. हालांकि, जैसे ही बच्चे की उम्र पांच वर्ष के पार होती है, उसे सामान्य आधार कार्ड जारी कर दिया जाएगा. इसमें सभी बायोमैट्रिक डिटेल्स होंगी.

(ये भी पढ़ें-अपने बैंक अकाउंट से पैसे निकालने के लिए अब जरूरी हैं Aadhaar, जानें ऐसे 5 सवालों के जवाब)

कैसे बनवाएं अपने बच्चे के लिए बाल आधार-अपने बच्चे के साथ आधार इनरोलमेंट सेंटर जाएं और फॉर्म भरें.सेंटर पर बच्चे का और माता पिता में से किसी एक का जीवन प्रमाण पत्र लेकर जाएं.सेंटर पर बच्चे की फोटो खींची जाएगी जो बाल आधार पर लगेगी. बाल आधार माता पिता में किसी एक के आधार कार्ड से लिंक किया जाएगा. यहां बच्चे की कोई बायोमेट्रिक डिटल नहीं ली जाएगी. इसके लिए अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर जमा कराएं. वेरिफिकेशन और रजिस्ट्रेशन के बाद कंफर्मेशन मैसेज रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर भेजा जाएगा. कंफर्मेशन मैसेज मिलने के 60 दिनों के भीतर माता पिता के रजिस्टर्ड पते पर बाल आधार भेज दिया जाएगा.

गुम या चोरी हो जाए AADHAAR कार्ड तो न हों परेशान, घर बैठे ऐसे करें डाउनलोड
Loading...



आपको बता दें कि नीले रंग के आधार को सबसे ज्यादा पूछे जाने वाला सवाल UIDAI ने अपनी वेबसाइट पर जारी किया है. आइए जानें...

 मेरे बच्चे का आधार मुझे नीले रंग का प्राप्त हुआ है. क्या यह मान्य है?
हां, नीले रंग का आधार अन्य आधारों की तरह ही मान्य है. नई नीति के अनुसार, यूआईडीएआई नीले रंग का आधार (अर्थात् बाल आधार) 0-5 वर्ष के बच्चों के लिए जारी कर रहा है. बालक के 5 वर्ष का होने पर यह आधार अमान्य हो जाएगा और उसे निकटतम स्थायी नामांकन केंद्र जाकर इसी आधार संख्या से अपनी जनसांख्यिकीय और बायोमेट्रिक विवरण अद्यतन कराने होंगे. अन्यथा आधार अमान्य हो जाएगा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 7, 2018, 7:48 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...