Mutual Fund से करें मोटी कमाई! सुरक्षित निवेश के लिए ऐसे करें बेस्ट फंड का चुनाव, फायदे में रहेंगे आप

म्यूचुअल फंड में बेहतर रिटर्न मिलता है, लेकिन यह तभी होता है, जब आप सही फंड का चुनाव कर पाएं.

म्यूचुअल फंड में बेहतर रिटर्न मिलता है, लेकिन यह तभी होता है, जब आप सही फंड का चुनाव कर पाएं.

निवेश करने के लिए सही Mutual Fund का चयन चुनौतीपूर्ण साबित हो सकता है. बाजार में हजारों म्यूचुअल फंड योजनाएं हैं. ऐसे में निवेशकों को सही विकल्प का चुनाव करना मुश्किल हो सकता है.

  • Share this:

नई दिल्ली. अगर आप म्यूचुअल फंड (Mutual fund) में निवेश करना चाहते हैं, लेकिन रिस्क लेने से डरते हैं. तो आज हम आपके लिए कुछ शानदार सुझाव लेकर आएं हैं जिसे जानने के बाद आपको सही म्यूचुअल फंड चुनने में मदद मिलेगा, ताकि आप सही समय में सही जगह निवेश कर सकते हैं. बता दें कि म्यूचुअल फंड में निवेश इक्विटी के मुकाबले सुरक्षित माना जाता है क्योंकि न सिर्फ यहां जोखिम कम होता है, बल्कि इनमें आकर्षक रिटर्न भी मिलता है. लेकिन यह तभी होता है, जब आप सही फंड का चुनाव कर पाएं. निवेश करने के लिए सही म्यूचुअल फंड का चयन चुनौतीपूर्ण साबित हो सकता है. बाजार में हजारों म्यूचुअल फंड योजनाएं (Mutual Fund Schemes) हैं. ऐसे में निवेशकों को सही विकल्प का चुनाव करना मुश्किल हो सकता है.

ये हैं पांच प्वाइंट जो आपको यह तय करने में मदद करते हैं कि कहां निवेश करना है-

1. अपने लक्ष्य तय करें

सबसे पहले आप अपना निश्चित लक्ष्य तय करें. निवेश के लिए जो कुछ भी आप करते हैं वह आपके लक्ष्यों पर निर्भर करता है. आप अपने बैंक बचत और जरूरतों के हिसाब से फंड चुने.
2. बाजार के शोर को नजरअंदाज करें

लगभग सभी निवेश जोखिम भरा होता है, कम से कम वे निवेश जो आपको कोई सार्थक रिटर्न देते हैं.जोखिम का सही माप यह है कि क्या कोई फंड आपको उस तरह का रिटर्न देने में सक्षम है जो उस जोखिम को सही ठहराता है जो वह ले रहा है. हालांकि, रिटर्न को मापना इतना आसान नहीं है. इसको मापने के लिए कई तरह की सांख्यिकीय तकनीकों का इस्तेमाल किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें- कमाई के लिए रहें तैयार! अरबपति करसनभाई पटेल की ये कंपनी लाएगी 5,000 करोड़ का IPO, सालों बाद कर रहे हैं धमाकेदार वापसी



3. परफॉरमेंस देखें

प्रदर्शन तुलना का उपयोग केवल सेम टाइप ऑफ फंड के लिए करना चाहिए. नहीं तो फिर इसका कोई मतलब नहीं बनता. किसी भी फंड का चयन करने से पहले दो महत्वपूर्ण कारकों की जांच की जानी चाहिए जैसे कि क्या फंड का उद्देश्य आपके निवेश लक्ष्यों से मेल खाता है और फंड से जुड़े विभिन्न जोखिम क्या हैं.

4. पोर्टफोलियो चेक करें

जिन्हें निवेश की कोई जानकारी नहीं है उनके लिए पोर्टफोलियो थोड़ा कठिन हो सकता है. फिर भी, पोर्टफोलियो और होल्डिंग्स का विश्लेषण आपको उन प्रतिभूतियों के बारे में एक सामान्य विचार देता है जिसमें फंड निवेश कर रहा है. आप यह पता लगा सकते हैं कि म्युचुअल फंड किस कंपनी में निवेश कर रहा है.

ये भी पढ़ें- खुशखबरी: इस दिन से किसानों में खाते में आएंगे 2000 रुपये, सरकार ने किया Rft Sign, फटाफट चेक करें स्टेटस

5. पिछला प्रदर्शन कैसा रहा

अगर कोई फंड पहले अच्छा प्रदर्शन कर चुका है इसका मतलब यह नहीं है कि वह वह भविष्य में भी अच्छा प्रदर्शन करेगा. हालांकि, इससे एक उम्मीद जरूर जगती है.यह निश्चित रूप से एक महत्वपूर्ण कारक है जिसे जांचना आवश्यक है. कभी भी उस फंड में निवेश के लिए सोचें जो जिसका ट्रैक रिकॉर्ड अच्छा रहा हो. यह महत्वपूर्ण है कि फंड हाउस के पास मजबूत क्रेडेंशियल हो.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज