Home /News /business /

कर्ज लेने में मददगार होते हैं Cibil और Credit Score, जानें इनका महत्व

कर्ज लेने में मददगार होते हैं Cibil और Credit Score, जानें इनका महत्व

क्रेडिट स्कोर 300 - 900 की सीमा में आता है. 900 अंकों वाला क्रेडिट स्कोर अच्छा माना जाता है.

क्रेडिट स्कोर 300 - 900 की सीमा में आता है. 900 अंकों वाला क्रेडिट स्कोर अच्छा माना जाता है.

वित्तीय संस्थान किसी भी ऋण को देने से पहले CIBIL स्कोर की जांच करते हैं. सिबिल स्कोर ही आपकी क्रेडिट क्षमता को दर्शाता है. क्रेडिट स्कोर (Credit Score) आमतौर पर 300 और 900 के बीच 3 अंकों की संख्या होती है. 300 से नीचे का स्कोर बेहद खराब है जबकि 900 का स्कोर आदर्श रूप से सबसे अच्छा माना जाता है. CIBIL स्कोर या क्रेडिट स्कोर किसी भी व्यक्ति का फाइनेंशियल रिपोर्ट कार्ड होता है. यह किसी व्यक्ति की उधार ली गई राशि का भुगतान करने की क्षमता को बताता है.

अधिक पढ़ें ...

    Personal Finance Tips: सिबिल स्कोर हमारे आर्थिक जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. बैंक और वित्तीय संस्थान किसी भी ऋण को देने से पहले CIBIL स्कोर की जांच करते हैं. सिबिल स्कोर ही आपकी क्रेडिट क्षमता को दर्शाता है. क्रेडिट स्कोर आमतौर पर 300 और 900 के बीच 3 अंकों की संख्या होती है. 300 से नीचे का स्कोर बेहद खराब है जबकि 900 का स्कोर आदर्श रूप से सबसे अच्छा माना जाता है.

    ये सिबिल (CIBIL Score) और क्रेडिट स्कोर (Credit Score) क्या हैं और हमारी फाइनेंशियल लाइफ में इनका क्या योगदान है, इस पर विस्तार से बता रही हैं पर्सनल फाइनेंशियल एक्सपर्ट ममता गोदियाल. ममता गोदियाल (Mamta Godiyal) कहती हैं कि सिबिल स्कोर से पहले में क्रेडिट स्कोर के बारे में जानना होगा.

    ममता बता रही हैं कि क्रेडिट स्कोर (Credit Score) क्या है और यह हमारी ऋण स्वीकृति को कैसे प्रभावित करता है.

    CIBIL स्कोर या क्रेडिट स्कोर किसी भी व्यक्ति का फाइनेंशियल रिपोर्ट कार्ड होता है. यह किसी व्यक्ति की उधार ली गई राशि का भुगतान करने की क्षमता को बताता है. यह आपकी क्रेडिट योग्यता और विस्तृत क्रेडिट रिपोर्ट को दर्शाता है.

    क्रेडिट स्कोर में 5 प्रकार की जानकारी शामिल होती हैं. इसमें आपका सिबिल स्कोर, संपर्क जानकारी के साथ व्यक्तिगत जानकारी, रोजगार के बारे में जानकारी, खाता जानकारी और पूछताछ सूचना से सम्बंधित जानकारी.

    फर्जी क्रिप्टोकरेंसी की पहचान कैसे करें, Crypto Fraud से बचाने के आसान उपाय

    क्रेडिट स्कोर की गणना देश में क्रेडिट ब्यूरो द्वारा आपके कर्ज लेने की हिस्ट्री, कर्ज के भुगतान का रिकॉर्ड, कितनी बार कर्ज लिया और आपके क्रेडिट कार्ड हिस्ट्री जैसी बातों को ध्यान में रखकर की जाती है. एक क्रेडिट स्कोर 300 – 900 की सीमा में आता है. 900 अंकों वाला क्रेडिट स्कोर अच्छा माना जाता है.

    अच्छे क्रेडिट स्कोर के फायदे (good credit score)
    अच्छा क्रेडिट स्कोर आपकी ऋण के प्रति जिम्मेदारी को दर्शाता है. आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा है तो आपका लोन जल्दी मंजूर हो जाएगा. अच्छे क्रेडिट स्कोर वाले ग्राहक बैंक अच्छा ऑफर देते हैं. यह आपको कम ब्याज दरों में भी मदद कर सकता है.

    ममता गोदियाल कहती हैं कि क्रेडिट स्कोर को सुधारने के लिए सिबिल स्कोर पर नजर रखनी चाहिए.

    वह कहती हैं कि सिबिल स्कोर भी तीन अंकों का होता है, लेकिन कुछ मामलों में सिबिल स्कोर को NA या NH के रूप में दर्शाया जाता है. NA या NH स्कोर का मतलब इनमें से कोई एक बात हो सकती है-
    – आपके पास क्रेडिट इतिहास नहीं है या आपके पास स्कोर करने के लिए पर्याप्त क्रेडिट इतिहास नहीं है.  – आप क्रेडिट सिस्टम में नए हैं.
    – पिछले कुछ वर्षों में आपकी कोई क्रेडिट गतिविधि नहीं हुई है. यानी आपने कोई लोन नहीं लिया है.
    – आपके पास सभी ऐड-ऑन क्रेडिट कार्ड (add-on credit card) हैं.
    – आपका कोई क्रेडिट एक्सपोजर नहीं है.

    यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि इन क्रेडिट स्कोर को क्रेडिट संस्थान द्वारा नकारात्मक रूप से नहीं देखा जाता है. कुछ संस्थान की क्रेडिट नीति उन्हें ‘NA’ या ‘NH’ (बिना क्रेडिट ट्रैक रिकॉर्ड वाले आवेदक) के क्रेडिट स्कोर वाले आवेदक को कर्ज देने से रोकती है. इसलिए आपके पास कहीं और ऋण के लिए आवेदन करने का एक बेहतर मौका हो सकता है.

    अच्छे सिबिल स्कोर के लिए जरूरी टिप्स-
    – कर्ज की राशि का समय पर और नियमित भुगतान करें.
    – अपने बिलों और ईएमआई (EMI) का भुगतान समय पर करने से अच्छा स्कोर बनता है.
    – आपकी बकाया राशि का एक भी चूक आपके सिबिल स्कोर पर नकारात्मक असर डाल सकती है.
    – कुछ लोग क्रेडिट कार्ड बिलों पूर्ण भुगतान करने के बजाय न्यूनतम भुगतान करते हैं. इससे क्रेडिट स्कोर पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है.
    – न्यूनतम राशि का भुगतान करने के बजाय समय पर क्रेडिट कार्ड बिल की पूरी राशि का भुगतान करें.

    क्रेडिट लिमिट का इस्तेमाल (Credit Utilization)
    यह समझना जरूरी है कि आप अपनी क्रेडिट लिमिट का कितना इस्तेमाल कर रहे हैं. अच्छे CIBIL स्कोर का आनंद लेने के लिए अपने क्रेडिट कार्ड पर अपनी खर्च सीमा का केवल 30 प्रतिशत तक उपयोग करें. सामान्य तौर पर हमारा क्रेडिट उपयोग हमारी खर्च सीमा के 30 फीसदी तक होना चाहिए. यह आपका खुद पर नियंत्रण बताता है. ज्यादा क्रेडिट उपयोग आपकी पैसे के प्रति लालसा की और संकेत करता है.

    एक कॉल पर निपटा सकते हैं बैंक के कई काम, SBI दे रहा है यह सुविधा

    क्रेडिट कार्ड से नकद निकासी (cash withdrawal)
    यह वित्तीय अस्थिरता से उत्पन्न होने वाले कर्ज की भूख का संकेत है. इस तरह का व्यवहार उधारदाताओं को क्रेडिट कार्ड और ऋण आवेदनों को मंजूरी देने के प्रति सावधान करता है. इसलिए आप अपने क्रेडिट कार्ड से नकद निकालने से परहेज करें.

    कर्ज की बढ़ती भूख पर कंट्रोल करें (Credit Hunger)
    कर्ज के बारे में बार-बार पूछताछ, छोटी अवधि के भीतर कई क्रेडिट कार्ड या ऋण के लिए आवेदन करने से आपका क्रेडिट स्कोर कम हो जाता है. इसलिए आवेदन और पूछताछ की संख्या को सीमित करने की सलाह दी जाती है क्योंकि यह आपकी क्रेडिट भूख को दर्शाता है.

    सिबिल स्कोर की नियमित जांच करें
    सिबिल रिपोर्ट में कभी-कभी गलत जानकारी होती है जैसे धोखाधड़ी वाले लेनदेन का उल्लेख, डेटा में चूक आदि. इस तरह की गलतियां आपके सिबिल स्कोर को प्रभावित करती हैं और इसमें आपकी कोई गलती नहीं है. ऋण या क्रेडिट के लिए आवेदन करने से पहले CIBIL रिपोर्ट और गलत जानकारी के लिए स्कोर की जांच करने से आप समस्या का समाधान करने और स्कोर में सुधार करने में सक्षम होंगे.

    ममता गोदियाल कहती हैं कि अच्छा सिबिल स्कोर आपको कम निवेश के साथ अपने सपनों को प्राप्त करने में मदद कर सकता है. इसलिए अगली बार जब आप लोन या क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करें या अपने लोन की ईएमआई या बिलों का भुगतान करें, तो यहां बताई गई बातों का ध्यान रखें.

    Tags: Personal finance

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर